सालाना 27 हजार रुपए के प्रीमियम के आपके जीवन में आनंद भर देगी एलआईसी की पॉलिसी

  • एलआईसी की न्यू जीवन आनंद पॉलिसी बचत के साथ सुरक्षा भी करती है प्रदान
  • स्कीम के तहत कम से कम 1 लाख रुपये का सम अश्योर्ड लेना जरूरी

By: Saurabh Sharma

Updated: 18 Apr 2020, 11:14 AM IST

नई दिल्ली। मौजूदा दौर कोरोना संकट का दौर है। ऐसे दौर में हम सब का आर्थिक रूप से मजबूत होना काफी जरूरी है। इस मुश्किल घड़ी में आपकी पुरानी बचत और निवेश से जुटा हुआ रुपया ही काम आता है। जो आपकी और आपके परिवार के जीवन में आनंद की अनुभूति कराता है। अगर आपने अभी तक अपने अपनी बचत और सुरक्षा के अभी तक कोई इंतजाम नहीं किया है तो कोई बात नहीं, आज हम आपको एलआईसी की एक ऐसी ही पॉलिसी के बारे में बताने जा रहे हैं जो आपकी बचत तो कराएगा ही साथ ही आर्थिक सुरक्षा भी प्रदान करेगा। एलआईसी की इस पॉलिसी का नाम है न्यू जीवन आनंद। इस स्कीम में बोनस के फायदों के अलावा रिस्क कवर पॉलिसी अवधि के समाप्त होने के बाद भी जारी रहता है। आइए आपको भी इस पॉलिसी के बारे में पूरी जानकारी देते हैं...

यह भी पढ़ेंः- पूरे देश का पेट भरने में जुटी हैं रेलवे की 'स्पेशल 25' अन्नापूर्णा ट्रेन

पॉलिसी के बारे में जरूरी बातें
- 18 वर्ष या उससे ज्यादा का कोई भी एलआईसी न्यू जीवन आनंद पॉलिसी ले सकता है। वहीं अधिकतम उम्र की सीमा 50 वर्ष रखी गई है।
- पॉलिसी के अंतर्गत न्यूनतम 1 लाख रुपए का सम अश्योर्ड लेना आवश्यक है। इसकी आगे आप कितने ही रुपयों का सम अश्योर्ड ले सकते हैं।
- पॉलिसी की अवधि 15 से 35 साल है। आप ऑफलाइन और ऑनलाइन दोनों जगहों से परचेज कर सकते हैं।
- पॉलिसी का प्रीमियम सालाना, छमाही, तिमाही और मासिक आधार पर किया जा सकता है।
- पॉलिसी के 3 साल पूरा होने पर अपनी पॉलिसी से कर्ज भी ले सकते हैं।
- पॉलिसी से आपको इनकम टैक्स अधिनियम धारा 80ष्ट के तहत प्रीमियम भुगतान के लिए टैक्स बेनिफिट भी मिलता है।
- मैच्युरिटी और मौत के समय मिलने वाली राशि पर भी कोई टैक्स नहीं देना होगा।

यह भी पढ़ेंः- पोस्ट ऑफिस ने बदला नियम, अब स्कीम्स के लिए रखा एक ही फॉर्म

पॉलिसी मैच्योर होने पर मिलेगा लाभ
इसे उदाहरण से समझने का प्रयास करते हैं अगर आपका सम अश्योर्ड 5 लाख रुपए है, उसपर आपको सिंपल रिवर्सनरी बोनस 5.04 लाख रुपए मिलेगा और फाइनल एडिशनल बोनस 10 हजार होगा तो आपको 21 साल पूरे होने पर पॉलिसीधारक जीवित रहते हैं तो 10 लाख से ज्यादा मिलेंगे। वहीं पॉलिसीधारक की मौत हो जाती है तो नॉमिनी को सम अश्योर्ड यानी 5 लाख रुपए दिए जाएंगे। अगर पॉलिसी के बीच में डेथ हो तो- यदि किसी कारणवश पॉलिसीधारक की मौत पॉलिसी के बीच में ही हो जाती है तो उनके द्वारा नामित नॉमिनी को जो बीमा राशि दी जाएगी जो बीमा राशि का 125 फीसदी होगा। वहीं बोनस और अंतिम बोनस भी मिलेगा।

Show More
Saurabh Sharma Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned