डोनाल्ड ट्रंप का दावा, कोरोना वायरस के इलाज के लिए ये दो दवाएं हैं कारगर

Highlights

  • हाइड्रोक्जिक्लोरोक्वीन और एजिथ्रोमाइसिन नाम की दो दवाइयां पेश की है।
  • कोरोन से मरने वालों की संख्या 12 हजार के पार पहुंच चुकी है।
  • दक्षिण कोरिया ने 10 मिनट में कोरोना की पहचान करने वाली किट तैयार की।

वॉशिंगटन। कोरोना वायरस से लड़ने के लिए अमरीका ने दो दवाइयों की खोज की हैे। दावा किया जा रहा है कि ये दवाएं कोरोना के इलाज के लिए कारगर साबित होंगी। दुनियाभर में शनिवार को नोवेल कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या 12 हजार के पार हो गई है। इटली और ब्रिटेन में यह महामारी की तरह फैल रहा है। इस बीच अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कोविड 19 के मरीजों के इलाज के लिए दो दवाइयों की घोषणा की है। उन्होंने हाइड्रोक्जिक्लोरोक्वीन और एजिथ्रोमाइसिन नाम की दो दवाइयां पेश की है।

ट्रंप ने इन दवाओं की घोषणा करते हुए कहा कि दोनोंं मेडिसिन के क्षेत्र में गेम चेंजर साबित होंगी। उल्लेखनीय है कि दो दिन पहले ही ट्रंप प्रशासन ने क्लोरोक्वीन नाम की ऐंटी-मलेरिया मेडिसिन को मंजूरी दी थी। एकतरफ ट्रंप दवाओं की घोषणा कर रहे हैं। वहीं दक्षिण कोरिया 10 मिनट में कोरोना की पहचान करने वाली एक किट तैयार करने का दावा कर रहा है।

दवाओं को गेमचेंजर बताया

ट्रंप ने अपने ट्वीट में इन दवाओं को गेमचेंजर बताया है। उन्होंने कहा कि दवाएं अच्छा असर दिखा रहीं हैं। राष्ट्रपति ट्रंप ने आगे लिखा कि उम्मीद है दोनों को तुरंत इस्तेमाल में लाया जाएगा। लोग मर रहे हैं, जल्दी आगे बढ़ें। भगवान सभी की रक्षा करें।

उधर, ट्रंप के नए दावे के बीच स्टैनफोर्ड में कोरोना वायरस के खिलाफ अपने डॉक्टरों की टीम के साथ काम कर रहे कूल क्वीट के संस्थापक यूजेने जीयू ने प्रतिक्रिया व्यक्त की है कि राष्ट्रपति लोगोंं को झूठी उम्मीद दे रहे हैं। उन्होंने लिखा कि दोनों दवाई मिलकर कोरोना का इलाज करेंगी, यह संभव नहीं है। ट्रंप लोगों के सामने झूठी उम्मीद पाल रहे हैं।

गौरतलब है कि अमरीका कोरोना संक्रमित छठा देश बन चुका है। यहां संक्रमित लोगों की संख्या 20 हजार के करीब है और 265 लोगों की मौत हो चुकी है। बीते 24 घंटों में यहां 191 नए मामले सामने आए हैं और 13 लोगों की मौत हुई है। संक्रमण का मामला सामने आने के बाद से ही अमरीका कोरोना का तोड़ ढूंढने में लगा हुआ है।

दक्षिण कोरिया ने बनाई कोरोना टेस्ट किट

दक्षिण कोरिया 10 मिनट में कोरोना टेस्ट करने वाली किट के निर्माण का दावा कर रही है। उसका कहना है कि इस किट मदद से कोई भी देश अपने यहां पर कोरोना के मामले को तुरंत जांच सकेगा और इसका इलाज किया जा सकेगा। वह हर सप्ताह तीन लाख किट एक्सपोर्ट करने पर विचार कर रही है। उल्लेखनीय है कि दक्षिण कोरिया ने कोरोना को रोकने के लिए किसी तरह के बड़े फैसले नहीं लिए थे, बल्कि उसने ज्यादा से ज्यादा लोगों का कोरोना टेस्ट किया है। ऐसे में की पहचान कर उसने देश में कोरोना के मामले पर काबू पा लिया है।

Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned