इस राज्य में दोगुनी हुई Alcohol पीने वाली महिलाओं की संख्या, 5 वर्ष में पुरुषों का आंकड़ा हुआ कम

  • पिछले पांच वर्ष में गुजरात में महिलाओं के अंदर बढ़ी शराब सेवन की आदत
  • NHFS के सर्वे में हुआ खुलासा
  • पुरुषों की संख्या में आई 50 फीसदी की गिरावट

नई दिल्ली। गुजरात ( Gujarat ) से बड़ी खबर सामने आई है। इस प्रदेश में शराब बंदी के बावजूद शराब ( Alcohol ) पीने वाली महिलाओं ( Women Drinker ) की संख्या में जबरदस्त इजाफा हुआ है। पिछले पांच वर्ष में यहां शराब का सेवन करने वाली महिलाओं की संख्या दोगुनी हो गई है।

खास बात यह है कि एक ओर जहां महिलाओं में शराब सेवन की आदत बढ़ी है वहीं पुरुषों की संख्या में कमी आई है। पुरुषों में शराब सेवन का आंकड़ा 50 फीसदी तक लुढ़का है।

7 महीने में देश में 33000 टन उत्पन्न हुआ कोरोना कचरा, महाराष्ट्र रहा अव्वल तो जानिए अन्य राज्यों का हाल

ड्राई स्टेट गुजरात में शराब सेवन को लेकर महिलाओं की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। ये जानकारी नेशनल फैमली हेल्थ सर्वे (NHFS) की तरफ से जारी किए गए आंकड़ों में सामने आई है। ये सर्वे वर्ष 2019 से 2020 के बीच 33343 महिलाओं और 5351 परुषों पर किए गए।

2015 में आधा था आंकड़ा
एनएचएफएस ने वर्ष 2015 में भी एक सर्वे करवाया था। इस दौरान 6018 पुरुषों और 22932 महिलाओं पर सर्वे हुआ था। उस वक्त 0.3 फीसदी महिलाओं ने कहा था कि वो शराब पीती हैं, लेकिन अब ये आंकड़ा बढ़कर 0.6 प्रतिशत तक पहुंच चुका है।

इसी तरह 2015 में 11.1 फीसदी पुरुषों ने कहा था कि वे शराब का सेवन करते हैं। लेकिन हाल में हुए सर्वे में ये आंकड़ा घट कर 5.8 प्रतिशत तक पहुंच चुका है।

इतना बढ़ा आंकड़ा
पिछले दो डेटा की तुलना की जाए तो साल 2015 में सिर्फ 0.1 फीसदी शहरी महिलाएं शराब पीती थीं, लेकिन अब ये आंकड़ा 0.3% पर पहुंच गया है।

वहीं पुरुषों की बात करें तो वर्ष 2015 में जहां शहर के 10.6 फीसदी पुरुष शराब पीते थे, लेकिन अब यानी 5 वर्ष बाद इनकी संख्या घट कर सिर्फ 4.6 फीसदी रह गई है।

आंकड़ों में हो सकता है इजाफा
विशेषज्ञों की मानें तो सर्वे के दौरान कई लोग सही जानकारी नहीं देते हैं। ऐसे में ये माना जा सकता है कि इस आंकड़े में और इजाफा हो सकता है। वास्तविक आंकड़ा इनसे काफी ज्यादा हो सकता है।

कोरोना संकट के बीच इन राज्यों में मुफ्त मिलेगी वैक्सीन, जानिए आपके प्रदेश की क्या है स्थिति

ट्रेंड बन गया शराब का सेवन
समाजशास्त्री गौरांग जानी के मुताबिक शराब पीना राज्य के कई समुदायों के बीच गहरी जड़ें जमा चुका है। इन समुदायों में यह एक प्रथा है, जहां पुरुष और महिलाएं दोनों एक साथ बैठते हैं और विशेष अवसरों पर शराब पीते हैं।

आपको बता दें कि कोरोना काल के दौरान जब अनलॉक प्रक्रिया के जरिए सरकार शराब की दुकानों को खोलने की अनुमति दी थी, हर राज्य में जमकर शराब की बिक्री हुई थी। इस दौरान राज्य सरकारों ने 150 फीसदी तक का इजाफा भी किया था।

यही नहीं कई राज्यों में शराब की ब्रिकी में भी जबरदस्त इजाफा हुआ था। इससे राज्य सरकारों को राजस्व में भी 100 फीसदी तक की बढ़ोतरी हुई।

Show More
धीरज शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned