Pawan Kalyan: ब्लैक बेल्ट हैं साउथ के ये पावर स्टार, जनसेना पार्टी से है खास कनेक्शन

  • 1996 में पवन कल्याण ने की फिल्मी करियर की शुरुआत
  • 2014 में जनसेना पार्टी से राजनीति में रखा कदम
  • पवन कल्याण ने 16 वर्ष में तीन शादियां कीं

नई दिल्ली। तेलुगू फिल्मों के पावर स्टार कहे जाने वाले पवन कल्याण ( Pawan Kalyan ) दक्षिण फिल्मों के बेहतरीन अभिनेताओं में शुमार हैं। पवन कल्याण ने अभिनेता, निर्देशक से लेकर राजनीति तक हर क्षेत्र में अपनी एक अलग पहचान बनाई। बतौर अभिनेता उन्होंने कई सुपरहिट फिल्में बॉक्स ऑफिस को दीं। हालांकि निर्देशन के क्षेत्र में वे कुछ छाप नहीं छोड़ पाए। लेकिन राजनीति में एक बार फिर उन्होंने अपनी पावर बखूबी दर्शाई। पवन कल्याण का 2 सितंबर को जन्मदिन ( Pawan Kalyan Birthday ) हैं। उनके 49वें जन्मदिन पर आईए जानते हैं पवन कल्याण के अब तक के सफर पर एक नजर।

पवन कल्याण का जन्म 2 सितंबर 1971 को आंध्र प्रदेश के बापटला में हुआ था। उनका वास्तविक नाम कोनिदेला कल्याण बाबू है। उनके पिता का नाम कोनिडेला वेंकट राव और उनकी मां का नाम अंजना देवी था। साउथ फिल्मों के सुपर स्टार चिरंजीव पवन के बड़े भाई हैं। इसके साथ ही उनके एक और भाई नागेंद्र हैं।
मार्शन आर्ट की एक प्रस्तुति के बाद कोनिदेला से उन्होंने अपना नाम बदलकर पवन रखा। पवन कराटे में ब्लैक बेल्ट भी हैं।

मौसम विभाग ने जारी किया सबसे बड़ा अलर्ट, देश के इन राज्यों में अगले कुछ घंटों में होगी जोरदार बारिश

pawan-kalyan-jpg.jpg

16 वर्ष में तीन बार की शादी
पवन ने 16 वर्ष की अवधि में तीन बार शादी की है। उन्होंने 1997 में नंदिनी से शादी की, जो 1999 तक ही चल पाई । फिर 2009 में पवन रेणु देसाई के साथ विवाह बंधन में बंधे। लेकिन शादी भी ज्यादा दिन नहीं चली। इसके बाद पवन ने 2013 में विदेशी युवती एना लेझनेवा से विवाह कर लिया।

दूसरी पत्नी रेणु देसाई से उनके दो बच्चे थे और अन्ना लीझनेवा के साथ दो और बच्चे हैं। इसके साथ ही पवन कल्याण अभिनेता राम चरण, वरुण तेज, अल्लू अर्जुन और साई धर्म तेज के चाचा भी हैं।

पवन के फिल्मी करियर की बात करें तो उन्होंने 1996 में 'अक्कदा अम्मांई इक्कादा अब्बाई' नामक तेलुगु फिल्म के शुरुआत की। इसके बाद जी.वी.जी. राजू प्रोडक्शन फिल्म 'गोकुलमो सेठा' जो तमिल फिल्म 'गोकुलथिल सेठई' का तमिल रीमेक थी।

1998 में पवन की फिल्म 'थोली प्रेमा' प्रदर्शित हुई और इस फिल्म से उन्होंने फिल्म उद्योग में अपनी जड़ें जमाना शुरू कर दी। इस फिल्म में पवन को शानदार अभिनय के लिए 'नेशनल अवार्ड' और 6 नंदी अवार्ड भी जीते। इस फिल्म के बाद, उनकी अभिनय प्रतिभा को फिल्म निर्माता और निर्देशकों ने स्वीकार कर लिया। 2001 में, वह “पेप्सी” के ब्रांड एंबेसडर बने। उनकी फिल्म 'कुशी' भी सुपर हिट रही।

2003 में वे फिल्म “जॉनी” में दिखाई दिए, जो कल्याण द्वारा लिखित और निर्देशित भी थी। वीरा शंकर ने फिल्म “गुडंबा शंकर-2004” निर्देशित की, जिसमें उन्होंने फिल्म की पटकथा, कोरियोग्राफी को संभालने में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है और फिल्म के एक्शन सीक्वेंस को भी नियंत्रित किया है। 2015 में गब्बर सिंह की जो टॉलीवुड में सबसे ज्यादा कमाई वाली दूसरी फिल्म रही। उनकी पहली सबसे बड़ी व्यावसायिक हिट फिल्म 2016 में 'अन्नवरम' थी।

जम्मू-कश्मीर में भारतीय सेना के जवानों को मिली बड़ी कामयाबी, बड़ी आंतकी साजिश को किया नाकाम

narendramodi-with-pawan-kalyan_650_052214114802.jpg

जनसेना पार्टी से राजनीति में कदम
साउथ के अन्य अभिनेताओं की तरह पवन कल्याण ने भी राजनीति में कदम रखा। पवन कल्याण ने वर्ष 2014 में राजनीति में पहली सीढ़ी चढ़ी। पवन ने जनसेना नाम से पार्टी बनाई और राजनीतिक सफर की शुरुआत की। पवन की पार्टी जनसेना ने इसी वर्ष भारतीय जनता पार्टी से हाथ मिलाया। दोनों पार्टियां स्थानीय चुनाव और 2024 में होने वाले लोकसभा चुनाव में साथ लड़ेंगी। आपको बता दें कि 2019 में जनसेना पार्टी ने बहुजन समाज पार्टी और लेफ्ट के साथ मिलकर चुनाव लड़ा था।

Show More
धीरज शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned