भारतवंशियों पर भरोसा जता रहे अमरीकी राष्ट्रपति जो बिडेन, 55 भारतीय-अमरीकियों को अहम पदों पर किया नियुक्त

Highlights.

- बिडेन प्रशासन में 50 दिनों से भी कम समय में 55 भारतवंशी अमरीकियों को अहम पदों पर नियुक्त किया
- अमरीकी राष्ट्रपति जो बिडेन भी अक्सर कहते रहे हैं कि देश की कमान भारतीय अमरीकी संभाल रहे हैं
- बिडेन ने यह बातें मंगल ग्रह पर पर्सीवरेंस रोवर की ऐतिहासिक लैंडिंग में शामिल वैज्ञानिकों से चर्चा के दौरान कहीं

 

नई दिल्ली।

अमरीकी राष्ट्रपति जो बिडेन भारतवंशियों पर काफी भरोसा करते हैं। 50 दिनों से भी कम समय के उनके प्रशासन में करीब 55 भारतवंशी अमरीकियों को अहम पदों पर नियुक्त किया गया है। बिडेन भी अक्सर कहते रहे हैं कि देश की कमान भारतीय अमरीकी संभाल रहे हैं। बता दें कि अमरीकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के लिए स्पीच राइटर से लेकर प्रशासिनक पदों पर भारतवंशियों की मौजूदगी है।

बिडेन ने यह बातें मंगल ग्रह पर पर्सीवरेंस रोवर की ऐतिहासिक लैंडिंग में शामिल वैज्ञानिकों से चर्चा के दौरान कहीं। इसमें नासा के मार्स मिशन में अहम भूमिका निभाने वाली स्वाति मोहन भी मौजूद थीं। बिडेन ने कहा कि भारतीय मूल के अमरीकी देश की कमान संभाल रहे हैं। स्वाति मोहन, देश की उप राष्ट्रपति कमला हैरिस, मेरे स्पीच राइटर विनय रेड्डी सभी का रोल अहम है। गत 20 जनवरी को अमरीका के 46वें राष्ट्रपति के तौर पर शपथ लेने वाले बिडेन ने करीब 55 भारतवंशी अमरीकियों को अपने प्रशासन में अहम भूमिका दी है। इनमें आधी से अधिक महिलाएं हैं। ऐसा करने वाले बिडेन पहले अमरीकी राष्ट्रपति हैं।

हैरिस और टंडन का नाम शामिल नहीं
इन 55 लोगों में उप राष्ट्रपति कमला हैरिस और नीरा टंडन का नाम शामिल नहीं है। टंडन ने हाल ही में व्हाइट हाउस ऑफ मैनेजमेंट एंड बजट के निदेशक पद के लिए दाखिल नामांकन वापस ले लिया।

ओबामा को रिकॉर्ड तोड़ा
इससे पहले, अमरीका के राष्ट्रपति बराक ओबामा के कार्यकाल में सबसे ज्यादा भारतवंशी अमरीकियों को प्रशासन में शामिल किया गया था। वहीं, डोनाल्ड ट्रंप के कार्यकाल में भी भारतीय मूल के अमरीकियों को काफी मौके मिले। ट्रंप प्रशासन ने तो पहली बार नेशनल सिक्युरिटी काउंसिल के अंदर और कैबिनेट दर्जे के साथ भारतवंशी अमरीकी को नियुक्त किया था।

Ashutosh Pathak
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned