जम्मू में अचानक पुलिस के निशाने पर आए रोहिंग्या, जानिए क्या बताई जा रही वजह

Highlights.
- जम्मू में कुछ रोहिंग्याओं के पास से पुलिस को अवैध दस्तावेज मिले
- इन फर्जी दस्तावेजों में आधार कार्ड और पासपोर्ट भी शामिल हैं
- पुलिस ने कुछ रोहिंग्याओं को हीरानगर उप जेल के होल्डिंग सेंटर भेजा है

 

नई दिल्ली।
काले बुर्के में एक महिला गोद में अपने छह महीने के बच्चे को लिए पैदल चली जा रही है। उसे नहीं पता कि कहां जाना है। महिला को चिंता है कि बच्चा छोटा है। रास्ते में उसे दूध कैसे पिलाया जाएगा। दूध की बोतल का इंतजाम कैसे होगा। गरम पानी कहां मिलेगा। पास में पैसे भी तो नहीं हैं। ये सारी चिंताएं मन में समेटे महिला बस पथरीले रास्ते पर चली जा रही है।

महिला के परिवार में तीन बच्चे हैं। वह बीते 9 साल से जम्मू में रह रही है। उसके मुताबिक, समझ में नहीं आ रहा कि पुलिस अचानक हमें तंग क्यों कर रही है। हमने तो कुछ किया भी नहीं है।

हांगकांग की सत्ता पर केवल 'देशभक्त' ही होंगे काबिज, जानिए चीन ने क्यों बनाई ऐसी नीति

कुछ रोहिंग्याओं के पास जांच में अवैध दस्तावेज मिले
वहीं, जम्मू-कश्मीर पुलिस के आईजी मुकेश सिंह के अनुसार, जम्मू में अवैध रूप से रह रहे, जिन अप्रवासियों के पास पासपोर्ट अधिनियम की धारा (3) के मुताबिक वैध यात्रा दस्तावेज नहीं थे, उन्हें हीरानगर के होल्डिंग सेंटर भेजा जा रहा है। वहीं, बीबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक, कि जम्मू-कश्मीर के गृह विभाग की फरवरी 2018 की एक रिपोर्ट के अनुसार, छह हजार 523 रोहिंग्या पांच जिलों में स्थित 39 कैंप में रहते हैं।

मोहल्ले में तनाव और निराशा का माहौल है
बहरहाल, पुलिस की इस कार्रवाई से जम्मू के विभिन्न कैंप में रह रहे रोहिंग्या अब डरे हुए हैं। जम्मू में भथिंडी के किरयानी तालाब मोहल्ले में तनाव और निराशा का माहौल है। यहां से कई रोहिंग्या को पुलिस ने पकडक़र कठुआ जिले की उप जेल हीरानगर के होल्डिंग सेंटर में भेज दिया है। जम्मू-कश्मीर पुलिस ने रोहिंग्या के खिलाफ अपनी कार्रवाई ऐसे समय की है, जब कुछ के पास से आधार कार्ड और पासपोर्ट जैसे फर्जी दस्तावेज बरामद हुए हैं।

किसान आंदोलन पर ब्रिटिश सांसदों को नहीं चाहते हुए भी करनी पड़ी चर्चा, जानिए क्या थी 'मजबूरी'

पुलिस ने पकड़ा तो बस्तियों के तमाम रोहिंग्या एकसाथ आ गए
पुलिस की ओर से कुछ रोहिग्याओं को पकड़े जाने के बाद बस्तियों के तमाम रोहिंग्या एकसाथ आ गए हैं। उनका कहना है कि हम सब एकसाथ जाएंगे, चाहे जहां भी जाना हो। किसी को भी अकेला नहीं छोड़ेगे। इनका कहना है कि जब तक हमारे देश म्यांमार में शांति बहाली नहीं हो जाती, हम वहां वापस नहीं जाएंगे। अगर भारत सरकार को हमसे कोई परेशानी है, तो हमें किसी दूसरे देश के हवाले कर दिया जाए, हम वहां चले जाएंगे। रोहिंग्याओं के मुताबिक, हम अपने देश जाने को तैयार हैं, बस थोड़ा वक्त दिया जाए। हो सकता है कि बीच में एक या दो व्यक्ति ने गलती की है, मगर इसकी सजा हम सबको नहीं दी जानी चाहिए।

Ashutosh Pathak
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned