scriptतीन राज्यों ने दिए स्कूल खोलने के आदेश, जानिए कब से बुलाया गया बच्चों को | school reopen date Three states have given orders to open schools | Patrika News

तीन राज्यों ने दिए स्कूल खोलने के आदेश, जानिए कब से बुलाया गया बच्चों को

locationनई दिल्लीPublished: Jul 23, 2021 08:19:50 am

Submitted by:

Ashutosh Pathak

आईसीएमआर ने भी पिछले दिनों स्कूल खोले जाने की वकालत की थी। ये स्कूल एसओपी का पालन करते हुए खोले जा सकते हैं।

 

school.jpg
नई दिल्ली।

देश में कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण की दूसरी लहर की गति धीमी पडऩे के बाद राज्य सरकारों ने स्कूल खोलने की कवायद शुरू कर दी है। आईसीएमआर ने भी पिछले दिनों स्कूल खोले जाने की वकालत की थी। फिलहाल राजस्थान, गुजरात और हिमाचल प्रदेश ने स्कूल खोलने का फैसला किया है।
राजस्थान सरकार ने आगामी 2 अगस्त से कक्षा एक से 12वीं तक के सभी स्कूल खोलने का फैसला किया है। वहीं, गुजरात में 26 जुलाई से स्कूल खोले जा रहे हैं। यहां अभी कक्षा 9 से 12वीं तक के छात्रों को बुलाया जा रहा है। हिमाचल प्रदेश में भी 2 अगस्त से दसवीं से 12वीं तक के स्कूल खोलने के आदेश जारी हो गए हैं, जबकि कक्षा पांच से कक्षा आठ तक के छात्र पढ़ाई से जुड़ी शंकाओं के समाधान के लिए स्कूल आ सकते हैं।
यह भी पढ़ें
-

भारत में 4 जुलाई से शुरू हो चुकी है तीसरी लहर! जानिए कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण पर क्या कह रहे विशेषज्ञ

हिमाचल प्रदेश सरकार ने 2 अगस्त से 10वीं,11वीं और 12वीं कक्षा के छात्रों के लिए हुए स्कूल खोलने की अनुमति दे दी है। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की अध्यक्षता में गुरुवार को हुई बैठक में यह फैसला लिया गया। इन कक्षाओं के लिए आवासीय और आंशिक आवासीय स्कूलों को भी शामिल किया गया है। ये स्कूल एसओपी का पालन करते हुए खोले जा सकते हैं।
वहीं, राजस्थान में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट मीटिंग में स्कूलों और अन्य शैक्षणिक संस्थानों को 2 अगस्त से खोले जाने पर सहमति बनी है। मीटिंग के बाद राज्य के शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने बताया कि कोरोना संकट के दौर में बच्चों के लिए बंद चल रहे स्कूल और कॉलेज के अलावा कोचिंग सेंटर 2 अगस्त से खोले जाएंगे।
यह भी पढ़ें
-

देश में शुरू हो गई तीसरी लहर, 13 राज्यों में बढ़ी संक्रमण दर बजा रही खतरे की घंटी

इसके अलावा, गुजरात सरकार ने कक्षा 9 से कक्षा 11 तक के स्कूलों को 26 जुलाई से खोलने का फैसला लिया है। हालांकि, इस दौरान 50 प्रतिशत छात्रों को ही स्कूल बुलाया जा सकेगा। यही नहीं, जो छात्र स्कूल आएंगे, उन्हें अपने अभिभावकों से लिखित सहमति भी स्कूल में देनी होगी। स्कूल आना अनिवार्य नहीं होगा और साथ में ऑनलाइन क्लॉस भी चलती रहेंगी।

ट्रेंडिंग वीडियो