scriptScientists claim that second wave of corona may peak in india by mid april | वैज्ञानिकों का दावा, देश में जल्द चरम पर पहुंच सकती है कोरोना की नई लहर | Patrika News

वैज्ञानिकों का दावा, देश में जल्द चरम पर पहुंच सकती है कोरोना की नई लहर

Coronavirus Second Wave In India: वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि अप्रैल के मध्य तक कोरोना की दूसरी लहर चरम पर पहुंच सकती है और मई के अतं तक धीमा पड़ सकता है।

नई दिल्ली

Updated: April 03, 2021 07:40:36 pm

नई दिल्ली। देश में एक बार फिर से कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों ने चिंताएं बढ़ा दी है। हर दिन हजारों की संख्या में नए मामले सामने आ रहे हैं और सैंकड़ों लोगों की मौत हो रही है। ऐसे में कई राज्यों में आंशिक तौर पर लॉकडाउन लगाया गया है और पूर्ण लॉकडाउन को लेकर मंथन जारी है।

corona.png
Scientists claim that second wave of corona may peak in india by mid april

इस बीच वैज्ञानिकों ने एक बड़ा दावा किया है। वैज्ञानिकों ने भविष्यवाणी की है कि भारत में अप्रैल के मध्य तक कोरोना की दूसरी लहर चरम पर हो सकती है। इसके बाद मई के अंत तक इसमें गिरावट देखी जा सकती है।

यह भी पढ़ें
-

AIIMS के प्रोफेसर ने बताया कोरोना केसों में बढ़ोतरी का कारण, अपनाने होंगे ये उपाय

एक गणितीय गणना, जिसका नाम SUTRA है, ने पिछले साल भविष्यवाणी की थी कि अगस्त में कोरोना संक्रमण का शुरूआती स्पाइक सितंबर तक बढ़ जाएगा और इस साल फरवरी में घट जाएगा। भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (IIT) कानपुर के एक वैज्ञानिक मनिंद्र अग्रवाल ने कोरोनो बीमारी में वर्तमान स्पाइक के बढ़ने के क्रम का अनुमान लगाने के लिए ये मॉडल लागू किया और पाया कि अप्रैल के मध्य में हर दिन संक्रमण के नए मामलों की संख्या चरम पर होने की संभावना है।

उन्होंने बताया है 'पिछले कई दिनों से, हमने पाया है कि एक उचित मौका है कि भारत में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर 15-20 अप्रैल के बीच कभी भी चरम पर हो सकते हैं और मई के अंत तक नाटकीय रूप से कमी देखी जा सकती है।'

पंजाब हो सकता है सबसे अधिक प्रभावित

वैज्ञानिकों ने भविष्यवाणी की है कि महाराष्ट्र के बाद कोरोना की दूसरी लहर में प्रभावित होने वाला सबसे पहला राज्य कुछ दिनों में पंजाब हो सकता है। हालांकि, अग्रवाल ने कहा कि हर दिन नए मामलों की संख्या में थोड़ा सा बदलाव जरूर देखने को मिलेगा, लेकिन अप्रैल के मध्य तक चरम पर बने रहने की संभावना है।

हरियाणा में अशोक विश्वविद्यालय से गौतम मेनन समेत वैज्ञानिकों द्वारा की गई स्वतंत्र गणना ने यह भी भविष्यवाणी की है कि कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर का उछाल अप्रैल के मध्य और मई के मध्य तक हो सकता है।

यह भी पढ़ें
-

Coronavirus in India: डरना जरूरी है या नहीं! टॉप 10 बातों में जानिए पूरी कहानी

अग्रवाल ने कहा कि कोरोवा महामारी के मामलों की भविष्यवाणी करने के लिए SUTRA मॉडल तीन मुख्य मापदंडों पर आधारित है। पहला मापदंड बीटा या संपर्क दर है। इसके जरिए ये पता किया जाता है कि एक संक्रमित व्यक्ति प्रति दिन कितने लोगों को संक्रमित करता है।

दूसरा मापदंड संक्रमण की पहुंच है। यानी कि कितनी आबादी तक महामारी पहुंच चुका है और तीसरा 'एप्सिलॉन' है जो कि पता लगाए गए और अनिर्धारित कोरोना संक्रमण के मामलों का अनुपात है।

आपको बता दें कि स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक, पिछले 24 घंटों में भारत में कोरोना संक्रमण के 89,129 नए मामले दर्ज किए गए हैं, वहीं इसी अवधि में 714 लोगों की मौत हुई है। इसके साथ ही देश में अब तक संक्रमितों की संख्या बढ़कर 12,392,260 हो गई है, जबकि मरने वालों का आंकड़ा बढ़कर 164,110 हो गया है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

इसलिए नाम के पीछे झुनझुनवाला लगाते थे Rakesh Jhunjhunwala, अकूत दौलत के बावजूद अधूरी रह गई एक ख्वाहिशRakesh Jhunjhunwala Net Worth: परिवार के लिए इतने पैसे छोड़ गए राकेश झुनझुनवाला, एक दिन में कमाए थे 1061 करोड़राजस्थान के जालोर में दलित छात्र की मौत के बाद तनाव, इंटरनेट सेवा बंद, अलर्ट पर प्रशासनपिता ने नहीं दिए पैसे, फिर भी मात्र 5000 के निवेश से कैसे शेयर बाजार के किंग बने राकेश झुनझुनवालासिर पर टोपी, हाथों में तिरंगा; आजादी का जश्न मनाते दर्जनों मुस्लिम बच्चों का ये वीडियो कहां का है और क्यों वायरल हो रहा है?Rakesh Jhunjhunwala Faith in Sati Dadi Temple: झुंझुनूं की राणी सती दादी मंदिर में थी राकेश झुनझुनवाला की गहरी आस्था'आजादी के अमृत महोत्सव' के तहत भारत-पाकिस्तान सीमावर्ती 30 गांवों के विकास के लिए शुरू हुई अनूठी पहलRajasthan: तीसरी कक्षा के दलित छात्र को निजी स्कूल के शिक्षक ने पानी का कंटेनर छूने को लेकर पीटा, मौत के बाद तनाव, इंटरनेट सेवा बंद
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.