आधा दर्जन गुर्गों पर अटकी लेडी डॉन की तलाश

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
नागौर. लेडी डॉन अनुराधा के खास रहे दातार सिंह (30) के पुलिस की गिरफ्त में आने के बाद उसके लिंक भी तलाशे जा रहे हैं। जोधपुर के अलावा नागौर में आनंदपाल के जरिए लेडी डॉन तक बनी पहुंच के सूत्रधार भी खंगालना शुरू कर दिया है।

By: Ravindra Mishra

Updated: 26 Feb 2021, 01:47 PM IST

करीब आधा दर्जन ऐसे बदमाशों पर पुलिस की नजर है जो कभी आनंदपाल के गुर्गे रहे और फिलहार वो दूसरे शहर में अपना ठिकाना बनाने की जुगत में हैं। दातार सिंह समेत मय हथियार हरियाणा के बदमाश भी जयपुर पुलिस ने अभी एक पखवाड़े पहले ही पकड़े थे। डीडवाना के पावटा का दातार जोधपुर से पकड़ा गया। इसके बाद से ही लेडी डॉन को तलाशने में जुटी टीमें दातार के साथियों के साथ हरियाणा तक अनुराधा के गुर्गे ढूंढ रही है। पता चला है कि दो दिन पहले राजस्थान-हरियाणा सीमा पर सटे कुछ स्थानों पर पुलिस ने दबिश
भी दी।
सूत्रों का कहना है कि जयपुर की सीएसटी तो नागौर-सीकर की डीएसटी ही नहीं एसओजी तक लेडी डॉन को पकडऩे के लिए एक साथ जुटी हुई है। कुछ दिन पहल कुचामन में एडीजी अशोक राठौड़ की बैठक के बाद बनी प्लानिंग में यह भी सामने आया कि फिलहाल नागौर-सीकर में अनुराधा के किसी खास गुर्गे के सक्रिय होने की संभावना नहीं है। यानी सीकर-नागौर पुलिस के हिसाब से इन दोनों जिलों में लेडी डॉन का दबदबा पूरी तरह खत्म हो गया है। किसी तरह के बदमाश-गुर्गे उसके लिए काम नहीं कर रहे। नए युवाओं के जरिए ही उसके कुचामन में कराए गए फायरिंग और वसूली के मामले को देखा जा रहा है। फिलहाल लेडी डॉन को पकडऩे का केन्द्र जयपुर बताया जा रहा है। ऐसी संभावना जताई जा रही है कि लेडी डॉन भी जयपुर या उसके आसपास डेरा डाले हुए है। तकरीबन डेढ़ महीने पहले गोटन थाना के पांच गुर्गों को गिरफ्तार किया था। तब लक्ष्मण सिंह को लेडी डॉन का खास बताया गया था, इन पांच में से चार पर कोई मामले दर्ज नहीं थे। तब पुलिस को लगा था कि लेडी डॉन अब जल्द पकड़ में आ जाएगी पर ऐसा हुआ नहीं। हालांकि अब सीकर-नागौर के साथ जयपुर की कमिश्नरेट और एसओजी के एक साथ मिशन पर जुटने से कामयाबी जल्द मिलने के आसार बताए जा रहे हैं।

Ravindra Mishra
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned