Coronavirus Vaccine के अधिकतम दाम हुए तय, यह होगी कीमत

  • सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया, गेट्स फाउंडेशन और गावी के साथ मिलकर कर रहा है काम।
  • निर्माण में जुटे सभी सहयोगी संगठनों द्वारा एक टीके की अधिकतम कीमत कर ली गई है तय।
  • दुनिया भर में कोरोना वैक्सीन की तेजी से उपलब्धता सुनिश्चित करने पर सभी संगठनों का पूरा जोर।

नई दिल्ली। कोरोना वैक्सीन के निर्माण में जुटे दुनिया के तमाम संगठनों में से एक सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया को गावी और बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन द्वारा वित्तपोषण किया जा रहा है, ताकि यह 20 करोड़ वैक्सीन के उत्पादन और वितरण को पूरा कर सके। हालांकि इस ताजा घटनाक्रम के साथ ही कोरोना वायरस वैक्सीन की कीमत ( ( price of COVID-19 Vaccine) ) को लेकर भी बड़ा खुलासा हो गया है।

कोरोना वैक्सीन के निर्माण-वितरण को लेकर सीरम इंस्टीट्यूट, गेट्स फाउंडेशन से जुड़ी पूरी जानकारी

दरअसल, सीरम इंस्टीट्यूट को की जा रही फंडिंग एस्ट्राजेनेका और नोवावैक्स से लाइसेंस प्राप्त कोरोना वैक्सीन के उत्पादन में तेजी लाएगी और अगर यह वैक्सीन डब्लूएचओ के प्री-क्वॉलिफिकेशन और फुल लाइसेंस को हासिल कर लेते हैं तो इन्हें खरीद के लिए उपलब्ध करा दिया जाएगा। इन वैक्सीन की अधिकतम कीमत 3 अमरीकी डॉलर प्रति डोज होगी। यह कीमत भागीदारों द्वारा किए गए निवेश से सक्षम होगी, जिनमें कोएलिशन फॉर एपिडेमिक प्रीपेयर्डनेस इन्नोवेशंस (CEPI), बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन और SII आदि शामिल हैं।

वैक्सीन के लिए गठजोड़ करने वाले गावी के सीईओ डॉ. सेठ बर्कले ने कहा, "ग्लोबल साउथ द्वारा यह वैक्सीन निर्मित की जा रही है जो ग्लोबल साउथ के लिए है और हमें यह सुनिश्चित करने में मदद करती है कि जब कोरोना वैक्सीन तक पहुंच की बात आए तो इसमें कोई भी देश पीछे न रह जाए।"

उन्होंने आगे कहा, "COVID-19 टीकों के लिए वैश्विक, समान पहुंच सुनिश्चित करने के हमारे प्रयास के पीछे की गति वास्तव में निर्माण कर रही है। पिछले सप्ताह हम उन देशों की ऐतिहासिक संख्या की घोषणा करने में सक्षम थे जो अब COVAX सुविधा तक साइन किए गए हैं, आज हम सुरक्षित, प्रभावी टीकों की आगे की खुराक की घोषणा कर सकते हैं जो विशेष रूप से निम्न और मध्यम आय वाले देशों के लिए आरक्षित होंगी। जब COVID-19 टीकों की बात आती है तो अमीर या गरीब कोई भी देश इस कतार में पीछे नहीं छूटना चाहिए। यह सहयोग हमें इस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए एक और कदम करीब लाता है।"

देश में कोरोना वायरस के कुल मामले 61 लाख पार होने के बावजूद भी अब डरने की नहीं है जरूरत!

GAVI COVAX AMC, जो वर्तमान में प्रारंभिक वित्तपोषण में कम से कम 2 बिलियन अमरीकी डॉलर की मांग कर रहा है, जो कि टीके की खुराक के लिए खरीद की लागत के कम से कम हिस्से को पूरा करेगा। गावी बोर्ड ने 92 देशों की अंतिम सूची पर सहमति व्यक्त की है जो Gavi COVAX AMC द्वारा समर्थित होंगे। नए सहयोग के तहत AstraZeneca टीका, यदि सफल हुआ तो, 61 गावी-योग्य देशों के लिए उपलब्ध होगा। नोवावैक्स सफल होने पर GAVI COVAX AMC द्वारा समर्थित सभी 92 देशों के लिए उपलब्ध होंगे। ये देश SII के लाइसेंसिंग समझौतों के साथ दोनों भागीदारों के साथ समन्वय में रहेंगे।

कोरोना वायरस वैक्सीन के विकास में तेजी लाने और दुनियाभर में इनकी तेजी से उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए गावी, एसआईआई और गेट्स फाउंडेशन के बीच सहयोग, ACT Accelerator's यानी COVAX के प्रयासों का भी समर्थन करता है, जो गावी, सीईपीआई और विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के सह-नेतृत्व में है। निर्माण में निवेश को लेकर फैसला COVAX के इन तीन प्रमुख संगठनों के बीच निकट सहयोग में लिया जाता है।

Show More
अमित कुमार बाजपेयी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned