Uttarakhand flood: हाइड्रो प्रोजेक्ट की सुरंग में फंसे लोग को निकालने का काम सातवें दिन भी जारी रहा

Highlights

  • बैराज स्थल पर लापता लोगों की तलाश कर रहे आइटीबीपी के जवान।
  • निमार्णधीन हाइड्रो प्रोजेक्ट की सुरंग में अभी भी 34 लोगों को निकालने का काम जारी है।

नई दिल्ली। चमोली जिले के तपोवन में एनटीपीसी के निमार्णधीन हाइड्रो प्रोजेक्ट की सुरंग में अभी भी 34 लोगों को निकालने का काम जारी है। रेस्कयू सातवें दिन भी जारी रहा। सुंरग में आगे की ड्रिलिंग के लिए नई मशीनें लाई गईं। वहीं, डीजीपी अशोक कुमार के अनुसार एनटीपीसी ने छोटी सुरंग के अंदर मलबे को हटाने के लिए शाफ्ट खुदाई की।

जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन संशोधन विधेयक पारित, आठ मार्च तक लोकसभा स्थगित रहेगी

वह इस पर काम कर रहे हैं। बड़ी सुरंग के लिए भी काम किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि कल एक शव बरामद होने के बाद हरिद्वार तक खोज को बढ़ाया गया है। एनटीपीसी के अनुसार, सुरंग के अंदर खुदाई 136 मीटर तक की गई है। खुदाई करने वालों को रैनी गांव में रखा गया है।

अब तक 38 शव और 18 मानव अंग मिले

चमोली के रेणी और तपोवन क्षेत्र में आपदा के बाद अभी तक कुल 38 शव और 18 मानव अंग अलग-अलग जगहों से मिले हैं। 12 शवों और एक मानव अंग की शिनाख्त की गई है। जिन शवों की शिनाख्त नहीं हो पाई है,उन सभी का डीएनए संरक्षित किया गया है। कोतवाली जोशीमठ पर 14 व्यक्तियों की गुमशुदगी दर्ज की जा चुकी है। 41 परिजनों के डीएनए संरक्षित किए गए हैं।

Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned