script Exclusive Interview: मजबूत नींव डल चुकी, अब मोदी जी के नेतृत्‍व में देश की भव्य इमारत बनाने का काम शुरू होगा- अमित शाह | Amit Shah Exclusive Interview with Patrika Group said foundation of the country has been strongly laid | Patrika News

Exclusive Interview: मजबूत नींव डल चुकी, अब मोदी जी के नेतृत्‍व में देश की भव्य इमारत बनाने का काम शुरू होगा- अमित शाह

locationनई दिल्लीPublished: Jan 16, 2024 08:04:05 am

Submitted by:

Prashant Tiwari

Amit Shah Exclusive Interview: वर्तमान समय में अपने समर्थकों और राजनीति के गलियारे में चाणक्य और प्रधानमंत्री मोदी के सेनापति कहे जाने वाले और देश के गृहमंत्री अमित शाह ने लोकसभा चुनाव से पहले ‘पत्रिका’ समूह के डिप्टी एडिटर भुवनेश जैन के साथ लम्बी चर्चा की।

 Amit Shah Exclusive Interview with Patrika Group said foundation of the country has been strongly laid
गृहमंत्री अमित शाह के साथ बातचीत के दौरान 'पत्रिका’ समूह के डिप्टी एडिटर भुवनेश जैन

‘पत्रिका’ समूह के डिप्टी एडिटर भुवनेश जैन से बात करते हुए गृहमंत्री ने कहा, “2019 में मोदीजी के शासन के सुफल मिलना शुरू हुए थे। 2024 तक बहुत सारे लोगों को फायदा मिला है। देश के विकास की मजबूत नींव डालने का काम समाप्त हो गया है। मोदी जी को 2047 तक के देश की भव्य इमारत बनानी है, इसका खाका खींचने के लिए मैं देश की जनता को अपील करना चाहता हूं।

इसके लिए देश की जनता को और पांच साल मोदी जी के नेतृत्व में भाजपा - एनडीए को मौका देना चाहिए। अब महान भारत की इमारत खड़ी करने का काम शुरू होगा, और जैसा कि मोदी जी ने कहा है 2047 तक पूर्ण विकसित और आत्मनिर्भर भारत खड़ा हो जाएगा।

गृह मंत्री अमित शाह ने अपने साक्षात्कार में नए कानूनों से जुड़े सवालों पर विस्तार से जवाब दिए क्योंकि इन कानूनों में इतने आमूल -चूल परिवर्तन हुए हैं कि देश की जनता को इन्हे गहराई से समझना चाहती है। दूसरी ओर राजनीति से जुड़े विषयों पर उन्होंने संक्षिप्त, किन्तु सटीक जवाब दिए। प्रस्तुत है चर्चा के प्रमुख अंश: सवाल: 2019 और 2024 के चुनाव में क्या अंतर होगा ?


सवाल: राजस्थान, मप्र और छग के राजनीतिक नेतृत्व में पीढ़ीगत बदलाव किया गया है, विपक्ष ने उनके अनुभव को लेकर सवाल उठाया है?

शाह: कोई भी व्यक्ति जब पहली बार मुख्यमंत्री बनता है तो पहली बार ही होता है। वसुंधराजी और शिवराज जी भी पहली बार बने थे। ये तो सांझी प्रक्रिया है। अनुभव तो करने से ही आता है। जिन्हें भी बनाया है वे सार्वजनिक जीवन के लम्बे अनुभवी लोग हैं। मुझे विश्वास है कि जनता की जो अपेक्षाएं हैं वे मोदीजी के नेतृत्व में जरूर पूरी करेंगे।

सवाल: क्या सिटीजन अमेंडमेंट एक्ट (सीएए) लागू हो पाएगा?

शाह: बिलकुल लागू होगा। भारत सरकार का एक्ट है। क्यों नहीं लागू होगा।

सवाल: कश्मीर और नॉर्थ ईस्ट की कानून-व्यवस्था पर आपका क्या कहना है?

शाह : कश्मीर, वामपंथी उग्रवादी क्षेत्रों और नॉर्थ ईस्ट में तीनों जगह आतंकवाद 65 प्रतिशत से ज्यादा कम हो गया है। नॉर्थ ईस्ट में करीब 9 हजार सशस्त्र युवाओं ने सरेंडर किया है। हमने करीब 12 समझौते किए हैं। अच्छा माहौल देश में बना है। कश्मीर के बारे में कई बातें मैने संसद में बताई हैं।

एक करोड़ 80 लाख पर्यटकों का जाना अपने आप में कश्मीर की जनता में विश्वास पैदा करना है। अब जनाजे के जुलूस नहीं निकलते, पथराव नहीं होता, हड़तालें नहीं होती। थियेटर हॉल शुरू हो गए, तीस साल बाद ताजिये के जुलूस शुरू हो गए। बहुत बड़ा परिवर्तन आया है। नक्सल क्षेत्र में भी बहुत बड़ा परिवर्तन आया है।

 

सवाल: कश्मीर में चुनाव की बात कई बार आती है, सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि सितंबर 2024 तक चुनाव हो जाएं। क्या तैयारी है?

शाह : चुनाव आयोग को चुनाव करवाने हैं। सुप्रीम कोर्ट ने जो ऑर्डर दिया है, वह चुनाव आयोग को भी मिला है, हमें भी मिला है। चुनाव आयोग पहल करेगा तो चुनाव तो हो ही जाएंगे।

सवाल : कश्मीर अभी केंद्र शासित प्रदेश है। चुनाव राज्य का दर्जा बहाल होने के बाद होंगे या पहले?

शाह : संसद में मैने स्पष्ट रूप से कहा है कि चुनाव होने के बाद उपयुक्त समय पर हम फिर से राज्य का दर्जा देंगे। इसमें कोई दोराय नहीं है। मैने सार्वजनिक तौर पर यह कहा है।

सवाल: सुप्रीम कोर्ट ने भी 370 पर मुहर लगा दी है कि सरकार का फैसला सही है, लेकिन घाटी की जनता ने इसे मौत की सजा बताया है?

शाह : यह बात घाटी की जनता ने नहीं कही है। 370 के विरोध में जो राजनीतिक लोग हैं, यह उनका कहना है। हम इन परिवारों के फायदे के लिए काम नहीं कर सकते, हम घाटी की जनता के लिए काम कर रहे हैं।

सवाल: धारा 370, राम मंदिर और तीन तलाक के बाद अब समान नागरिक संहिता का मुद्दा शेष रह गया है?

शाह : समान नागरिक संहिता के लिए उत्तराखंड भाजपा सरकार ने कमेटी बनाई है। मुझे लगता है कि इसका काम समाप्त होने के कगार पर है। अभी मुख्यमंत्री ने प्रेस को कहा भी था कि जल्द लेकर आएंगे। अच्छा ही होगा।
सवाल: इंडिया गठबंधन का क्या भविष्य है, क्या आप भी कुछ ऐसा करेंगे?

शाह : वो लोग प्रयास कर रहे हैं, देखिये, उनके एकत्रित होने की कोई संभावना ही नहीं है। मुझे एक राज्य बताइये कि वहां एकत्रित हो गए हों। राजस्थान, मध्यप्रदेश, गुजरात, हिमाचल, छत्तीसगढ़ में कोई है ही नहीं। पंजाब में इकठ्ठा हो नहीं रहे। दिल्ली, बंगाल-केरल में इकठ्ठा हो नहीं रहे। तमिलनाडु, बिहार, महाराष्ट्र में पहले से एकत्रित हैं। नया क्या हुआ? यह सब गठबंधन बनने से पहले हैं। स्थिति जस की तस है।
सवाल: राम मंदिर का चुनाव पर कितना असर होगा?
शाह : यह चुनावी मुद्दा नहीं है। भारत की जनता, देश भर और दुनिया के श्रद्धालु चाहते थे, वहां भव्य राम मंदिर बने। अच्छा हो रहा है कि 550 साल बाद सबकी इच्छा पूरी हो गई। मोदी जी जा रहे हैं 22 को।
सवाल: पुराने साथी जो छोड़कर गए थे नीतीश कुमार आदि, ये आना चाहेंगे तो क्या रास्ते खुले हैं?

शाह: जो और तो से राजनीति में बात नहीं होती। किसी का प्रस्ताव होगा तो विचार किया जाएगा।
सवाल: राजस्थान में पिछले कुछ समय में अपराध तेजी से बढे़ हैं। इस पर काबू पाने के लिए कोई रोड मैप है?

शाह: मैंने भजनलाल जी का स्टेटमेंट सुना है। उन्होंने इसे सबसे ज्यादा प्राथमिकता दी है। मुझे विश्वास है वे इससे निपट लेंगे। भारतीय जनता पार्टी की सरकार जहां भी होती है, वहां कानून और व्यवस्था अच्छी होती है। चाहे पेपर लीक हो या कोई भी बात हो। मुझे भरोसा है भजनलाल जी के नेतृत्व में भाजपा की सरकार अच्छा करेगी।

ये भी पढ़ें: Exclusive Interview: नए कानूनों से विश्व की सबसे आधुनिक न्याय प्रणाली भारत की होगी - अमित शाह

ट्रेंडिंग वीडियो