maha election: छोटा-बड़ा भाई की जंग को भूली भाजपा -सेना

maha election: छोटा-बड़ा भाई की जंग को भूली भाजपा -सेना
maha election: छोटा-बड़ा भाई की जंग को भूली भाजपा -सेना

Ramdinesh Yadav | Updated: 06 Oct 2019, 07:27:54 PM (IST) Mumbai, Mumbai, Maharashtra, India

  • छोटा और बड़ा भाई होने से ज्यादा महत्वपूर्ण है दोनों के बीच संबंध मीठे होने चाहिए
  • भाजपा शिवसेना सहित अन्य सहयोगी दलों के बीच महायुति की घोषणा
  • भाजपा शिवसेना , रिपाई ,रयत क्रांति , शिवससंग्राम पार्टी महायुति में शामिल है
  • शिवसेना को 124 सीटें दी गई है जबकि बाकी के 164 में भाजपा और अन्य सहयोगी दल शामिल है ।

मुम्बई । राज्य में छोटा भाई और बड़े भाई की भूमिका को लेकर हमेशा लड़ने वाली भाजपा और शिवसेना के सुर बदल गए है । शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने बड़े भाई और छोटे भाई होने के दावे को दरकिनार करते हुए कहा कि छोटा और बाद भाई होने से ज्यादा महत्वपूर्ण है दोनों के बीच संबंध मीठे होने चाहिए । महाराष्ट्र के विकास के लिए दोनों एक साथ आये हैं।
भाजपा शिवसेना सहित अन्य सहयोगी दलों के बीच हुई महायुति की अधिकृत घोषणा के दौरान शुक्रवार को नरीमन प्वाइंट स्थित महिला विकास मंडल के सभागृह में उद्धव बोल रहे थे । उद्धव ने कहा हम छोटे बड़े हैं । इसका फैसला बाद में करेंगे । लेकिन महाराष्ट्र के विकास , और उत्थान के लिए क्या होगा गह सवाल रखते हुए उद्धव ने कहा कि हम इसी उद्देश्य से साथ मे है ।

मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने यहां भाजपा शिवसेना सहित अन्य सहयोगी दलों के बीच महायुति की घोषणा किया । फडणवीस ने कहा कि भाजपा शिवसेना , रिपाई ,रयत क्रांति , शिवससंग्राम पार्टी महायुति में शामिल है शिवसेना को 124 सीटें दी गई है जबकि बाकी के 164 में भाजपा और अन्य सहयोगी दल शामिल है ।

इस मौके पर फडणवीस ने कहा कि भाजपा शिवसेना सहित अन्य दलों की महायुति इस बार रिकार्ड स्तर पर जीत हासिल करेगी । अबतक महाराष्ट्र में किसी भी पार्टी ने इतनी सीटें हासिल नही किया होगा जुटानी इस बार महायुति हासिल करेगी।

कोई नाराज नही जिसे टिकट नही मिला है उसे पार्टी महत्वपूर्ण पदों पर भे

maha election: छोटा-बड़ा भाई की जंग को भूली भाजपा -सेना

जेगी ।
फड़नवीस ने कहा कि जिन्हें टिकट नही मिला है उन्हें नाराज होने की आवश्यकता नही है ।पार्टी समय के साथ उन्हें महत्वपूर्ण जिम्मेदारी देगी । प्रकाश मेहता , विनोद तावड़े , राज पुरोहित सहित कई लोगों का बिना नाम लिए ही फडणवीस ने कहा कि पार्टी अपने हिसाब से काम करेगी नए लोगों को अवसर दिया । जहां उचित था अन्य दलों से आये हुए नेताओं को भी टिकट दिया है । भाजपा ने भी और शिवसेना दोनों ने पार्टी विस्तार के उद्देश्य से किया है ।

बागियों को माना लेंगे।
फड़नवीस ने विश्वास जताया कि भाजपा और शिवसेना दोनों दलों में टिकट नही मिलने और सीटों की अदला बदली को लेकर जो लोग बगावत पर उतारे हैं अगले दो दिनों में उन्हें शांत कराया जाएगा ।पार्टी के लोग इस काम मे लग गए हैं। जो लोग मां जाएंगे उन्हें पार्टी जिम्मेदारी देगो और जो नही मानेंगे उन्हें फिर कभी भाजपा सेना युति में स्थान नही मिलेगा।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned