आग से इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया को 1000 करोड़ का नुकसान : पूनावाला

- प्लांट में लगी आग से कोविशील्ड की उत्पादन सुविधाओं को कोई नुकसान नहीं पहुंचा ।
- जिस बिल्डिंग में आग लगी थी, वहां भविष्य में बीसीजी और रोटा वायरस का टीका बनाने की तैयारी चल रही थी।

 

पुणे। वैक्सीन निर्माता सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के उत्पादन प्लांट में गुरुवार को लगी आग से कंपनी को एक हजार करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है। यह बात सीरम के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अदार पूनावाला ने कही। पूनावाला ने बताया कि प्लांट में लगी आग से कोविशील्ड की उत्पादन सुविधाओं को कोई नुकसान नहीं पहुंचा है। पूरी क्षमता के साथ वैक्सीन बनाई जा रही है। जिस बिल्डिंग में आग लगी थी, वहां भविष्य में बीसीजी और रोटा वायरस का टीका बनाने की तैयारी चल रही थी। उन्होंने कहा, जिन पांच मजदूरों की मौत हुई है, उनके परिजनों की जिम्मेदारी कंपनी की है। कंपनी पहले ही प्रत्येक मृतक के परिवार को 25-25 लाख रुपए मुआवजा देने की घोषणा कर चुकी है।

जांच के बाद पता चलेगा कारण: उद्धव
महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने शुक्रवार को सीरम के उत्पादन परिसर का दौरा किया और प्लांट में आग से हुए नुकसान का जायजा भी लिया। एक सवाल के जवाब में सीएम उद्धव ने कहा कि जांच रिपोर्ट मिलने के बाद ही पता चलेगा कि आग लापरवाही से लगी या इसकी और वजह है।

आग के बाद: सीएम ने किया निरीक्षण-
पुणे. महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे ने शुक्रवार को सीरम इंस्टीट्यूट का दौरा किया। साथ में आदित्य ठाकरे भी थे। गुरुवार को यहां आग लग गई थी।

1.10 करोड़ टीके की आपूर्ति -
पूनावाला ने बताया कि पहले चरण के टीकाकरण कार्यक्रम के लिए कंपनी कोविशील्ड की 1.10 करोड़ डोज उपलब्ध करा चुकी है। केंद्र सरकार के कहने पर कुछ अन्य देशों को भी वैक्सीन भेजी गई है। सीरम इंस्टीट्यूट की वैक्सीन उत्पादन सुविधा पुणे के मंजरी इलाके में है। कंपनी का यह परिसर 100 एकड़ क्षेत्र मेें फैला है। भविष्य की जरूरतें पूरी करने के लिए इसी परिसर में आठ-नौ नई बिल्डिंग बनाई जा रही हैं।

विकास गुप्ता
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned