script लोजपा में पारस गुट के लिए राष्ट्रीय अध्यक्ष का चुनाव आज, चुनाव प्रक्रिया के जगह को लेकर शुरू हुआ विवाद | National President's election for Paras faction in LJP today | Patrika News

लोजपा में पारस गुट के लिए राष्ट्रीय अध्यक्ष का चुनाव आज, चुनाव प्रक्रिया के जगह को लेकर शुरू हुआ विवाद

locationनई दिल्लीPublished: Jun 17, 2021 07:20:42 am

Submitted by:

Ashutosh Pathak

नामांकन प्रक्रिया शुरू होने के बाद पशुपति कुमार पारस अपना नामांकन भरेंगे। शाम लगभग 3 बजे राष्ट्रीय अध्यक्ष के नाम की घोषणा की जा सकती है। हालांकि, बैठक और राष्ट्रीय अध्यक्ष के चुनाव की पूरी प्रक्रिया पटना स्थित पार्टी दफ्तर के बजाय लोक जनशक्ति पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष और राष्ट्रीय अध्यक्ष के चुनाव प्रभारी सूरजभान सिंह के कंकड़बाग स्थित आवास पर होगी।

 

ljp.jpg
नई दिल्ली।

लोक जनशक्ति पार्टी के लिए आज का दिन अहम साबित होने वाला है। पार्टी में पशुपति कुमार पारस गुट का राष्ट्रीय अध्यक्ष कौन होगा, इस बात पर मुहर लगेगी। इसके लिए पारस गुट की ओर से आज यानी गुरुवार को बैठक भी बुलाई गई है। राष्ट्रीय अध्यक्ष के चुनाव के लिए नामांकन प्रक्रिया गुरुवार सुबह 11 बजे शुरू होगी।
पार्टी सूत्रों के अनुसार, नामांकन प्रक्रिया शुरू होने के बाद पशुपति कुमार पारस अपना नामांकन भरेंगे। शाम लगभग 3 बजे राष्ट्रीय अध्यक्ष के नाम की घोषणा की जा सकती है। हालांकि, बैठक और राष्ट्रीय अध्यक्ष के चुनाव की पूरी प्रक्रिया पटना स्थित पार्टी दफ्तर के बजाय लोक जनशक्ति पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष और राष्ट्रीय अध्यक्ष के चुनाव प्रभारी सूरजभान सिंह के कंकड़बाग स्थित आवास पर होगी। वहीं, चुनावी प्रक्रियाएं पार्टी कार्यालय के बजाय किसी के घर आयोजित होने पर सवाल खड़े किए जा रहे हैं।
यह भी पढ़ें
-

लॉकडाउन में बेरोजगारी का असर! बिहार में शादी से पहले दूल्हे का अपहरण, पुलिस ने ऐसे जुटाया सुराग

वैसे, पार्टी ने इसको लेकर दलील भी दी है। मगर कुछ नेताओं का कहना है कि आमतौर पर पार्टी का संगठनात्मक चुनाव पार्टी कार्यालय में होता है, किसी के निजी आवास पर नहीं। इस पर पार्टी की ओर से सफाई देते हुए कहा गया है कि अभी कोरोना महामारी चल रही है। ऐसे में पार्टी कार्यकर्ताओं की भीड़ एकत्रित नहीं हो, इसके लिए चुनाव की प्रक्रिया अलग जगह आयोजित की जा रही है। यदि यह प्रक्रिया कार्यालय में आयोजित करते तो प्रदेशभर से कार्यकर्ता यहां आ जाते, जिससे संक्रमण का खतरा एक बार फिर बढ़ जाता। हालांकि, यह दलील ज्यादातर नेताओं के गले नहीं उतर रही।
यह भी पढ़ें
-

असम में हुई यूपी के बंदायू जैसी घटना, तो मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सरमा परिजनों से मिलने उनके घर पहुंच गए

बहरहाल, राजनीतिक विशेषज्ञों की मानें तो लोक जनशक्ति पार्टी में जब से फूट हुई है और विवाद बढ़ा है, तब से ही पार्टी चाचा यानी पशुपति कुमार पारस और भतीजे चिराग पासवान के बीच बंट गई है। दोनों ही गुट के कार्यकर्ता इन दिनों आक्रामक मुद्रा में हैं। ऐसे में पार्टी किसी और विवाद में नहीं फंसना चाहती। संभवत: इसी वजह से राष्ट्रीय अध्यक्ष पद के लिए चुनाव प्रकिया पार्टी कार्यालय की जगह सूरजभान के घर आयोजित हो रही है।

ट्रेंडिंग वीडियो