किडनी कांड में पुलिस की बड़ी कार्रवाई, हॉस्पिटल सील, डॉक्टर के खिलाफ मुकदमा दर्ज

सीएमओ ने मामले की जांच के लिए गठित की कमेटी।

By:

Published: 24 Jun 2018, 04:06 PM IST

मुजफ्फरनगर। पथरी के आपरेशन के नाम पर गुर्दा निकालने के आरोप के चलते पुलिस ने संबंधित डॉक्टर के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कर हॉस्पिटल को सील कर दिया है। सीएमओ ने मामले की जांच के लिए डॉक्टरों की कमेटी गठित करने की बात कहते हुए किडनी प्रिजर्व करा ली है, जिसकी फोरेंसिक जांच कराई जाएगी। दरअसल मीरापुर के मोहल्ला मुश्तर्क निवासी इकबाल उर्फ सुक्खा के गुर्दे में पथरी थी। इसका आपरेशन कराने के लिए परिजनों ने शुक्रवार को उन्हें नई मंडी क्षेत्र के गर्ग हॉस्पिटल में भर्ती कराया था।

यह भी पढ़ें-दिल्ली: मेजर की पत्नी की सरेराह हत्या करने वाला आरोपी सेना अधिकारी मेरठ से गिरफ्तार

उसके बाद दोपहर को डॉ. विभु गर्ग ने इकबाल का ऑपरेशन किया था। ऑपरेशन के बाद इकबाल के पुत्र इमरान ने हंगामा करते हुए आरोप लगाया कि डॉक्टर ने उसके पिता की किडनी निकाली ली है। हंगामे की सूचना पर पहुंची पुलिस ने लोगों को शांत किया और बर्फ में रखी किडनी को कब्जे में लेकर पूछताछ शुरू की। इस दौरान सीएमओ के निर्देश पर एसीएमओ डॉ. एसके अग्रवाल भी मौके पर पहुंचे। उन्होंने मामले की जांच शुरू की। उन्होंने बताया कि प्रथम दृष्टया जांच में सामने आया है कि ऑपरेशन के दौरान मरीज के शरीर से किडनी निकाल ली गई। साथ ही गुर्दा निकालने के कारणों की जांच के लिए डॉक्टरों की टीम गठित की गई है।

यह भी पढ़ें-इस जिले में भाजपा के बड़े कार्यक्रम में खाली नजर आईं कुर्सियां, मचा हड़कंप

निकाली जाएगी सीसीटीवी फुटेज
एसीएमओ डॉ.एसके अग्रवाल ने बताया कि सीएमओ के निर्देश पर गर्ग हॉस्पिटल के ऑपरेशन थियेटर तथा चिकित्सक के बैठने का कमरा सील कर दिया गया है। उन्होंने बताया कि सीसीटीवी फुटेज देखकर सारे घटनाक्रम की जानकारी हासिल की जाएगी। साथ ही आरोपी चिकित्सक के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई की जा रही है।

यह भी पढ़ें-मासूम बच्ची से दुष्कर्म, मामले ने लिया सांप्रदायिक रूप, गांव में भारी पुलिस बल तैनात

फिलहाल किडनी प्रिजर्व
सीएमओ डॉ.पीएस मिश्र के निर्देश पर पीड़ित इकबाल के शरीर से निकाली गई किडनी को स्वास्थ्य विभाग ने प्रिजर्व करा दिया है। एसीएमओ डॉ. एसके अग्रवाल ने बताया कि गुर्दे की फोरेंसिक जांच कराई जाएगी। जांच के बाद ही उसे शरीर से निकालने का कारण स्पष्ट हो सकेगा। उन्होंने बताया कि इस मामले में आरोपी चिकित्सक के भी बयान दर्ज कर उसका पक्ष जाना जाएगा।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned