फ्रांस: पैगंबर मोहम्मद का कार्टून दिखाने वाले शिक्षक की गला काटकर हत्या, राष्ट्रपति मैक्रों ने बताया 'इस्लामिक आतंकवादी हमला'

HIGHLIGHTS

  • फ्रांस ( France ) की राजधानी पेरिस में पैगंबर मोहम्मद का कार्टून ( Caricatures Of Islam Prophet Muhammad ) छात्रों को दिखाने पर इतिहास के एक शिक्षक की गला काटकर हत्या ( History Teacher Killed ) कर दी गई।
  • राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ( France President Emmanuel Macron ) ने ने इस नृशंस हत्या को एक 'इस्लामिक आतंकवादी हमला' बताया है।

पेरिस। पूरी दुनिया में इस्लामिक कट्टरवाद ( Islamic Extremist ) किस तरह से हावी है, इसका एक और उदाहरण फ्रांस में देखने को मिला है। शुक्रवार को फ्रांस की राजधानी पेरिस में एक शिक्षक की गला काटकर हत्या कर दी गई। दरअसल, इतिहास के शिक्षक ने छात्रों को पैगंबर मोहम्मद का कार्टून ( Caricatures Of Islam Prophet Muhammad ) दिखाया था। इसपर एक छात्र के पैरेंट ने उस शिक्षक की गला रेतकर हत्या कर दी।

अब इस नृशंस हत्या को लेकर राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ( French President Emmanuel Macron ) ने कड़ी निंदा की है। राष्ट्रपति मैक्रों ने इस घटना की निंदा करते हुए इसे एक 'इस्लामिक आतंकवादी हमला' करार दिया है।

France: फिर छपेगा मोहम्मद साहब का विवादित कार्टून, शार्ली ऐब्डो ने कहा- हम कभी नहीं झुकेंगे

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, हमलावर ने शिक्षक की हत्या करने के बाद अल्लाह हू अकबर के नारे लगाने लगा। हालांकि मौके पर पहुंची पुलिस की टीम ने हमलावर को चारों तरफ से घेर लिया। हमलावर ने पुलिस को बंदूक दिखाकर डराने की भी कोशिश की, लेकिन सुरक्षा बलों ने सावधानी से ऑपरेशन को अंजाम देते हुए उसे गोली मार दी।

अभियोजन अधिकारी के कार्यालय ने जानारी देते हुए बताया है कि आतंकवादी हमले के दृष्टिकोण से इस घटना की जांच शुरू कर दी गई है। यह घटना पेरिस के एरागनी नगर में हुई है। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि चाकू और एक एयरसॉफ्ट बंदूक से लैस संदिग्ध हमलावर को पुलिस ने गोली से उड़ा दिया।

राष्ट्रपति मैक्रों ने की निंदा

आपको बता दें कि फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने पेरिस के उत्तर-पश्चिमी उपनगर एरागनी में इतिहास के एक शिक्षक का सिर काटे जाने की घटना की निंदा की। उन्होंने हमले के कुछ घंटों बाद कॉनफ्लैंस-सैंटे-ऑनोराइन मिडल स्कूल का दौरा किया और देश के नागरिकों से चरमपंथियों से निपटने के लिए त्वरित और ठोस कार्रवाई किए जाने का वादा किया।

राष्ट्रपति मैक्रों ने कहा कि हमारे एक नागरिक की आज हत्या कर दी गई, क्योंकि वह छात्रों को अभिव्यक्ति की आजादी के मायने सिखा रहा था। बता दें कि पैगंबर मोहम्मद से संबंधित विवाद को लेकर फ्रांस में अब तक कई लोगों की हत्या की जा चुकी है।

फ्रांस: मैक्रों ने IS आतंकियों के खिलाफ लड़ने की जताई प्रतिबद्धता, एकजुट रहने का दिया संदेश

इससे पहले व्यंग पत्रिका शार्ली हेब्दो ने पहली बार पैगंबर मोहम्मद का कार्टून प्रकाशित किया था, जिसको लेकर पेरिस स्थित कार्यालय में हमला किया गया था। उस हमले में 12 लोगों की मौत हो गई थी।

क्या है पूरा मामला

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, राजधानी पेरिस के एक स्कूल के टीचर सैमुअल ने अभिव्यक्ति की आजादी के मायने समझाने को लेकर बच्चों को पैगंबर मोहम्मद का कार्टून दिखाया था। जब ये बाद एक पैरेंट को पता चली तो वह चाकू लेकर स्कूल पहुंच गया और अल्लाह हू अकबर के नारे लगाते हुए शिक्षक की गला काटकर हत्या कर दी।

घटना की सूचना मिलने पर जब मौके पर पुलिस पहुंची तो वह सरेंडर करने के बजाए पुलिस को ही डराने लगा। लेकिन पुलिस ने जवाबी कार्रवाई करते हुए हमलावर को गोली मार दी, जिससे उसेकी मौत हो गई। फिलहाल पुलिस ने हमवार की पहचान सार्वजनिक नहीं की है।

France: व्यंग्य पत्रिका Charlie Hebdo के पुराने ऑफिस के पास हुए हमला मामले में 7 लोग गिरफ्तार

पुलिस ने सिर्फ इतना बताया है कि वह 18 वर्षीय संदिग्ध इस्लामिक आतंकवादी था और मॉस्को में पैदा हुआ था। पुलिस ने बताया है कि हमलावर की बच्ची भी उसी स्कूल में पढ़ती थी। यह घटना पेरिस से 25 मील दूर कॉनफ्लैंस-सैंटे-ऑनोराइन में स्कूल के नजदीक शाम 5 बजे के करीब हुई है। इस मामले में पुलिस ने अन्य चार लोगों को गिरफ्तार किया है।

Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned