एटीएम बने शो पीस,शहर में कैश की किल्लत से लोगों की बढीं मुश्किलें

एटीएम बने शो पीस,शहर में कैश की किल्लत से लोगों की बढीं मुश्किलें

Jai Prakash | Publish: Apr, 17 2018 10:33:42 PM (IST) Moradabad, Uttar Pradesh, India

पिछले पन्द्र्स से बीस दिनों में शहर के अस्सी फीसदी से ज्यादा एटीएम में या तो कैश नहीं है या फिर खराब हैं।

मुरादाबाद: नोटबंदी के बाद पचास दिनों के अंदर देश में कैश की किल्लत नहीं रहेगी। ऐसा वादा खुद पीएम मोदी ने किया था। लेकिन पिछले पन्द्र्स से बीस दिनों में शहर के अस्सी फीसदी से ज्यादा एटीएम में या तो कैश नहीं है या फिर खराब हैं। हालात ये हैं कि कैश पढने के कुछ घंटों में ही एटीएम खाली हो जा रहे हैं। वहीँ दूसरी ओर बैंक इसे सामान्य समस्या बता रहे हैं। नाम न छापने की शर्त पर एक बैंक अधिकारी ने बताया कि ऊपर से ही कैश कम आ रहा है। जिस कारण बैंक और एटीएम दोनों जगह इसकी कमी दिख रही है। रिपोर्ट और डिमांड भेजी गयी है। जैसे ही आएगा कैश की दिक्कत दूर हो जाएगी।

रकम दुगना करने की बात कहकर,कागज की गड्डी थमा देता था ये गिरोह,इस गलती से चढ़ा पुलिस के हत्थे

अनियंत्रित होकर पलटी बस यात्रियां का हुआ ये हाल, देखें वीडियो

टीम पत्रिका ने मंगलवार को शहर के कई एटीएम का जायजा लिया,यहां ज्यादातर खाली मिले। यही नहीं जिन ब्रांच में एटीएम है उसमें भी कैश नहीं है। पूछने पर बैंक कर्मियों ने बताया कि में ब्रांच से कैश नहीं आया है। क्यूंकि एटीएम में बड़े नोट यानि दो हजार और पांच सौ चाहिए वो नहीं हैं। और छोटे नोट पूरे नहीं हो पा रहे।यही नहीं जब पूछा गया कि ये क्यों कम भेजे जा रहे हैं तो इसका जबाब नहीं दिया और कहा कि आपको साड़ी जानकारी नहीं दी जा सकती। इसका अनुमान लगाया जाए की सब कुछ सही नहीं चल रहा या फिर बैंक अपनी मनमानी कर रहे हैं।

पत्रकार को गोली मारने वाले बदमाशों के साथ पुलिस ने ये काम , देखें वीडियो

एक बार फिर बढ़ी मोहम्मद शमी की मुश्किलें, हो सकती है बड़ी कार्रवार्इ

बैंक जानकारों के अनुमान के मुताबिक मुरादाबाद में रोजाना की कैश की जरूरत 30 करोड़ रुपए से ज्यादा है। जबकि इन दिनों उपलब्धता सिर्फ 10 करोड़ के आसपास रहने से जबरदस्त किल्लत पैदा हो गई है। बड़े बैंकों के एटीएम सबसे ज्यादा प्रभावित हुए हैं। यही नहीं बैंकों के काउंटर पर बड़ी रकम की निकासी भी मुश्किल हो गई है। अब एटीएम पर हालात कभी कभार नोटबंदी जैसे हो रहे हैं। जिसमें लम्बी लम्बी लाइने तक लगी दिख जाती हैं।

 

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned