scriptPM Security Breach Supreme Court Lawyers Received Threats From Khalistan Supporters | PM Security Breach: सिख फॉर जस्टिस का दावा- हमने रोका पीएम का काफिला | Patrika News

PM Security Breach: सिख फॉर जस्टिस का दावा- हमने रोका पीएम का काफिला

PM Security Breach प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पंजाब दौरे पर सुरक्षा में हुई चूक के मामले में नया मोड़ सामने आ गया है। दरअसल सुप्रीम कोर्ट में चल रही सुनवाई के बीच दर्जनभर वकीलों को खालिस्तान समर्थकों की ओर से धमकी भरे कॉल आए हैं। इन कॉल में चौंकाने वाले खुलासे हुए हैं। यही नहीं सिक फॉर जस्टिस ( SFJ ) ने दावा किया है कि पीएम मोदी का काफिला उन्होंने ही रोका था।

नई दिल्ली

Updated: January 11, 2022 08:04:07 am

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा मामले में चूक ( PM Security Breach ) का मामला थमने का नाम नहीं ले रहा है। शीर्ष अदालत ( Supreme Court ) में पहुंचने के बाद इस मामले में भी लगातार नए अपडेट सामने आ रहे हैं। पीएम की सुरक्षा में चूक को लेकर चल रहे विवाद के बीच बड़ी खबर सामने आई है। दरअसल सुप्रीम कोर्ट के वकीलों को खालिस्तान समर्थकों की ओर से धमकी मिली है। ये धमकी भरे कॉल्स इग्लैंड के नंबर से किए गए हैं। सिख फॉर जस्टिस ( SFJ ) की तरफ से वकीलों को ऑटोमेटेड फोन कॉल्स आए हैं। इन फोन कॉल्स के बाद एक बार फिर इस मामले ने तूल पकड़ लिया है।
PM Security Breach Supreme Court Lawyers Received Threats From Khalistan Supporters
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा में हुई चूक मामले में एक नया मोड़ सामने आया है। दरअसल यह विवाद सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया है। इस बीच सुप्रीम कोर्ट के वकीलों को खालिस्तान समर्थकों की ओर से धमकी भरे कॉल आए हैं। ये कॉल इंग्लैंड से आए बताए जा रहे हैं। इन कॉल में ये दावा भी कि गया है कि सिख फॉर जस्टिस की ओर से पीएम मोदी के काफिले को रोका गया था।

यह भी पढ़ेँः PM Security Breach: सुप्रीम कोर्ट ने पंजाब सरकार और केंद्र को जांच से रोका, अब SC के रिटायर्ड जज की अध्यक्षता में बनेगी कमेटी
कॉल से हुए चौंकाने वाला खुलासा

इंग्लैंड से आए इन ऑटोमेटेड कॉल से चौंकाने वाला खुलासा हुआ है। दरअसल कॉल की ऑडियो रिकॉर्डिंग से ये बात सामने आई है कि कॉल करने वाले ने कहा है कि, किसानों और पंजाब के सिखों के खिलाफ दर्ज मुकदमों में सुप्रीम कोर्ट और मोदी की मदद नहीं करो। आपको याद रहना चाहिए कि सिख दंगों और नरसंहार में अब तक भी एक दोषी को भी सजा नहीं दिलवा पाए।
दर्जनभर वकीलों को मिली धमकी

धमकी भले कॉले सुप्रीम कोर्ट के दर्जनभर यानी 12 से ज्यादा वकीलों को आए हैं। वकीलों ने दावा किया है कि उनको धमकी भरी ऑडियो क्लिप मिली है। सुप्रीम कोर्ट के वकील विष्णु शंकर जैन के मुताबिक धमकी भरे ये कॉल आए हैं, जिनमें सुनवाई से दूर रहने को कहा गया है।

फिलहाल इन कॉल रिकॉर्डिंग की जांच की जा रही है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस संगठन ने 5 जनवरी को पंजाब में हुए पीएम मोदी के सुरक्षा में चूक की भी जिम्मेदारी ली है।
यह भी पढ़ेँः PM Security Breach: सिद्धू बोले-पंजाब में जान को खतरा बताना प्रदेश का अपमान, रैली की खामी छिपाने के लिए रचा स्वांग

बता दें कि बीते 5 जनवरी को पंजाब के फिरोजपुर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लौटने का श्रेय भी सिख फॉर जस्टिस ने लिया था। किसान आंदोलन की अवैध तरीके से फंडिंग करने में भी सिख फॉर जस्टिस ( SFJ ) का नाम सामने आया था। एक बार फिर पीएम मोदी की सुरक्षा मामले में चूक को लेकर भी इस संगठन ने बड़ा दावा किया है। हालांकि फिलहाल इस मामले की जांच की जा रही है।

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो सभी वकील इस मामले की शिकायत दिल्ली के पुलिस स्टेशन में कर सकते हैं। वहीं दिल्ली पुलिस भी इस मामले का संज्ञान ले सकती है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Uttarakhand Election 2022: हरक सिंह रावत को लेकर कांग्रेस में विवाद, हरीश रावत ने आलाकमान के सामने जताया विरोधUP Election 2022 : अखिलेश के अन्न संकल्प के बाद भाकियू अध्‍यक्ष का यू टर्न, फिर किया सपा-रालोद गठबंधन के समर्थन का ऐलानभारत के कोरोना मामलों में आई गिरावट, पर डरा रहा पॉजिटिविटी रेटअरुणाचल प्रदेश में भूकंप के झटके, रिक्टर पैमाने पर 4.9 मापी गई तीव्रताभगवंत मान हो सकते हैं पंजाब में AAP के सीएम उम्मीदवार! केजरीवाल आज करेंगे घोषणाpm svanidhi scheme: रोजगार करना चाहते हैं तो बिना गारंटी ले लोन, ब्याज पर 7% मिलेगी सब्सिडीसचिन तेंदुलकर के नाक से बह रहा था खून, फिर भी बोला- 'मैं खेलेगा'नोएडा-गाजियाबाद समेत पूरे एनसीआर में 21-23 जनवरी तक बारिश की संभावना: मौसम विभाग
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.