Unlock-4 : 1 सितंबर से शुरू हो सकती है मेट्रो, एक हफ्ते चलेगा ट्रायल, सबसे पहले इन लोगों को मिलेगा सफर का मौका

  • Metro Service Resume From 1st September : पांच महीनों से मेट्रो का परिचालन था बंद, यात्रियों की सहूलियत के लिए दोबारा शुरू हो सकती है सेवा
  • स्मार्ट कार्ड धारकों को ही सफर करने की होगी अनुमति, टोकन काउंटर रहेंगे बंद

By: Soma Roy

Published: 25 Aug 2020, 10:54 AM IST

नई दिल्ली। कोरोना महामारी (Coronavirus Pandemic) के चलते मेट्रो का संचालन पिछले पांच महीनों से बंद है। दिल्ली-एनसीआर में मेट्रो यहां की लाइफलाइन है। हजारों लोग रोजाना इसी के जरिए यात्रा करते थे। मगर मेट्रो सेवा (Metro Service) बंद रहने के चलते लोगों को आने-जाने में दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। ऐसे में मेट्रो सेवा को 1 सितंबर से दोबारा शुरू किए जाने की संभावना है। हालांकि महामारी के प्रकोप को देखते हुए एक हफ्ते महज ट्रायल होगा। इसके बाद समीक्षा की जाएगी। चीजें सही पाए जाने के बाद भी ही इसे रेगुलर किया जाएगा। यात्रा को लेकर कुछ मानक भी निर्धारित किए गए हैं, जिससे संक्रमण का खतरा न रहें। तो कौन-से हैं वो नियम आइए जानते हैं।

महज इमरजेंसी सेवा से जुड़े लोगों को मौका
माना जा रहा है कि मेट्रो का परिचालन 1 सितंबर से दोबारा शुरू होगा, लेकिन पहले फेज में हर किसी को इसमें सफर का मौका नहीं मिलेगा। एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक पहले चरण में सिर्फ सरकारी कर्मचारियों एवं इमरजेंसी सेवा से जुड़े लोगों को ही यात्रा करने का मौका दिया जाएगा। उसके एक सप्ताह बाद इसकी समीक्षा होगी। मानकों का ठीक से पालन होने पर मेट्रो सेवा दूसरे यात्रियों के लिए भी बहाल की जाएगी।

स्मार्ट कार्ड से कर सकेंगे यात्रा
वैसे तो मेट्रो में सफर करने के लिए कार्ड (Smart Card) एवं टोकन दोनों सुविधाएं रहती हैं। मगर कोरोना संक्रमण को देखते हुए मेट्रो का परिचालन दोबारा शुरू होने पर सिर्फ स्मार्ट कार्ड रखने वाले यात्रियों को ही मेट्रो में सफर का मौका मिलेगा। भीड़—भाड़ को नियंत्रित करने के लिए फिलहाल स्टेशन पर टोकन काउंटर व टिकट वेंडिग मशीन बंद रहेंगे।

30 सेकेंड ज्यादा रुकेगी मेट्रो
मेट्रो के किसी स्टेशन पर रुकते ही यात्रियों के चढ़ने-उतरने में धक्का-मुक्की न हो और डिस्टेंसिंग का पर्याप्त रूप से पालन हो इसके लिए मेट्रो ट्रेन हर स्टेशन पर पहले की तुलना में 30 सेकेंड ज्यादा रुकेगी। इससे ट्रेन में चढ़ने व उतरने के लिए पर्याप्त समय मिल सकेगा।

एक कोच में 50 लोगों को अनुमति
मेट्रो के अंदर सोशल डिस्टेंसिंग मेनटेन करने के लिए दो यात्रियों के बीच एक सीट खाली रहेगी। एक कोच में अधिकतम 50 लोग ही सफर कर पाएंगे। यात्रियों को ट्रैवल के दौरान मास्क लगाना और गल्व्स पहनना अनिवार्य होगा। इसके अलावा यात्रियों को अपने मोबाइल में आरोग्य सेतू ऐप डाउनलो करना जरूरी होगा। अगर किसी में सर्दी-जुकाम या बुखार जैसे लक्षण पाए गए तो उसे यात्रा नहीं करने दिया जाएगा।

Coronavirus Pandemic
Show More
Soma Roy
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned