scriptजो अपने लोगों की सुरक्षा न करे पाए, ऐसी जगह जाने से बचे: धीरेन्द्र कृष्ण शास्त्री | Patrika News
समाचार

जो अपने लोगों की सुरक्षा न करे पाए, ऐसी जगह जाने से बचे: धीरेन्द्र कृष्ण शास्त्री

पंडित धीरेन्द्र शास्त्री ने बिना किसी का नाम लिए कहा कि मैंने कभी नहीं सुना कि जूता पहनकर सत्संग किया जाता है। जो घटना हाथरस में घटी वह दुर्भाग्यपूर्ण है।

छतरपुरJul 05, 2024 / 10:54 am

Dharmendra Singh

birthday

उमड़े श्रद्धालु

छतरपुर. बागेश्वर धाम प्रमुख पंडित धीरन्द्र शास्त्री ने यूपी के हाथरस में हुए हादसे को लेकर बड़ा बयान दिया है। हाथरस हादसे का जिक्र करते हुए पंडित धीरेन्द्र शास्त्री ने कहा है कि जो अपने लोगों की सुरक्षा न कर पाए, ऐसी जगह लोगों को जाने से बचना चाहिए। हाथरस हादसे को लेकर पंडित धीरेन्द्र शास्त्री ने बिना किसी का नाम लिए कहा कि मैंने कभी नहीं सुना कि जूता पहनकर सत्संग किया जाता है। जो घटना हाथरस में घटी वह दुर्भाग्यपूर्ण है।

4 जुलाई को जन्मदिन

4 जुलाई को अपने 28वें जन्मदिन पर उन्होंने कहा कि देखा बुरा मत मानन, जब मंदिर में मंदिर की मूर्ति से ज्यादा पुजारी पूजने लगते हैं तो उस देश में अंधविश्वास अधिक बढ़ जाता है। 28वें जन्मदिन पर हमारा यही संकल्प है कि हिंदू, हिंदुत्व और हिंदुस्तान इस तीन की चर्चा को लेकर पैदल यात्राएं करेंगे। हिंदू राष्ट्र बनाने के लिए और तेजी से कार्य करेंगे। वहीं शादी को लेकर उन्होंने हंसते हुए कहा कि उम्र तो घट रही है, लेकिन शादी तो बुढ़ापे में भी हो सकती है। जल्द ही ब्याह होगा।

गांव-गांव जाकर सनातन धर्म की अलख जगाने का संकल्प


बागेश्वर धाम पीठाधीश्वर पं. धीरेन्द्र कृष्ण शास्त्री भारत हिन्दू राष्ट्र का संकल्प पूर्व में ही ले चुके हैं। इस संकल्प को धरातल पर उतारने के लिए अपने जन्मदिवस पर यह संकल्प लिया कि अब वे गांव-गांव गली-गली जाकर सनातन धर्मावलंबियों को जगाएंगे। सबसे पहली यात्रा बागेश्वर धाम से ओरछा के लिए निकलेगी, इसकी जल्द ही तारीख घोषित की जाएगी। आधी रात से महाराज के जन्मोत्सव के लिए आतिशबाजी शुरू हो गई थी।

उत्साह के साथ जन्मोत्सव मनाया गया

करोड़ों लोगों की आस्था के केन्द्र संतों की तपोस्थली बागेश्वर धाम में पीठाधीश्वर पं. धीरेन्द्र कृष्ण शास्त्री का उत्साह के साथ जन्मोत्सव मनाया गया। अपने जन्मोत्सव पर महाराज ने एक नया संकल्प लिया कि वे अब गांव-गांव की यात्रा कर सनातन धर्मावलंबियों को धर्म के प्रति जगाएंगे। इतना ही नहीं गौमाता की रक्षा, गरीब कन्याओं के विवाह जैसे महत्वपूर्ण कार्यों के प्रति लोगों को जागरूक करेंगे। महाराज ने कहा कि वे अपनी पहली यात्रा बागेश्वर धाम से ओरछा तक निकालेंगे। इसी तरह सिलसिला शुरू होगा। उल्लेखनीय है कि बागेश्वर धाम पीठाधीश्वर के जन्मोत्सव पर बड़ी संख्या में लोग बागेश्वर धाम पहुंचे और उन्हें शुभकामनाएं देते हुए उनका आशीर्वाद लिया। रात 12 बजे से आतिशबाजी शुरू हुई इसके बाद महाराज ऊंट, बग्घी में बैठे और परिक्रमा की। ढोल, नगाड़ों की थाप पर महाराजश्री के अनुयायी झूमते नजर आए।

संतों की पूजा कर लिया आशीर्वाद


बागेश्वर धाम पीठाधीश्वर को आशीर्वाद देने पहुंचे ददरूआ धाम के महंत एवं पड़रिया धाम के महंत पूज्य किशोरदास महाराज, हनुमान गढ़ी के महंत राजू दास महाराज आदि संतों के चरणों की पूजा अर्चना की। दोपहर 3 बजे के बाद संतों का आशीर्वाद लेते हुए भक्तों को दर्शन देने मंच पर बैठे। संतों ने महाराज के मंगल और स्वस्थ रहने का आशीर्वाद दिया। भोजपुरी के कलाकारों ने भजनों की प्रस्तुतियां दीं। महाराज ने सुबह 6 बजे अपने गुरूजी की पूजा की और प्रसाद लगाया। इस मौके पर चित्रकूट से पधारे अमितशरण दास, हनुमान गढ़ी अयोध्या से पधारे 8 साल के महंत राघव दास, केन्द्रीय राज्यमंत्री टोकन साहू, दिल्ली के सांसद मनोज तिवारी सहित बड़ी संख्या में लोग उपस्थित रहे।

Hindi News/ News Bulletin / जो अपने लोगों की सुरक्षा न करे पाए, ऐसी जगह जाने से बचे: धीरेन्द्र कृष्ण शास्त्री

ट्रेंडिंग वीडियो