शादी करने से पहले जरूर कर लें ये वित्तीय प्लानिंग, नहीं तो हो सकती है परेशानी

शादी करने से पहले जरूर कर लें ये वित्तीय प्लानिंग, नहीं तो हो सकती है परेशानी

Manish Ranjan | Publish: Nov, 29 2018 03:50:12 PM (IST) | Updated: Nov, 29 2018 03:54:54 PM (IST) म्‍युचुअल फंड

शादी एक ऐसा पवित्र रिश्ता होता है जो न सिर्फ दो इंसानों को एक बंधन में जोड़ता है बाकि दो परिवारों का मेल भी करता है।

नई दिल्ली। शादी एक ऐसा पवित्र रिश्ता होता है जो न सिर्फ दो इंसानों को एक बंधन में जोड़ता है बल्कि दो परिवारों का मेल भी करता है। लेकिन शादी के बंधन में बंधने से पहले अपने और अपने जीवन- साथी के भविष्य के बारे में जरूर सोचे। शादी लड़का-लड़की दोनों के जीवन में बदलाव लेकर आती है। ऐसे में दोनों को ही शादी से पहले अपने भविष्य के बारे में ना सिर्फ सोचना चाहिए बल्कि इसे लेकर अहम कदम भी उठाने चाहिए। शादी के बाद पर्सनल फाइनेंस से लेकर निवेश तक की सभी बातों के बारे में जान लेना चाहिए। यह आपकी वित्तीय स्थिति में बड़ा बदलाव लाती है। कोई भी व्यक्ति जो शादी करने वाला है, उसे वित्तीय जरूरतों को समझ उसके लिए प्लानिंग करनी चाहिए। ऐसी प्लानिंग से ना सिर्फ आप अपने आने वाले भविष्य को अच्छा करते है बल्कि आपके रिश्ते को और मजबूत बना देते हैं।

शादी से पहले जान ले जीवनसाथी की वित्तीय स्थिति

जैसे आप शादी से पहले अपने जीवन साथी से आगे के जीवन के बारे में बातें करते है। ठीक वैसे ही आपको अपने वित्तीय स्थिति को भी अहमीयत देकर इसके बारे में भी एक दूसरे से बाते करनी चाहिए। इससे आप एक दूसरे की वित्तीय जरूरतों और देनदारियों को समझ सकेंगे। दोनों लोगों को इसके बारे में एक दूसरे से बाते करना बेहद ही जरूरी है। इतना ही नहीं दोनों को अपनी क्रेडिट प्रोफाइलिंग जिनमें पुराने बिना चुकता किये लोन, क्रेडिट कार्ड के बिल और एक दूसरे के क्रेडिट स्कोर के बारे में बात करनी चाहिए। इससे दोनों लोगों को एक दूसरे के बारे में अहम बाते पता चल जाएंगी जो की पता होनी बेहद जरूरी हैं।

बैंक खाता ज्वाइंट अकाउंट होगा या नहीं कर ले तय

इस बात को शादी से पहले ही जान लेना जरूरू है की आप इंडिविजुअल बैंक खाते जारी रखेंगे या फिर ज्वाइंट अकाउंट शुरू करेंगे। बता दें की ज्वाइंट बैंक अकाउंट कई बेनिफिट्स ऑफर करता है। साथ ही इसके अकाउंट के रखे पैसों को दोनों लोग इस्तेमाल कर सकते हैं। इससे निकासी, भुगतान और वित्तीय गतिविधियों को ट्रैक करना ज्यादा आसान रहता है। इससे आप लोग खर्चे बढ़ने की स्थिति में उसे नियंत्रित कर सकते हैं। दोनों ही लोगों कोअपने अपने मौजूदा खर्चों के बारे में भी जानकारी साझा करनी चाहिए।

शादी के बाद बढ़ जाते हैं खर्चे

ये तो सभी को पता होता है की शादी के बाद खर्चो में बढ़ोतरी हो जाती हैं। ऐसे में बढ़ जाता है एक बजट तैयार कर लें और अपने मासिक खर्चों को ट्रैक कर उन्हें नियंत्रित रखें। दोनों को मिलकर अपने भविष्य में पड़ने वाली जरूरतों को ध्यान में रखना चाहिए।शादी से पहले फाइनेंशियल असेसमेंट जरूर करें। हर किसी को इस बात का आकलन जरूर करना चाहिए कि आर्थिक रूप से वह जीवन में किस लोकेशन पर खड़े हैं। अपने फाइनेंशियल असेसमेंट में सबसे ज्यादा तरजीह मैजूदा वित्तीय स्टेटस को देनी चाहिए। साथ ही अपने हाल फिलहाल के खर्चों को भी रिव्यू करें। ऐसा करने से प्लानिंग करने में आसानी रहेगी।

 

Ad Block is Banned