मुजफ्फरपुर की सेंट्रल जेल से भागने की फिराक में थे कैदी, थोड़ी दूर पर ही पकड़ लिए गए

दो कैदी जो आगे थे और पहली दीवार को पार कर चुके थे, मगर दूसरी दीवार से पहले ही पानी मे फंस गए। उनकी इस हालत को देख पीछे रह गए तीन कैदी वापस अपनी बैरक में पहुंच गए।

 

नई दिल्ली।

देशभर में फैले कोरोना संक्रमण के बीच बिहार के मुजफ्फरपुर जिले से बड़ी खबर है। यहां शहीद खुदीराम बोस सेंट्रल जेल से पांच कैदियों ने भागने का प्रयास किया। हालांकि, दो कैदी जो आगे थे और पहली दीवार को पार कर चुके थे, मगर दूसरी दीवार से पहले ही पानी मे फंस गए। उनकी इस हालत को देख पीछे रह गए तीन कैदी वापस अपनी बैरक में पहुंच गए।

यह भी पढ़ें:- देश के इन आठ राज्यों पर मंडरा रहा जलवायु परिवर्तन का खतरा, जानिए किन राज्यों को रखा गया संवेदनशील सूची में

जेल प्रशासन के अनुसार, रविवार शाम पांच कैदी जेल से भागने की फिराक में थे। इसमें दो कैदी कांटी थाना क्षेत्र के समसपुर गांव निवासी जुम्मन मियां उर्फ कनकटवा और करजा थाना स्थित रक्शा गांव निवासी अभिषेक कुमार आगे थे। इन दोनों ने जेल की पहली दीवार पार कर ली, मगर दूसरी दीवार पार करने से पहले गड्ढे में पानी भरा था, जिसमें वह फंस गए। उनकी यह हालत देख पीछे से आ रहे बाकी तीन कैदियों ने भागने का इरादा छोड़ दिया और वापस अपनी बैरक में आ गए।

यह भी पढ़ें:- मुझे कोरोना वायरस मिल जाए तो फडणवीस के मुंह में डाल दूं- संजय

जेल प्रशासन को जुम्मन और अभिषेक के भागने की जानकारी जैसे ही लगी, तुरंत अलर्ट सीटी बजाकर बंदियों की तलाश की जाने लगी। इसके बाद दोनों को पकडक़र जेल परिसर में लाया गया।

वहीं, इस घटना को लेकर एक चर्चा यह भी है कि दोनों कैदी भागने में सफल भी हो गए थे। मुजफ्फरपुर के काली बाड़ी रोड पर एक शख्स ने दो कैदियों को भागते हुए देखा। इनमें एक शख्स हॉफ पैंट पहने हुए था, जबकि दूसरा सफेद रंग की शर्ट और पैंट पहने हुए था। शख्स ने पुलिस को इसकी सूचना दी, जिसके बाद उस क्षेत्र में तलाशी अभियान चलाया गया। पानी से भरे एक गड्ढे में दोनों कैदी छिपे हुए थे, जिसके बाद पुलिस उन्हें पकडक़र जेल परिसर में ले गई।

Ashutosh Pathak
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned