scriptFor the first time Hindi writer got International Booker Prize | पहली बार हिंदी लेखिका को मिला International Booker Prize, एक मां की पाकिस्तान यात्रा पर आधारित है उपन्यास | Patrika News

पहली बार हिंदी लेखिका को मिला International Booker Prize, एक मां की पाकिस्तान यात्रा पर आधारित है उपन्यास

हिंदी की जानी मानी लेखिका गीतांजलि श्री को वर्ष 2022 के अंतरराष्ट्रीय बुकर पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। वे हिंदी की पहली लेखिका हैं जिन्हें ये पुरस्कार मिला है।

जयपुर

Updated: May 27, 2022 11:34:53 am

दिल्ली की एक लेखिका गीतांजलि श्री अंतर्राष्ट्रीय बुकर पुरस्कार (booker price announced 2022) जीतने वाली पहली हिंदी लेखिका बन गई हैं। हिंदी में पहली बार किसी कृति को बुकर पुरस्कार मिला है। हिंदी की महिला लेखिका गीतांजलि श्री के उपन्यास 'रेत समाधि' ने हिंदी को यह सम्मान दिलाया है। उपन्यास 'रेत समाधि' का अंग्रेजी अनुवाद डेजी रॉकवेल ने 'टूंब ऑफ सैंड' के नाम से किया गया है, जिसने 2022 का अंतरराष्ट्रीय बुकर पुरस्कार जीत लिया है। 50,000 पाउंड के पुरस्कार के लिए चुनी जाने वाली ये पहली हिंदी भाषा की पुस्तक है, बुकर पुरस्कार ने अपने एक ट्वीट में ये कहा है। गीतांजलि श्री का यह उपन्यास भारत के विभाजन पृष्ठभूमि में लिखी गई एक कहानी है, जो अपने पति की मृत्यु के बाद एक बुजुर्ग महिला की कहानी पर आधारित है।
booker_prize_to_geetanjali_shri_hindi_writer.jpg
फोटो - विकीपीडिया, International Booker Prize Award Winner Geetanjali Shri
गीतांजलि श्री का यह उपन्यास हिंदी के जाने माने प्रकाशन राजकमल से आया है। ‘रेत समाधि’ हिंदी की पहली ऐसी कृति है जो अंतरराष्ट्रीय बुकर पुरस्कार की लॉन्ग लिस्ट और शॉर्ट लिस्ट तक पहुंची और आखिरकार जिसने बुकर पुरस्कार जीत भी लिया। बता दें कि बुकर पुरस्कार की लॉन्ग लिस्ट में गीतांजलि श्री की ‘रेत समाधि’ के अलावा 13 अन्य कृतियां भी थीं। ‘रेत समाधि’ गीतांजलि श्री का पांचवां उपन्यास है। पहला उपन्यास ‘माई’ है। इसके बाद उनका उपन्यास ‘हमारा शहर उस बरस’ नब्बे के दशक में आया था। यह उपन्यास सांप्रदायिकता पर केंद्रित संजीदा उपन्यासों में एक है। इसके कुछ साल बाद ‘तिरोहित’ आया। इस उपन्यास की चर्चा हिंदी में स्त्री समलैंगिकता पर लिखे गए पहले उपन्यास के रूप में भी होती रही है। उनके चौथा उपन्यास ‘खाली जगह’ है और कुछ साल पहले ‘रेत समाधि’ प्रकाशित हुआ।
एक माँ की पाकिस्तान यात्रा पर आधारित है उपन्यास
उत्तर प्रदेश राज्य के मैनपुरी शहर में जन्मी 64 वर्षीय गीतांजलिश्री 5 उपन्यासों और कई कहानी संग्रहों के लेखक हैं। टॉम्ब ऑफ सैंड ब्रिटेन में प्रकाशित होने वाली उनकी पहली किताब है। ये रेत समाधि नामक शीर्षक के साथ 2018 में हिंदी में प्रकाशित हुई थी। यह एक माँ की परिवर्तनकारी यात्रा पर आधारित है, जो अपने पति की मृत्यु के बाद उदास हो जाती है। वह तब अपनी जन्मभूमि पाकिस्तान की यात्रा करने का फैसला करती है, वहाँ वह उस सदमे का सामना करती है जो अभी तक अनसुलझा हुआ था। यह सदमा उस किशोरी से जुड़ा हुआ था जो विभाजन में वहां से निकलने में सफल हो गई थी। इस उपन्याक के बारे में बात करते हुए गीतांजलि श्री ने पुस्तक के कवर पर लिखा है कि "एक बार जब आपको महिला और एक बोर्डर मिल जाए, तो एक फिर कहानी खुद ही तैयार हो जाती है यहां तक कि महिलाएं भी अपने आप में कहानी के लिए काफी हैं। महिलाएं अपने आप में कहानियां हैं।
अब तक पांच भारतीयों को दिए जा चुके हैं बुकर पुरस्कार

बता दें इसके पहले अंतरराष्ट्रीय बुकर पुरस्कार अब तक 5 भारतीय या फिर भारतीय मूल के लेखकों को दिए जा चुके हैं। इन लेखकों के नाम और उनकी रचनाएँ तथा प्रकाशन वर्ष इस प्रकार हैं।
1. वी.एस. नायपॉल, इन ए फ्री स्टेट (1971)

2. सलमान रुश्दी, मिडनाइट्स चिल्ड्रन (1981)

3. अरुंधति रॉय, द गॉड ऑफ़ स्मॉल थिंग्स (1997)

4. किरण देसाई, द इनहेरिटेंस ऑफ़ लॉस (2006)
5. अरविंद अडिगा, द व्हाइट टाइगर (2008)

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

मौसम अलर्ट: जल्द दस्तक देगा मानसून, राजस्थान के 7 जिलों में होगी बारिशइन 4 राशियों के लोग होते हैं सबसे ज्यादा बुद्धिमान, देखें क्या आपकी राशि भी है इसमें शामिलस्कूलों में तीन दिन की छुट्टी, जानिये क्यों बंद रहेंगे स्कूल, जारी हो गया आदेश1 जुलाई से बदल जाएगा इंदौरी खान-पान का तरीका, जानिये क्यों हो रहा है ये बड़ा बदलावNumerology: इस मूलांक वालों के पास धन की नहीं होती कमी, स्वभाव से होते हैं थोड़े घमंडीबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयमोदी सरकार ने एलपीजी गैस सिलेण्डर पर दिया चुपके से तगड़ा झटकाजयपुर में रात 8 बजते ही घर में आ जाते है 40-50 सांप, कमरे में दुबक जाता है परिवार

बड़ी खबरें

Maharashtra Crisis: क्या ज्योतिरादित्य सिंधिया के फॉर्मूले जैसा ही एकनाथ शिंदे गुट को लाने की तैयारी में बीजेपी, समझें क्या है पार्टी का प्लान बीMaharashtra Political Crisis: आदित्य को छोड़ शिवसेना के सारे MLA Minister हुए बागी, उद्धव ठाकरे के साथ बचे सिर्फ MLC मंत्रीPresidential Election: यशवंत सिन्हा ने भरा नामांकन, राहुल गांधी-शरद पवार समेत विपक्ष के कई बड़े नेता मौजूदPunjab Budget LIVE Updates: वित्तमंत्री हरपाल चीमा ने कहा- सभी जिलों में बनाए जाएंगे साइबर अपराध क्राइम कंट्रोल रूमपटना विश्वविद्यालय के हॉस्टलों में छापेमारी, मिला बम बनाने का सामानMumbai News Live Updates: मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने बागी मंत्रियों के छीने विभागMaharashtra Political Crisis: महाराष्ट्र में क्या बन रहे हैं नए सियासी समीकरण? बागी एकनाथ शिंदे ने राज ठाकरे से की फोन पर बातचीतयशवंत सिन्हा को समर्थन देगी TRS, क्या BJP के खिलाफ विपक्ष से हाथ मिला रहे KCR?
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.