अमरीका-ईरान तनाव: भारतीय नौसेना ने ओमान और फारस की खाड़ी में बढ़ाई सुरक्षा

  • america-iran tension: भारतीय जहाजों की सुरक्षा को लेकर सुरक्षा एजेंसियां चौकन्नी
  • भारतीय नौसेना ने ऑपरेशन संकल्प शुरू किया

नई दिल्ली। अमरीका और ईरान के बीच हालिया घटनाओं से तनाव बढ़ गया है। ऐसे में फारस खाड़ी से गुजरने वाले भारतीय जहाजों की सुरक्षा को लेकर सुरक्षा एजेंसियां चौकन्नी हो गई हैं। इसके लिए ऑपरेशन संकल्प शुरू किया गया है। इस ऑपरेशन के तहत भारतीय युद्धपोतों को जिम्मेदारी दी गई है कि वह फारस की खाड़ी और होरमुज-स्ट्रेट से गुजर रहे भारतीय तेल टैंकरों, कार्गो और कॉमर्शियल जहाजों को वहां से सुरक्षित निकालें।

ट्रंप ने ईरान को दी धमकी, कहा-अमरीकी ड्रोन गिराकर की 'बड़ी गलती'

 

warship

ओमान और फारस की खाड़ी में भारतीय जहाजों की तैनाती

नौसेना के अनुसार इस काम के लिए आईएनएस चेन्नई और आईएनएस सुनयना को समुद्री सुरक्षा अभियानों के लिए ओमान और फारस की खाड़ी में तैनात किया गया है। इसके अलावा, क्षेत्र में विमानों द्वारा हवाई निगरानी भी की जा रही है। हिंद महासागर क्षेत्र में स्थित भारतीय सूचना केंद्र को अलर्ट कर दिया गया है। इसका उद्घाटन दिसंबर 2018 में नौसेना द्वारा किया गया था। ये खाड़ी क्षेत्र में जहाजों की आवाजाही पर कड़ी नजर रख रहा है।

Drone Attack के बाद US-Iran युद्ध का खतरा बढ़ा, अमरीका कर सकता है जवाबी कार्रवाई

सीमाओं के उल्लंघन को लेकर तनाव बढ़ा

गौरतलब है कि ईरान ने गुरुवार को एक अमरीकी ड्रोन को गिरा दिया था। अमरीका कहना है कि ड्रोन ने अंतरराष्ट्रीय सीमाओं का उल्लंघन नहीं किया था। इसके बावजूद ईरान ने ऐसी कार्रवाई की है। इसे अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ईरान की बड़ी गलती करार दिया है। वहीं ईरान के अर्धसैनिक रिवोल्यूशनरी गार्ड के सुप्रीम लीडर अयातुल्ला अली खुमैनी ने आरोप लगाए हैं कि गुरुवार की सुबह एक अमरीकी ड्रोन दक्षिणी ईरान के होर्मगान प्रांत में कोहंबोराक ( Kouhmobarak ) जिले में मंडरा रहा था। इसे मार गिराया गया है।

खुमैनी ने आरोप लगाया कि यह ड्रोन ईरान के हवाई क्षेत्र में प्रवेश करने की कोशिश कर रहा था। कोहंबोराक तेहरान से लगभग 1,200 किलोमीटर (750 मील) दक्षिण-पूर्व में है और स्टॉर्म ऑफ होर्मुज के करीब है। ड्रोन की पहचान RQ-4 ग्लोबल हॉक के रूप में की गई है।

विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर ..

Show More
Mohit Saxena
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned