scriptMumbai: लाख कोशिशों के बाद भी नहीं बची मां-बेटे की जान; घाटकोपर में 24 घंटे में दूसरा बड़ा हादसा | Ghatkopar Rajawadi Colony building collapse 2 died 4 injured in Ramabai Ambedkar colony house collapse | Patrika News
मुंबई

Mumbai: लाख कोशिशों के बाद भी नहीं बची मां-बेटे की जान; घाटकोपर में 24 घंटे में दूसरा बड़ा हादसा

Mumbai Ghatkopar Building Collapse: घाटकोपर पूर्व में एक चॉल में स्थित घर का हिस्सा गिरने से चार लोग जख्मी हो गए। मुंबई फायर ब्रिगेड के मुताबिक, सोमवार सुबह 8:36 बजे रमाबाई अंबेडकर कॉलोनी में यह हादसा गुआ।

मुंबईJun 26, 2023 / 02:04 pm

Dinesh Dubey

ghatkopar_tragedy.jpg

मुंबई के घाटकोपर में इमारत का हिस्सा ढहा, 2 की मौत

Mumbai Monsoon: मुंबई में मॉनसून के आगमन के बाद से बारिश संबंधित हादसों का सिलसिला शुरू हो गया है। महज घाटकोपर इलाके में 24 घंटे से भी कम समय में दो बड़े हादसे हुए, जिसमें 2 लोगों की मौत हुई और चार अन्य घायल हुए। रविवार सुबह साढ़े 9 बजे के करीब घाटकोपर पूर्व में राजावाड़ी कॉलोनी में ग्राउंड-प्लस-तीन मंजिला इमारत का एक हिस्सा ढह (Mumbai Building Collapse) गया। 20 घंटे से भी अधिक समय तक चले रेस्क्यू में मलबे से दो शव निकाले गए। जबकि इमारत की तीसरी मंजिल पर फंसे तीन लोगों को सुरक्षित बचा लिया गया।
अधिकारियों ने बताया कि मलबे से निकाले गए दोनों पीड़ितों को राजावाड़ी अस्पताल भेजा गया। जहां दोनों को मृत घोषित किया गया। हालांकि कल शाम में ही बृहन्मुंबई नगर निगम (बीएमसी) ने इमारत को ढहा दिया। हालांकि, मलबे में फंसे मां-बेटे के शव को सोमवार को बचाव दल ने बरामद किया।
यह भी पढ़ें

Mumbai Monsoon: मुंबई में बारिश आते ही आफत! 24 घंटे में तीन बड़े हादसे, 4 की मौत, 3 जख्मी

मृतकों की पहचान 94 वर्षीय अलका पलांडे (Alka Palande) और उनके 56 वर्षीय बेटे नरेश पलांडे (Naresh Palande) के रूप में हुई। नरेश का शव आज सुबह जबकि उनकी बुजुर्ग मां का शव आज देर रात 1 बजे के करीब मलबे से निकाला गया।
स्थानीय लोगों के अनुसार, पलांडे पिछले तीन वर्षों से इस घर में किराए पर रह रहे थे क्योंकि उनका अपना घर का रिडेवलपमेंट में चल रहा था। रेस्क्यू अभियान से जुड़े अधिकारियों ने बताया कि बहुत कोशिश के बाद भी दोनों पीड़ितों को नहीं बचाया जा सका। खोजी कुत्तों के साथ एनडीआरएफ कर्मियों और मुंबई फायर ब्रिगेड की टीम उन्हें मलबे में तालश रही थी।
स्थानीय लोगों ने बताया कि मलबे में फंसे मां और बेटे को आवाज देकर भी कई बार बुलाया गया, जिससे उनका पता चल सके, लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ। पलांडे परिवार इमारत की पहली मंजिल पर रहता था, दूसरी मंजिल पर मकान मालिक रहता था, जो अभी वहां नहीं रहता था। जबकि तीसरी मंजिल पर स्थित फ्लैट को जंबूसरिया परिवार को किराए पर दिया गया था जो इस साल फरवरी में बड़ौदा से मुंबई आया था।
एनडीआरएफ के सहायक कमांडेंट सारंग कुर्वे (Sarang Kurve) ने बताया कि फंसे हुए लोगों की हर संभव तरीके से तलाश की गई। अधिकारी ने कहा, “हमने पहले उन्हें आवाज देकर उनका पता लगाने की कोशिश की, बाद में हमने तलाश के लिए खोजी कुत्तों का इस्तेमाल किया और अंत में मलबे में कैमरे डालकर तकनीकी खोज का भी सहारा लिया गया।”
इस बीच, आज सुबह घाटकोपर पूर्व में एक चॉल में स्थित घर का हिस्सा गिरने से चार लोग जख्मी हो गए। मुंबई फायर ब्रिगेड (एमएफबी) के मुताबिक, सोमवार सुबह 8:36 बजे घाटकोपर पूर्व के रमाबाई अंबेडकर कॉलोनी (Ramabai Ambedkar Colony) में डॉ अंबेडकर की प्रतिमा के पास एक मंजिला घर का हिस्सा ढह गया। इस हादसे में घायल चार लोगों को तुरंत राजावाड़ी अस्पताल (Rajawadi Hospital) ले जाया गया। सभी की हालत स्थिर बतायी जा रही है।
https://twitter.com/hashtag/WATCH?src=hash&ref_src=twsrc%5Etfw

Hindi News/ Mumbai / Mumbai: लाख कोशिशों के बाद भी नहीं बची मां-बेटे की जान; घाटकोपर में 24 घंटे में दूसरा बड़ा हादसा

ट्रेंडिंग वीडियो