PM Modi बोले- देश में 'आंदोलनजीवी' के रूप में आई नई जमात, FDI का बताया नया फुलफॉर्म

  • राज्यसभा में बोले PM Modi
  • बुद्धीजीवी के बाद अब देश में बढ़े 'आंदोलनजीवी'
  • FDI को लेकर बताया नया फुलफॉर्म

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ( PM Naredra Modi ) ने सोमवार को राज्यभा ( Rajyasabha ) को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने ना सिर्फ किसानों के हितों को लेकर अपनी बात रखी बल्कि विपक्ष पर चुटीले अंदाज में हमला बोला। इस दौरान पीएम मोदी ने देश में एक नई जमात होने के बात कही,जिसे उन्होंने आंदोलनजीवी बताया।

पीएम मोदी ने कहा कि हमलोग अभी तक बुद्धिजीवी लोगों को जानते थे, लेकिन अब कुछ लोग आंदोलनजीवी हो गए हैं। यही नहीं उन्होंने एफडीआई ( FDI) की नई परिभाषा भी बताई। यही नहीं पीएम मोदी ने किसानों से आंदोलन खत्म करने की अपील भी की और कहा कि मिलकर आगे बढ़ें।

पीएम मोदी ने कहा हमलोग अभी तक बुद्धिजीवी, श्रमजीवी जैसे लोगों को जानते थे, लेकिन अब कुछ लोग आंदोलनजीवी हो गए हैं।

महाराष्ट्र में उद्धव सरकार की आलोचना बीजेपी नेता को पड़ी महंगी, देखिए किस तरह शिवसैनिकों ने कर डाला बुरा हाल

आंदोलनजीवी ही परजीवी हैं
देश में कुछ भी हो वो वहां पहुंच जाते हैं। कभी पर्दे के पीछे और कभी फ्रंट पर खड़े हो जाते हैं। ये लोग आंदोलन के बिना नहीं रह सकते हैं। चाहे स्टूडेंट का आंदोलन हो या फिर मजदूरों ये लोग हर जगह पहुंच जाते हैं। ऐसे लोगों को पहचानकर हमें इनसे बचना होगा। ये आंदोलनजीवी ही परजीवी हैं, जो हर जगह मिलते हैं।

ये आंदोलन के बिना जी नहीं सकते, उसके लिए रास्ते खोजते रहते हैं। सबक जगह पहुंचकर गुमराह करते हैं। ऐसे लोग खुद कुछ नहीं करते, किसी ने कुछ किया तो वहां पहुंच जाते हैं।

पीएम मोदी ने राज्यसभा में बैठे सांसदों की ओर इशारा करते हुए कहां आप जहां-जहां सरकारें चलाते होंगे वहां ऐसे आंदोलनजीवी रूप परजीवियों का सामना करने को मिलता होगा।

एफडीआई का नया फुलफॉर्म
पीएम मोदी ने अपने भाषण में फॉरेन डिस इन्वेस्टमेंट का नया फुलफॉर्म भी बता डाला। चुटीले अंदाज में उन्होंने कहा कि अब आपको एफडीआई के बारे में तो सुना होगा, लेकिन अब देश में इसकी परिभाषा बदल रही है। अब एफडीआई यानी फॉरेन डिस्ट्रक्टिव आइडियोलॉजी हो गया है। दरअसल इसके जरिए उन्होंने विदेश हस्तियों के बयानों को भी आड़े हाथों लिया।

सारी गालियां मेरे खाते में
पीएम मोदी ने कहा कि वक्‍त आ गया है कि अब आंदोलनकारियों को समझाते हुए हमें आगे बढ़ना होगा। पीएम मोदी ने कहा गालियों को मेरे खाते में जाने दो लेकिन सुधारों को होने दो।

पीएम मोदी ने कहा कि बुजुर्ग आंदोलन में बैठे हैं, उन्हें घर जाना चाहिए। आंदोलन खत्म करें और चर्चा आगे चलती रहे। किसानों के साथ लगातार बात की जा रही है।

कृषि कानूनों को लागू करने का सही समय
अपने भाषण में कहा कि कृषि कानून अच्छे कानून हैं और इन्हें लागू करने का यह सही समय है। उन्होंने किसानों से आंदोलन खत्म करने की अपील की और कहा कि 'आंदोलनकारियों को समझाते हुए देश को आगे ले जाना होगा।

कृषि मंत्री लगातार काम कर रहे हैं। एक-दूसरे को समझने-समझाने की जरूरत है।'

मोदी है तो मौके लीजिए
पीएम मोदी ने विपक्ष पर भी चुटीले अंदाज में हमला बोला। उन्होंने कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद की तारीफ करते हुए कहा कि आजाद ने कभी असभ्य भाषा का इस्तेमाल नहीं किया। उनके जैसा सौम्य स्वभाव बहुत कम दिखाई देता है, लेकिन उनकी पार्टी ( कांग्रेस) की ओर से ऐसा स्वभाव नहीं दिखता।

पीएम मोदी ने कहा कि जो जो मनमोहन सिंह ने कहा वो मोदी को करना पड़ रहा है, आप गर्व कीजिए। संसद को जीवंत बनाकर रखिए मोदी है तो मौका लीजिए।

चमोली में मंडराया एक और बड़ा खतरा, पर्यावरण एक्सपर्ट्स का अलर्ट- हरिद्वार समेत कई शहरों मिट जाएगा नामोनिशान

लाल बहादुर खास्त्री को भी आई थी मुश्किलें
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सदन में लाल बहादुर शास्त्री जी का जिक्र करते हुए कहा, जब उनकी सरकार ने कृषि सुधार करने की पहल की उस वक्‍त भी उन्हें मुश्किलों का सामना करना पड़ा था।

pm modi PM Narendra Modi
Show More
धीरज शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned