अब डेढ़ से 2 महीने में लगेगी कोविशील्ड वैक्सीन की दूसरी डोज, सरकार ने बताई ये वजह

केंद्र सरकार ने कोविशील्ड वैक्सीन की पहली और दूसरी डोज लेने के बीच के समय अंतराल को बढ़ाने का फैसला किया है। अब दूसरी डोज डेढ़ या 2 महीने बाद लगाई जाएगी।

नई दिल्ली। देश में जहां एक ओर तेजी के साथ कोरोना टीकाकरण अभियान चलाया जा रहा है, वहीं दूसरी ओर लगातार हर दिन बढ़ते कोरोना के नए मामलों ने चिंता भी बढ़ा दी है। इस बीच केंद्र सरकार ने कोविशील्ड वैक्सीन को लेकर एक बड़ा फैसला लिया है। दरअसल, सरकार ने वैक्सीन की पहली और दूसरी डोज के बीच के अंतराल को बढ़ाने का फैसला किया है।

सरकार ने कहा है कि कोविशील्ड वैक्सीन की दूसरी डोज अब कम से कम 6-8 सप्ताह बाद यानी कि डेढ़ से दो महीने बाद लगेगी। सरकार ने स्पष्ट तौर पर बताया है कि यह फैसला सिर्फ सीरम इंस्टीट्यूड ऑफ इंडिया (SII) द्वारा बनाई जा रही कोविशील्ड वैक्सीन पर ही लागू होगा, जबकि भारतबायोटेक की कोवैक्सीन की दूसरी डोज पहले की तरह ही सामान्य समय-सीमा के अंतराल में लगाई जाएगी।

यह भी पढ़ें :- PM के टीका लेने पर ओवैसी ने साधा निशाना, कहा- ‘64 साल से ज्यादा उम्र वालों के लिए फायदेमंद नहीं वैक्सीन’

केंद्र सरकार ने कहा है कि यह फैसला नेशनल टेक्निकल एडवाइजरी ग्रुप ऑन इम्युनाइजेशन (NTAGI) और एक्सपर्ट ग्रुप के निर्णय के आधार पर लिया गया है। बता दें कि मौजूदा समय में दोनों ही वैक्सीन की पहली और दूसरी डोज के बीच का अतंर 28 दिन का है।

देश में तेजी से किया जा रहा है टीकाकरण

आपको बता दें कि भारत ने दो स्वदेशी वैक्सीन को टीकाकरण के लिए मंजूरी दी है। एक SII द्वारा बनाई जा रही कोविशील्ड है, जबकि दूसरी भारत बायोटेक द्वारा बनाई जा रही कोवैक्सीन है। भारत में तेजी के साथ टीकाकरण किया जा रहा है। अब तक करीब 4.5 करोड़ खुराक लगाई जा चुकी है। इनमें से 3.5 करोड़ क पहली डोज, जबकि 75 लाख को दूसरी डोज भी लगाई जा चुकी है।

यह भी पढ़ें :- AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने लगवाया कोरोना टीका, पर नहीं बताया Covishield या Covaxin?

अभी हाल ही में मोदी सरकार ने SII को कोविशील्ड वैक्सीन की 10 करोड़ डोज तैयार करने का ऑर्डर दिया है। SII अब तक 6.5 करोड़ से अधिक डोज केंद्र सरकार को दे चुकी है। इसके अलावा भारत ने 76 से अधिक देशों को वैक्सीन भी उपलब्ध कराया है।

मालूम हो कि भारत में 16 जनवरी से टीकाकरण अभियान की शुरूआत हुई थी, जबकि दूसरे चरण का अभियान 1 मार्च से शुरू किया गया था। पहले चरण में जहां हेल्थ वर्कर्स, कोरोना वॉरियर्स, स्वास्थ्यकर्मियों आदि को टीका लगाया गया था, जबकि दूसरे चरण में 60 साल से अधिक वायुवर्ग के लोगों व 45 साल से अधिक उम्र के वे लोग जो गंभीर बीमारी से ग्रसित हैं उन्हें टीका लगाया जा रहा है।

Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned