यूपी में एक बार फिर शुरू होगा मिशन रोजगार, लाखों को मिलेगा लाभ

योगी सरकार का दावा है कि 4 साल में करीब 4 लाख लोगों को रोजगार दिया जा चुका है। साल 2021 के अंत तक भी हजारों को सरकारी नौकरी देने का योजना है।

नई दिल्ली। सीएम योगी आदित्यनाथ और उनकी टीम—9 के ट्रेस, टेस्ट एण्ड ट्रीट के मंत्र से यूपी में कोरोनावायरस की दूसरी लहर कुछ हद तक संभाल गई है। नए संक्रमित मरीजों की संख्या में भारी कमी आई है। अब एक बार फिर से सीएम योगी का मिशन रोजगार शुरू हो गया है। अफसरों को निर्देश दिया गया है कि मिशन रोजगार को प्राथमिकता पर रखें और आर्थिक गतिविधियां तेज करें। उम्मीद की जा रही है कि सरकार की योजनाओं से साल के अंत तक लाखों लोगों को रोजगार मिलेगा। कोरोना की दूसरी लहर की वजह से लगाए गए प्रतिबंध से प्रदेश की आर्थिक स्थित में काफी गिरावट आई है। पर अब सरकार ने औद्योगिक गतिविधियों को भी तेज करने का फैसला लिया है। वैसे योगी सरकार का दावा है कि 4 साल में करीब 4 लाख लोगों को रोजगार दिया जा चुका है। साल 2021 के अंत तक भी हजारों को सरकारी नौकरी देने का योजना है।

यह भी पढ़ें : मोबाइल टावर की तरंगों से विलुप्त हो रही गौरैया, युवक ने घर में ही बना डाले 650 घोंसले

एक लाख महिलाओं को सरकारी नौकरी
सरकार का दावा है कि, अभी तक एक लाख से अधिक महिलाओं को सरकारी नौकरी मिली है। वहीं मनरेगा के जरिये 1.50 करोड़ श्रमिकों को रोजगार मिला है। इसके अलावा स्टार्ट अप इकाईयों से 5 लाख तथा औद्योगिक इकाइयों से 3 लाख से अधिक युवाओं को रोजगार मिला है। ओडीओपी के माध्यम से 25 लाख लोगों को रोजगार देने का सरकार दावा किया करती है।

नई उद्योग नीति से पांच लाख को रोजगार
यूपी की सरकार की नई उद्योग नीति से युवाओं के चेहरे खिले हैं। सरकार का दावा है कि 5 लाख से अधिक लोगों को इससे रोजगार मिला है। अमेजन, फ्लिपकार्ट, एकेटीयू, बीएसई जैसी कम्पनियों के उत्पादों की मार्केटिंग में यूपी के 65 हजार से ज्यादा व्यक्तियों को रोजगार दिलाया गया है। नोएडा में स्टेट डेटा सेंटर की स्थापना के बाद वहां लगभग 50 हजार से ज्यादा लोगों को रोजगार मिलेगा।

डाक्टरों की होगी भर्ती
कोरोना की तीसरी लहर की संभावना जताई जा रही है। इससे निपटने के लिए योगी सरकार पहले से ही तैयारियां कर रही है। बताया जा रहा है कि इस बार कोरोना का कहर बच्चों पर रहेगा। इसलिए यूपी सरकार 3620 विशेषज्ञ डॉक्टरों की भर्ती कर रही है। इनमें 600 पद बाल रोग विशेषज्ञ, 590 पद जनरल फिजिशियन और 590 जनरल सर्जन के अलावा रेडियोलॉजिस्ट, पैथोलोजिस्ट और ईएनटी विशेषज्ञ होंगे। इन सभी की अलग-अलग जनपदों में तैनाती की जाएगी।

जुलाई से मिलेगा डीए और बढ़ा वेतन
उत्तर प्रदेश राज्य कर्मचारियों का जनवरी 2020 से वेतन नहीं बढ़ा है। पर अब योगी सरकार ने राज्य कर्मचारियों को एक बड़ा तोहफा दिया है। सूबे के 15 लाख से अधिक कर्मचारियों को डीए और वेतन वृद्धि का लाभ मिलेगा। साथ ही 12 लाख से अधिक पेंशनरों को डीआर का लाभ मिलेगा। कर्मचारियों को अगले 7 महीने में तीन बार महंगाई भत्ते के साथ ही एक सालाना वेतन वृद्धि का भी लाभ मिलेगा। जुलाई 2021 में 11 फीसदी महंगाई भत्ता का लाभ कर्मचारियों को मिल सकता है। इससे सरकारी खजाने पर 3000 करोड़ रुपए का अतिरिक्त भार पड़ेगा। कोरोना काल में योगी सरकार ने राज्य के कर्मचारियों के महंगाई भत्ते को फ्रीज कर दिया था।

यह भी पढ़ें : अनलॉक दिल्ली : सोमवार से खुल सकते हैं साप्ताहिक बाजार, सैलून, पार्क, अरविंद केजरीवाल आज करेंगे ऐलान

रिटायर्ड कर्मचारियों का भी बढ़ेगा महंगाई भत्ता
इस महंगाई के दौर में खर्चा चलाना मुश्किल पड़ रहा है। यूपी सरकार के इस ऐलान के बाद जहां सरकारी कर्मचारियों को लाभ मिलेगा वहीं रिटायर्ड कर्मचारियों को भी महंगाई भत्ते में बढ़ोतरी से बड़ी राहत मिलेगी। आम तौर पर ये भी देखने को मिलता है जब सरकार महंगाई भत्ते का ऐलान कर देती है तो इसका असर प्राइवेट सेक्टर में भी देखने को मिलता है। कोरोना काल में सरकार ने जनवरी 2020 से लेकर जनवरी 2021 तक कर्मचारियों को मिलने वाले महंगाई भत्ते को रोक दिया था।

सुनील शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned