scriptPirzada became the reason for discord in Congress, know why all partie | कांग्रेस में कलह की वजह बने पीरजादा, जानिए बंगाल में क्यों सभी दल उनसे मिलाना चाहते हैं हाथ | Patrika News

कांग्रेस में कलह की वजह बने पीरजादा, जानिए बंगाल में क्यों सभी दल उनसे मिलाना चाहते हैं हाथ

Highlights.

- पीरजादा अब्बास सिद्दीकी हुगली जिले में स्थित फुरफुरा शरीफ दरगाह के मौलाना हैं
- पश्चिम बंगाल में 31 प्रतिशत मुस्लिम वोटर हैं, जिन पर इस दरगाह का गहरा प्रभाव है
- माना जाता है कि ममता को मौलाना ने बनवाया था सीएम, इस बार उनकी दोस्ती कांग्रेस से है

 

नई दिल्ली

Published: March 03, 2021 09:21:08 am

नई दिल्ली।

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव की तैयारियां तेज हो गई हैं। सभी दल और गठबंधन एक दूसरे के प्रतिद्वंद्वी पर निशाना साध रहे हैं। मगर कांगे्रेस में स्थिति दूसरी है। यहां आपस में ही तकरार हो रही है। पार्टी नेताओं के खिलाफ ही सख्त बयानबाजी की जा रही है। अमूमन यह तकरार अलग-अलग मुद्दे पर होती रही है। इस बार मुद्दा एक मौलाना है, जिसे लेकर पार्टी के जी-23 में वाला गुट पार्टी हाइकमान पर जुबानी तीर छोड़ रहा है।
pirzada.jpg
जी-23 में शामिल आनंद शर्मा पश्चिम बंगाल मे पीरजादा अब्बास सिद््दीकी की पार्टी इंडियन सेक्युलर फ्रंट यानी आईएसएफ को कांग्रेस-वाममोर्चा गठबंधन में शामिल किए जाने पर खासे नाराज हैं। इससे पीरजादा को लेकर कांग्रेस उहापोह की स्थिति में है। आखिर क्या वजह है कि कांग्रेस आलाकमान पीरजादा को इतनी तवज्जो दे रहा है।
तेजस्वी यादव बंगाल में ममता बनर्जी और असम में बदरुदीन की पार्टी संग करेंगे गठबंधन

मुस्लिम मतदाता में पैठ
दरअसल, पश्चिम बंगाल में पीरजादा अब्बास सिद्दीकी हुगली जिले में फुरफुरा शरीफ दरगाह के प्रमुख हैं। उनकी मुस्लिम वोटरों में अच्छी पैठ है। बंगाल में लगभग 31 प्रतिशत मुस्लिम मतदाता हैं। माना जाता है कि राज्य में मुस्लिम मतदाता जिस दल की ओर झुकते हैं, करीब-करीब सत्ता उसी दल के हाथ होती है। ऐसे में यह जानना-समझना मुश्किल नहीं होना चाहिए कि बंगाल के राजनीतिक समीकरण में पीरजादा क्या महत्व है और राज्य में हर दल पीरजादा को इतनी तवज्जो क्यों दे रहा है।
ममता को पीरजादा ने सौँपी सीएम की कुर्सी!
हालांकि, कहा यह भी जाता है कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को सत्ता पर काबिज कराने में पीरजादा का अहम रोल रहा है। इस बात से खुद तृणमूल कांग्रेस के कई वरिष्ठ नेता भी इनकार नहीं करते, मगर खुलकर नहीं बोलते। बहरहाल, यह भी सही है कि अब पीरजादा ने खुद की पार्टी इंडियन सेक्युलर फ्रंट बनाने का ऐलान किया है। राज्य की राजनीतिक को करीब से जानने वाले यह भी कह रहे कि पीरजादा अब ममता दीदी से काफी नाराज हैं, इसलिए उन्होंने खुद की पार्टी बनाई है। वहीं, तृणमूल के कुछ नेता दबी जुबान में कहते हैं कि पीरजादा की महत्वाकांक्षा बढ़ती जा रही है। पार्टी बनाने का ऐलान करना इसी की एक कड़ी है।
दरगाह की भूमिका अहम
बंगाल के मुस्लिम समाज पर फुरफुरा शरीफ दरगाह की भूमिका अहम है। मुस्लिम समुदाय पर इसका गहरा प्रभाव है। वामपंथी सरकार के दौरान इसी दरगाह की मदद से ममता बनर्जी ने सिंगूर और नंदीग्राम जैसे बड़े आंदोलन किए और सत्ता हासिल की। वर्ष 2011 में ममता बनर्जी की धमाकेदार जीत के पीछे मुस्लिम वोटरों का बड़ा योगदान रहा है। बंगाल की 294 सीटों में से करीब 90 सीटों पर मुस्लिम समुदाय के वोटरों का अच्छा प्रभाव है। सूत्रों की मानें तो कुछ महीनों पहले पीरजादा और ममता बनर्जी के बीच किसी बात को लेकर मतभेद हो गया था। सिद्दीकी ने यह भी दावा किया है कि ममता बनर्जी ने मुख्यमंत्री रहते हुए मुस्लिम समुदाय की अनदेखी की है।
क्या कांग्रेस सत्ता में आ पाएगी?
बहरहाल, चर्चाएं ऐसी भी हैं कि कांग्रेस से गठबंधन से ठीक पहले यानी पिछले महीने जनवरी में आल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुसलमीन (एआईएमआईएम) के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी भी पीरजादा से मुलाकात कर चुके हैं। तब ओवैसी ने दावा किया था कि उन्हें फुरफुरा शरीफ दरगाह के मौलाना पीरजादा का समर्थन हासिल है। ममता से नाराजगी और ओवैसी से बात नहीं बनने के बाद ही पीरजादा ने कांग्रेस-वाममोर्चा का रुख किया होगा। मगर उनका जाना कांग्रेस में कलह की वजह बन गया है। अब देखना यह होगा कि अपनी ही पार्टी के वरिष्ठ नेताओं की नाराजगी मोल लेने के बाद क्या पीरजादा राज्य में कांग्रेस का सूखा खत्म करने में मददगार साबित होंगे?

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

'हर घर तिरंगा' अभियान में शामिल हुई PM नरेंद्र मोदी की मां हीराबेन, बच्‍चों के संग फहराया राष्‍ट्रीय ध्‍वज7,500 स्टूडेंट्स ने मिलकर बनाया सबसे बड़ा ह्यूमन फ्लैग, गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज हुआ नामबिहारः सत्ता गंवाते ही NDA के 3 सांसद पाला बदलने को तैयार, महागठबंधन में शामिल होने की चल रही चर्चा'फ्री रेवड़ी ' कल्चर व स्कूल के मुद्दे पर संबित्र पात्रा ने AAP को घेरा, कहा- 701 स्कूलों में प्रिंसिपल नहीं, 745 स्कूलों में नहीं पढ़ाया जाता विज्ञानPM मोदी ने कॉमनवेल्थ गेम्स में हिस्सा लेने वाले दल से मुलाकात की, कहा- विजेताओं से मिलकर हो रहा गर्वप्रियंका के बाद अब सोनिया गांधी भी दोबारा हुईं कोरोना पॉजिटिव, तेजस्वी यादव ने कल ही की थी मुलाकातजम्मू कश्मीर में टेरर लिंक मामले में बिट्टा कराटे की पत्नी समेत चार सरकारी कर्मचारी बर्खास्त2009 में UPSC किया टॉप, 2019 में राजनीति के लिए नौकरी छोड़ी, अब 2022 में फिर कैसे IAS बने शाह फैसल?
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.