कोरोना वैक्सीन के साइड इफेक्ट, 300 युवाओं में दिल से जुड़ी बीमारियां देखने को मिली

अमरीका के सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल ऐंड प्रिवेंशन (सीडीसी) की डायरेक्टर डॉक्टर रॉशेल वेलेंस्की ने इसकी पुष्टि की है।

नई दिल्ली। कोरोना महामारी से निपटने में सबसे कारगर हथियार यानी कोरोना वैक्सीन कितने समय तक असरदार है, इसे लेकर अभी तक कोई आंकड़ा सामने नहीं आया है। मगर इसके कई साइड इफेक्ट्स दिख रहे हैं।

अमरीका में कोरोना वैक्सीन लेने वाले 300 युवाओं में दिल से जुड़ी बीमारियां देखने को मिली हैं। इनमें से कई को दिल में सूजन देखने को मिली। अमरीका के सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल ऐंड प्रिवेंशन (सीडीसी) की डायरेक्टर डॉक्टर रॉशेल वेलेंस्की ने इसकी पुष्टि की है।

Read More: सिंगापुर ने भारत से आ रहे यात्रियों की क्वारंटीन अवधि घटाई, 14 दिन का किया स्टे होम

कोरोना रोधी टीका दिया

हालांकि, उन्होंने बताया कि अभी तक दो करोड़ युवाओं और किशोरों को अमरीका में कोरोना रोधी टीका दिया गया। इसकी तुलना में दिल की बीमारी से जूझने वालों की संख्या काफी कम है, लेकिन इसे नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक डॉक्टर रॉशेल ने कहा कि हालांकि, बीमार होने वालों की संख्या कम है लेकिन यह इस आयुवर्ग को लेकर हमारे पूर्वाअनुमान से काफी ज्यादा है। सीडीसी के स्वतंत्र सलाहकार समूह ने बीते हफ्ते इन मामलों की समीक्षा के लिए बैठक बुलाई थी।

Read More: अमरीका में ब्रिटेन की तरह बढ़ रहे कोरोना के डेल्टा वेरिएंट के मामले, फाउची ने दिए संकेत

बदलाव करने की बिल्कुल संभावना नहीं

बैठक के दौरान यह समूह एक रिसर्च और टीके लेने के बाद सुरक्षा को लेकर चर्चा करेगा। मगर कोविड-19 टीकाकरण के लिए प्रस्तावित सुझावों में कोई बदलाव करने की बिल्कुल संभावना नहीं है। गौरतलब है कि अमरीका में 12 से 17 वर्ष के बच्चों को अभी तक सिर्फ फाइज़र-बायोनटेक के टीके को मंजूरी दी गई है। वहीं, 18 वर्ष से ऊपर के लोगों को फाइजर, मॉडर्ना या जॉनसन ऐंड जॉनसन की वैक्सीन दी जा रही है।

coronavirus
Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned