scriptAtal Bihari Vajpayee's Birth Anniversary: When did he lost by 1 vote? | Atal Bihari Vajpayee's Birth Anniversary: अटल बिहारी वाजपेयी 1 वोट से कब हारे थे? | Patrika News

Atal Bihari Vajpayee's Birth Anniversary: अटल बिहारी वाजपेयी 1 वोट से कब हारे थे?

भारत के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई इस देश की राजनीति की आकाशगंगा में 5 दशकों तक दैदीप्यमान नक्षत्र की तरह रहे। पूर्व प्रधानमंत्री वाजपेई आज होते तो अपना 97वां जन्मदिन मना रहे होते। वाजपेयी जी की जिंदगी के किस्से आदर्श राजनीतिज्ञ , लोकप्रिय नेता, सहृदय कवि के रूप में चर्चा के दौरान याद किए जाते हैं। इस लेख में जानेंगे आखिर कौन था वह सांसद जिसके एक वोट की वजह से वाजपेयी कि 13 महीने पुरानी सरकार गिर गई थी?

नई दिल्ली

Updated: December 25, 2021 10:58:51 am

अटल बिहारी वाजपेई का आज यानी 25 दिसंबर को जन्म जयंती है। भारतीय जनता पार्टी इस दिन को सुशासन दिवस के तौर पर मनाती है। अटल बिहारी वाजपेई को भारतीय राजनीति का शिखर पुरुष क्यों कहा जाता है, इस बात का उदाहरण उन्होंने साल 1999 में मात्र 1 वोट के कारण गिर रही 13 महीने पुरानी सरकार के बाद दिए वक्तव्य में बताया था।

atal_ji.jpg

13 महीने पुरानी एनडीए सरकार के खिलाफ लोकसभा में लाए गए अविश्वास प्रस्ताव पर बहस चल रही थी तब 17 अप्रैल 1999 को लोकसभा में तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई ने अपने भाषण के दौरान यह बात कही- लोग चाहते हैं हमारी सरकार चाले। लोग चाहते हैं हमें सेवा करने का आगे मौका मिले और मुझे विश्वास है कि यह सदन इसी के पक्ष में फैसला करेगा। मगर सदन ने फैसला उनकी सरकार के खिलाफ दिया और महज 1 वोट से वाजपेई की सरकार गिर गई। आज देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई के जन्मदिन के मौके इस कहानी के हर पहलू को जानते हैं|

यह भी पढ़ें :
मोदी सरकार ने कोरोना वैक्सीन की खरीद पर खर्च किए 19675 करोड़, 35000 करोड़ का था बजट

अविश्वास प्रस्ताव की स्थिति क्यों पैदा हुई- साल 1996 में पीवी नरसिम्हा राव के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार के जाने के बाद देश के सियासत में काफी उथल-पुथल मचा। 1996 से लेकर 1998 की शुरुआत तक देश तीन प्रधानमंत्रियों को देख चुका था। इस दौरान 13 दिन के लिए अटल बिहारी वाजपेई की देश के पीएम बने। साल 1998 के आरंभ के साथ ही देश मध्यावधि चुनाव के मुहाने पर फिर से आ खड़ा हुआ था। 16 फरवरी से 28 फरवरी के बीच तीन चरणों में संपन्न हुए चुनाव में किसी पार्टी को फिर से बहुमत नहीं मिला। इस चुनाव में बीजेपी 182 सीटों के साथ सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी बीजेपी ने शिवसेना, अकाली दल, समता पार्टी, एआईएडीएमके और बीजू जनता दल के सहयोग से सरकार बनायी। अटल बिहारी वाजपेई फिर से प्रधानमंत्री की कुर्सी पर विराजमान हुए। तमिलनाडु की पार्टी एआईएडीएमके एनडीए का हिस्सा थी, जो हो तब राज्य की सत्ता से बाहर थी।

बहुमत साबित करने के दिन यानी 17 अप्रैल 1999 की सुबह कांग्रेस नेता शरद पवार ने मायावती से मिलकर बीजेपी की रणनीति को चित कर दिया संसद में पूरे दिन बस चलती रही और आखिर में शाम तक बाद वोटिंग पर पहुंची तब तक सभी गया लग रहा था कि वाजपेई की सरकार इस बाधा को पार कर लेगी मगर वोटिंग के बाद जमीन पर चमके नतीजे ने पूरे देश को हतप्रभ कर दिया| स्पीकर जीएमसी बालयोगी ने घबराए आवाज में कहा- आएय 269, नोज 270 । इसी के साथ NDA और अटल बिहारी वाजपेई की 13 महीने की पुरानी सरकार गिर गई।

कौन था वो सांसद
इसके बाद बहुत श्री आखिर वो एक वोट किसका था, कौन था वह सांसद जिसके संसद में दबाए लाल बटन ने अटल बिहारी वाजपेई सरकार कि 13 महीने पुरानी सरकार को गिरा दी| तब ओडिशा के तत्कालीन मुख्यमंत्री गिरधर गमांग का नाम सामने आया। हालांकि कुछ राजनीतिक एक्सपर्ट का मानना था कि यह एक वोट नेशनल कांफ्रेंस के सांसद सैफुद्दीन सोज का था। सोज ने पार्टी के व्हिप खिलाफ जाकर एनडीए के विरुद्ध वोट दिया था। अगले दिन फारुख अब्दुल्ला ने सोज को पार्टी से निकाल दिया था।

बात साल 2015 की है, जब गिरधर गमांग ने कांग्रेस का दामन छोड़कर बीजेपी के साथ जाने का फैसला किया| तब उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को भेजे इस्तीफे की चिट्ठी में लिखा था, 1999 में लोग मुझे अटल सरकार गिराने का जिम्मेदार मानते हैं, पर पार्टी इस पर मेरे साथ कभी नहीं खड़ी दिखी।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Corona Update in Delhi: दिल्ली में संक्रमण दर 30% के पार, बीते 24 घंटे में आए कोरोना के 24,383 नए मामलेSSB कैंप में दर्दनाक हादसा, 3 जवानों की करंट लगने से मौत, 8 अन्य झुलसे3 कारण आखिर क्यों साउथ अफ्रीका के खिलाफ 2-1 से सीरीज हारा भारतUttar Pradesh Assembly Election 2022 : स्वामी प्रसाद मौर्य समेत कई विधायक सपा में शामिल, अखिलेश बोले-बहुमत से बनाएंगे सरकारParliament Budget session: 31 जनवरी से होगा संसद के बजट सत्र का आगाज, दो चरणों में 8 अप्रैल तक चलेगाHowrah Superfast- हावड़ा सुपरफास्ट से यात्रा करने वाले यात्रियों को परिवर्तित मार्ग से करना पड़ेगा सफर, इन स्टेशनों पर नहीं जाएगी ट्रेनपूर्व केंद्रीय मंत्री की भाजपा में वापसी की चर्चाएं, सोशल मीडिया पर फोटो से गरमाई सियासतTrain Reservation- अब रेल यात्रियों के पांच वर्ष से छोटे बच्चों के लिए भी होगी सीट रिजर्व, जानने के लिए पढ़े पूरी खबर
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.