उत्तर कोरिया ने फिर किया दो मिसाइलों का परीक्षण, US-दक्षिण कोरिया सैन्य अभ्यास के बाद उठाया कदम

  • उत्तर कोरिया ने मंगलवार को दो शॉर्ट रेंज मिसाइलों का परीक्षण किया
  • सोमवार से अमरीका-दक्षिण कोरिया के बीच शुरू हुए सैन्य अभ्यास के खिलाफ शक्ति प्रदर्शन के लिए की टेस्टिंग

सियोल। उत्तर कोरिया ने मंगलवार को एक बार फिर दो मिसाइलों का परीक्षण किया। दक्षिण कोरियाई सेना के मुताबिक, उत्तर कोरिया ने पूर्वी सागर में दो मिसाइलों का परीक्षण किया है। सेना ने कहा कि ये कम दूरी की बैलेस्टिक मिसाइलें (Short Range Ballistic Missile) हैं। माना जा रहा है कि यह परीक्षण सोमवार से अमरीका-दक्षिण कोरिया के बीच शुरू हुए सैन्य अभ्यास के खिलाफ शक्ति प्रदर्शन के लिए किया गया है।

जॉइंट चीफ ऑफ स्टाफ ने दी जानकारी

मीडिया रिपोर्ट्स में जॉइंट चीफ ऑफ स्टाफ (JCS) के हवाले से कहा ये परीक्षण सुबह 5.24 बजे और 5.36 बजे उत्तर कोरिया के दक्षिणी ह्वांग्हाई प्रांत के क्वैल शहर से किए गए। JCS के अनुसार, मिसाइलों की अधिकतम ऊंचाई 37 किलोमीटर और अधिकतम गति करीब 6.9 मैक रही। दक्षिण कोरिया और अमरीकी खुफिया एजेंसियों का मानना है कि ये कम दूरी की मिसाइलें उत्तर कोरिया द्वारा 25 जुलाई को प्रक्षेपित की गई मिसाइलों के समान हैं।

उत्तर कोरिया के विरोध के बीच दक्षिण कोरिया-अमरीका ने शुरू किया संयुक्त सैन्य अभ्यास

अमरीका-दक्षिण कोरिया की उत्तर कोरिया पर नजर

JCS ने कहा, अतिरिक्त लॉन्चिंग की स्थिति में और सतर्कता बरतने के लिए हमारी सेना नजर बनाए हुए है।' उत्तर कोरिया के कदम पर अमरीका ने भी कहा कि वह स्थिति पर नजर बनाए हुए है। साथ ही वह दक्षिण कोरिया और जापान से भी इस पर चर्चा कर रहा है। इस बीच दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति कार्यालय चेओंग वा डे ने इस परीक्षण पर चर्चा करने के लिए आपातकालीन बैठक की है।

समझौतों का उल्लंघन कर रहे हैं सियोल-वाशिंगटन: उत्तर कोरिया

वहीं, मंगलवार को परीक्षण के बाद उत्तर कोरिया के विदेश मंत्रालय ने चेतावनी देते हुए कहा कि वह नया रास्ता अपना सकता है। उत्तर कोरिया का कहना है कि ये युद्धाभ्यास अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप तथा दक्षिण कोरियाई राष्ट्रपति मून जे-इन के साथ हुए समझौतों का उल्लंघन हैं। उत्तर कोरिया के विदेश मंत्रालय ने एक बयान में दोनों सहयोगियों पर सैन्य अभ्यास को सही ठहराने के लिए साजिश रचने का आरोप लगाया और कहा कि उनके आक्रमक बर्ताव को छिपाया नहीं जा सकता। आपको बता दें कि पिछले दो हफ्ते के अंदर उत्तर कोरिया का यह चौथा ऐसा लॉन्च है।

विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर ..

 

Show More
Shweta Singh Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned