चीन में अब नए स्वाइन फ्लू ने दी दस्तक, कोरोनाकाल में और भी बिगड़ सकते हैं हालात

  • New Swine Flu G4 : नए स्वाइन फ्लू का नाम G4 है, ये पहले से ज्यादा घातक अवस्था में है
  • जी4 स्वाइन फ्लू जानवरों में साल 2016 से पनप रहा था

By: Soma Roy

Published: 30 Jun 2020, 12:44 PM IST

नई दिल्ली। कोरोना महामारी (Coronavirus Pandemic) के बीच चीन में अब एक नई बीमारी ने दस्तक दी है। जिससे वैज्ञानिकों की चिंता बढ़ गई है। शोधकर्ताओं को इस दौरान चीन में एक नया स्वाइन फ्लू (Swine Flu G4) मिला है जो H1N1 स्वाइन फ्लू का अनुवांशिक वंशज है। नए स्वाइन फ्लू का नाम नए स्वाइन फ्लू का नाम जी4 (G4) है। ये पहले से भी ज्यादा घातक है। ऐसे में अगर ये कोरोना महामारी के संपर्क में आता है तो इसके और अधिक बढ़ने की आशंका होगी।

चीन के सेंटर फॉर डिजीस कंट्रोल एंड प्रिवेंशन के कई वैज्ञानिकों के अनुसार नया स्वाइन फ्लू इतना ताकतवर है कि यह इंसानों को गंभीर रूप से बीमार कर सकता है। अगर ये संक्रमण कोरोना की चपेट में आया तो समस्या गहरा सकती है। वैज्ञानिकों ने इसे खोजने के लिए साल 2011 से 2018 तक रिसर्च किया। इसमें उन्होंने चीन के 10 राज्यों से करीब 30 हजार (सुअरों) के नाक से स्वैब लिया और जिसकी जांच की। इसमें पाया गया कि चीन में 179 तरह के स्वाइन फ्लू हैं। इन सभी में से जी4 को (G4) स्वाइन फ्लू इसके लक्षणों की वजह से अलग किया गया।

शोधकर्ताओं के मुताबिक जानवरों में जी4 स्वाइन फ्लू साल 2016 से पनप रहा था। इसके बारे में ज्यादा जानकारी के लिए और अध्ययन किया। जब इसके परिणामों पर रिसर्च की गई तो सबके होश उड़ गए। वैज्ञानिकों का दावा है कि ये स्वाइन फ्लू साल 2009 में फैले स्वाइन फ्लू से ज्यादा प्रभावी है। इससे व्यक्ति की जान भी जा सकती है। यह बहुत तेजी से इंसानों के बीच महामारी का रूप ले सकता है। जांच में यह भी पता चला कि सीजनल फ्लू होने से किसी इंसान को जी4 (G4) स्वाइन फ्लू से इम्यूनिटी नहीं मिलेगी। चीन में सुअरों के फार्म में काम करने वाले हर दस लोगों में से एक में जी4 (G4) का संक्रमण मिला है। शोधकर्ताओं ने करीब 230 लोगों पर इस वायरस का टेस्ट किया। उनमें से करीब 4.4 फीसदी लोगों में जी4 (G4) का संक्रमण पाया गया।

Show More
Soma Roy Content Writing
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned