ओडिशा ने किया कोरोना वायरस का शानदार प्रबंधन, WHO ने की जमकर तारीफ

  • साइक्लोन अंफान और प्रवासियों की वापसी के बावजूद ओडिशा ( Odisha ) का शानदार काम।
  • विश्व स्वास्थ्य संगठन ( World Health Organisation ) ने अपनी वेबसाइट पर एक लेख में ओडिशा की जमकर प्रशंसा की।
  • कोरोना से जंग में ओडिशा सरकार की योजनाएं, प्रयास और तरीके रहे बेहतरीन।

नई दिल्ली। साइक्लोन अंफान के बाद लागू लॉकडाउन के दौरान भारी संख्या में प्रवासियों की वापसी के बावजूद बेहतरीन ढंग से कोरोना वायरस का प्रबंधन करने को लेकर विश्व स्वास्थ्य संगठन ( World Health Organisation ) ने ओडिशा ( Odisha ) सरकार की प्रशंसा की है। WHO की वेबसाइट पर प्रकाशित "शासन से सामुदायिक लचीलापन: ओडिशा की COVID-19 प्रतिक्रिया" शीर्षक से एक लेख में राज्य सरकार की प्रशंसा की गई है, जिसमें ओडिशा ने कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के उपायों के साथ-साथ मरीजों का प्रभावी ढंग से प्रबंधन करना भी शामिल है।

Coronavirus Vaccine के अधिकतम दाम हुए तय, सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने दी जानकारी

लेख के मुताबिक, "सोशल डिस्टेंसिंग के उपायों का पालन करते हुए फंसे हुए लोगों को सुरक्षित बाहर निकालना चुनौतीपूर्ण था, लेकिन आपदा प्रबंधन में राज्य के अनुभव ने स्थिति को संभालने में मदद की। पंचायती राज संस्थाओं और समुदाय आधारित प्रतिक्रिया रणनीति के सहयोग से प्रभावी शासन ने लचीले राज्य को वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सक्षम किया।"

लेख में कहा गया है कि राज्य की COVID-19 प्रबंधन रणनीति प्रवासियों की आमद के बावजूद नए मामलों को कम रखने के लिए महत्वपूर्ण अंतर्दृष्टि प्रदान करती है। यह उन अन्य प्रमुख विशेषताओं को भी उजागर करता है जिसके परिणामस्वरूप यहां मामलों की संख्या कम है, जिसमें ओडिशा 13 मार्च को कई सार्वजनिक स्थानों को बंद करने का आदेश देने वाला देश का पहला राज्य भी था। हालांकि उस वक्त तक राज्य में एक भी मामला दर्ज नहीं किया गया था।

इसके अलावा, जब 15 मार्च को पहला मामला दर्ज किया गया था, "राज्य नियंत्रण कक्षों को चालू कर दिया गया था; तैयारियों और प्रतिक्रिया गतिविधियों के लिए जिला स्तर के स्वास्थ्य अधिकारियों का क्षमता निर्माण और हाथ धोने व सांस लेने के सही तरीकों पर जन जागरूकता अभियान पहले ही शुरू किए गए थे।"

1 अक्टूबर से Unlock 5.0 के लिए क्या घोषणाएं कर सकती है सरकार

यह लेख सोशल डिस्टेंसिंग, क्षमता निर्माण, आइसोलेशन, इलाज और जागरूकता अभियान चलाने के लिए समर्पित टीमों के आवंटन और तेजी से निर्णय लेने और के लिए मंत्रियों के अधिकार प्राप्त समूह के साथ एक मजबूत शासन ढांचा तैयार करने के निर्णय को भी प्रभावित करता है। लेख के अनुसार यह टीमें स्वास्थ्य और परिवार कल्याण विभाग के समन्वय में कार्य करती हैं।

कलिंगा इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज के साथ एक सप्ताह के रिकॉर्ड समय सीमा के भीतर देश के पहले 1,000 बेड वाले डेडिकेटेड COVID अस्पताल की स्थापना के लिए ओडिशा स्थित डब्ल्यूएचओ कंट्री ऑफिस फॉर इंडिया के उप-क्षेत्रीय टीम लीडर डॉ. निहार रे को भी प्रशंसा मिली। इसके साथ ही सभी जिलों में स्थापित 30 समर्पित जिला COVID अस्पतालों (DCH) के साथ-साथ मॉडल COVID अस्पतालों के रूप में स्थापित SUM अस्पताल भी प्रदेश के बेहतरीन कोरोना वायरस प्रबंधन का प्रमुख उदाहरण है। इनमें से 17 अस्पताल सरकार, निजी अस्पतालों और वित्त निगमों के साथ त्रिपक्षीय समझौते में काम कर रहे हैं।

अमित कुमार बाजपेयी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned