Punjab : चंडीगढ़-नांगल राजमार्ग पर लावारिस हालत में मिली मुख्तार अंसारी की एंबुलेंस, सबूत मिटाने की कोशिश

उत्तर प्रदेश पुलिस के रूपनगर पहुंचने से पहले पंजाब पुलिस ने तथाकथित मुख्तार अंसारी की एंबुलेंस को अपने कब्जे में लिया।

नई दिल्ली। बाहुबली से राजनेता बने मुख्तार अंसारी को लेकर चौंकाने वाली खबर सामने आई है। उत्तर प्रदेश पुलिस के रोपड़ पहुंचने से पहले मोहाली अदालत ले जाने के लिए इस्तेमाल की गई एम्बुलेंस पंजाब के रूपनगर जिले में चंडीगढ़-नांगल राजमार्ग पर एक ढाबे के नजदीक लावारिस हालत में मिली है। पंजाब पुलिस ने इस बात की पुष्टि कर दी है। फिलहाल, पुलिस ने एम्बुलेंस को अपने कब्जे में ले लिया है।

यह भी पढ़ें : Mukhtar Ansari को लेने यूपी से 100 पुलिसकर्मियों की टीम रवाना, इतने दिन तक रोपड़ जेल में रहा बाहुबली

सड़क किनारे मिली बाहुबली मुखतार अंसारी की एंबुलेंस

रूपनगर के डीएसपी टीएस गिल ने बताया है कि हमने एम्बुलेंस को अपने कब्जे में ले लिया है। इससे पहले उन्हें सूचना मिली थी कि उत्तर प्रदेश के पंजीकरण संख्या वाली एम्बुलेंस सड़क किनारे लावारिस हालत में खड़ी है। वहीं, सड़क किनारे एंबुलेंस लावारिश हालत मिलने की घटना को सबूत मिटाने की कोशिश माना जा रहा है।

दरअसल, बाहुबली नेता मुख्तार अंसारी को 2019 के कथित वसूली के एक मामले में एम्बुलेंस के जरिए रूपनगर जेल से मोहाली की एक अदालत में पेशी के लिए ले जाया गया था। मुख्तार अंसरी को मोहाली अदालत ले जाने के लिए जिस एंबुलेंस का इस्तेमाल किया गया था वो आज रूपनगर जिले के एक ढाबे के पास लावारिस हालात में मिली है।

यूपी की पुलिस टीम लेकर आएगी बांदा
सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर मुख्तार अंसारी को पंजाब की जेल से उत्तर प्रदेश की जेल में शिफ्ट किया जा रहा है। मुख्तार अंसारी को बांदा की जेल में हाई सिक्योरिटी में रखा जाएगा। 100 पुलिसकर्मियों की टीम पंजाब के लिए रवाना हो चुकी है। वहां से मुख्तार अंसारी को यूपी लेकर आएगी। मुख्तार अंसारी को जीपीएस लगे वज्र वाहन से लाया जाएगा।

यह भी पढ़ें : पंजाब का यूपी सरकार को पत्र, 8 अप्रैल तक ले लें मुख्तार अंसारी की कस्टडी

क्या है मामला
बता दें कि मुख्तार अंसारी को जिस एंबुलेंस के जरिए मोहाली कोर्ट में पेशी के लिए ले जाया गया था, उसका रजिस्ट्रेशन श्याम संजीवनी अस्पताल बाराबंकी के नाम से फर्जी रुप से दर्ज कराया गया था। एंबुलेंस का नंबर यूपी 41 एटी 7171 है। यूपी में एंबुलेंस सेवा प्रदान करने वाली कंपनी का बयान है कि मुख्तार अंसारी को मोहाली कोर्ट ले जाने वाली एंबुलेंस उत्तर प्रदेश के किसी भी सरकारी अस्पताल से नहीं जुड़ी है। जांच के दौरान अस्पताल की संचालक डॉ. अलका राय का नाम सामने आया था। साथ ही एआरटीओ की तहरीर पर अलका राय के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया था।

Dhirendra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned