कोरोना मामलों में अचानक बढ़ोतरी सामुदायिक संक्रमण का संकेत, क्या देर-सबेर सभी होंगे संक्रमित?

  • भारत में कोरोना ( Coronavirus ) संक्रमित हुए लोगों का आंकड़ा बढ़कर 1 लाख 25 हजार से अधिक
  • स्वास्थ्य मंत्रालय ( Ministry of Health ) ने कहा कि देश में अब तक कोविड-19 संक्रमण से 3 720 की मौत

नई दिल्ली। भारत में कोरोना वायरस ( Coronavirus in india ) महामरी से संक्रमित हुए लोगों का आंकड़ा बढ़कर 1 लाख 25 हजार से अधिक हो गया है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ( Union Ministry of Health ) ने इस बात की जानकारी दी। स्वास्थ्य मंत्रालय ने शनिवार को अपनी नवीनतम रिपोर्ट में कहा कि देश में अब तक 1 लाख 25 हजार 101 लोग कोविड-19 संक्रमण ( Coronavirus Infection ) से संक्रमित हुए हैं, जिनमें से 3 हजार 720 लोगों की मौत हो गई है।

रेलवे का ऐलान— अगले 10 दिनों में चलेंगी 2600 श्रमिक स्पेशल ट्रेनें, 36 लाख प्रवासियों को पहुंचाएंगी घर

11111.png

कोरोना वायरस के मामलों में आचनक हुई बढ़ोतरी को देखते हुए विशेषज्ञों का कहना है कि देश में सामुदायिक संक्रमण की शुरुआत हो चुकी है।

विशेषज्ञों का मानना हे कि अभी सामुदायिक संक्रमण की गति काफी धीमी है। लेकिन जैसे ही लॉकडाउन खुलेगा और लोगों की आवाजाही शुरू होगी तो कोरोना के मामलों में अचानक बड़ा उछाल देखने को मिलेगा।

ऐसे में भारत को कामयाबी तभी मिल सकती है, जब कोरोना संक्रमण की गति को तेज न होने दिया जाए।

हालांकि सरकार अभी तक यह मानने को तैयार नहीं है कि देश में सामुदायिक संक्रमण की शुरुआत हो चुकी है।

विमानन मंत्री हरदीप सिंह पुरी का बड़ा बयान- Arogya Setu App में ग्रीन स्टेटस दिखा तो क्वारंटीन करने की जरूरत नहीं

111.png

देर-सबेर सब होंगे बीमार
एक मीडिया रिपोर्ट में प्राइमस हॉस्पिटल के मेडिसिन विभाग के हेड डॉक्टर अनुराग सक्सेना के हवाले से बताया गया कि देश कोरोना के केसों में रहे उछाल को देखकर माना जा सकता है कि सामुदायिक संक्रमण का पहला चरण शुरू हो चुका है।

डॉक्टरों का तो यहां तक कहना है कि सभी लोगों को इसके लिए तैयार रहना चाहिए है कि उनको भी कभी न कभी कोरोना संक्रमण होगा।

इससे हमारी बॉडी के भीतर हर्ड इम्यूनिटी डेवलप होगी, जो भविष्य में लोगों के लिए रक्षा कवच का काम करेगी।

पत्रिका से खास बातचीत में अनुराग ठाकुर ने खींचा 'AatmaNirbhar Bharat' का खाका, जाने कैसा होगा भविष्य का भारत?

1.png

चपेट में आएंगे गांव भी

कैलाश अस्पताल के वरिष्ठ डॉक्टर सुधीर गुप्ता के अनुसार आने वाले दिनों में गांवों में भी कोरोना का डरावना रूप दिखाई देगा, इसके पीछे सबसे बड़ी वजह लाखों की संख्या में प्रवासी श्रमिकों की घर वापसी है।

डॉक्टर गुप्ता की मानें तो सबसे बुरा हाल उत्तर प्रदेश और बिहार जैसे राज्यों का होगा, क्योंकि इन राज्यों में हेल्थ केयर सिस्टम उतना मजबूत नहीं है जितना कि दक्षिण भारत के राज्यों में।

यही वजह है कि केरल और आंध्र पद्रेश जैसे राज्य इससे निपटने में सफल रहेंगे।

कांग्रेस ने कोरोना महामारी के मोर्चे पर मोदी सरकार को बताया विफल, विपक्षी दलों ने रखी 11 मांगे

11.png

अभी सामान्य स्तर पर कोरोना की दर

डॉक्टर सुधीर गुप्ता के अनुसार बेशक कोरोना वायरस के केसों में बढ़ोतरी हो रही है, लेकिन अभी इसकी दर केवल 5-6 प्रतिशत पर ही रुकी हुई है।

इस हिसाब से कोरोना की दर अभी सामान्य के आसपास ही है, लेकिन यह दर अगर बढ़ी तो देश का हेल्थ केयर सिस्टम लोगों को इलाज देने में हांफ जाएगा।

PM मोदी ने किया बंगाल और ओडिशा के 'Cyclone Amphan' प्रभावित क्षेत्रों का सर्वे, 1500 करोड़ की मदद का ऐलान

1111.png

WHO में भारत को मिली बड़ी जिम्मेदारी, डॉ. हर्षवर्धन ने संभाली कार्यकारी बोर्ड की कमान

फ्लैटन द कर्व कब ?

विशेषज्ञों की मानें तो भारत में अभी तक कोरोना का पीक देखने को नहीं मिला है। कोरोना का चरम स्तर इस बात पर आधारित होता है कि अभी तक इसके अधिकतम कितने केस दर्ज किए गए हैं।

जबकि इसका अनुमान केवल टेस्टिंग के स्तर से ही लगाया जा सकता है।

मौजूदा हालातों में देश में कोरोना के छह हजार तक केस पकड़ में आए हैं, लेकिन अगर टेस्टिंग बढ़ा दी जाए तो हो सकता है कि इससे कहीं ज्यादा मामलों की संख्या देखने को मिले।

कोरोना वायरस समाचार कोरोना वायरस Coronavirus in india Coronavirus In India in Hindi
Show More
Mohit sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned