पालघर: मानव तस्करी गिरोह का भंडाफोड़,वर्षों से फरार चल रहा आरोपी गिरफ्तार

पालघर: मानव तस्करी गिरोह का भंडाफोड़,वर्षों से फरार चल रहा आरोपी गिरफ्तार

Prateek Saini | Publish: Sep, 08 2018 04:22:53 PM (IST) Mumbai, Maharashtra, India

पालघर, मुंबई और कल्याण के पुलिस स्टेशनों में इनके खिलाफ 7 मामले दर्ज हैं...

(पत्रिका ब्यूरो,मुंबई): देश की आर्थिक राजधानी मुंबई के समीप पालघर अपराध शाखा ने मानव तस्करी के गिरोह का भंडाफोड़ करते हुए एक बांग्लादेशी को गिरफ्तार किया है। पुलिस अब तक गिरोह के 7 आरोपियों को गिरफ्तार कर चुकी है, जबकी 6 फरार बताये जा रहे है। पुलिस के अनुसार, गिरोह ने सैकड़ों नाबालिग लड़कियों, युवतियों और महिलाओं को बेच दिया और देह व्यापार में धकेल दिया । पालघर अपराध शाखा की वसई यूनिट के पुलिस निरीक्षक जितेंद्र वनकोटी को सूचना मिली थी की वर्ष 2010 से 2018 के बीच मानव तस्करी करने वाले गिरोह का फरार आरोपी कल्याण आने वाला है। अपराध शाखा की वसई यूनिट के सहायक पुलिस निरीक्षक हितेंद्र विचारे और उनकी टीम ने पिछले आठ वर्ष से फरार चल रहे आरोपी सेदुल महम्मद मुस्लिम शेख को गुरुवार देर शाम कल्याण से गिरफ्तार किया।


कठपुतली बनकर रह जाती थीं लड़कियां

पालघर, मुंबई और कल्याण के पुलिस स्टेशनों में इनके खिलाफ 7 मामले दर्ज हैं। पुलिस की ओर से 13 लोगों के खिलाफ मानव तस्करी का मामला दर्ज किया है। उक्त मामले में कुल 7 आरोपीयों को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने बताया कि मानव तस्करी के लिए गिरोह द्वारा बांग्लादेश से मुंबई और आसपास के क्षेत्रों में अच्छी नौकरी का लालच देकर नाबालिग लड़कियों और युवतियों को भारत लाया जाता था। इनको 50 से 60 हजार से लेकर एक लाख रुपये में बंगलादेशी दलालों से खरीदकर महाराष्ट्र के मुंबई और पुणे में बेचा जाता था। बाद में इन्हें देह व्यापार में धकेल दिया जाता था। दलाल इसके लिए प्रति महीने मोटे कमीशन की राशि लेते थे। यहीं नहीं इनको दलाल के माध्यम से तीन महीनों के लिए बेचा जाता था और तीन माह समाप्त होते ही दूसरे को बेचते दिया जाता है। इस तरह इनके चंगुल में फंसी सभी लड़कियां दलालों के हाथों की कठपुतली बनकर रह जाती थीं।

 

एकाउंट या मोबाइल से होता था लेन-देन...

वर्ष 2010 से 2018 के दरम्यान सेदुल महम्मद मुस्लिम शेख द्वारा सैकड़ों युवतियों और नाबालिग लड़कियों को बांग्लादेश से मानव तस्करी द्वारा भारत मे बेचा चुका था। 6 सितंबर 2018 को सेदुल महम्मद मुस्लिम शेख (45) को पुलिस ने गिरफ्तार किया। सेदुल ने पुलिस को बताया की रुपये का लेन-देन बैंक एकाउंट या मोबाइल से हुआ करता था। पुलिस छानबीन में इसके द्वारा 166 लोगों से रुपयों का लेन-देन होने की बात सामने आयी है। पुलिस के अनुसार, उक्त मामले में उमर फाहरुक, विष्णु मंडल, इमदादुल मुशलिम शेख और अमित शहा आदि शामिल है। यह गिरोह
बांग्लादेश में गरीब परिवार के लोगों को अच्छी नौकरी और काम का लालच देकर उन्हें भारत में बेच दिया जाता था।

Ad Block is Banned