scriptलखपति बनने के चक्कर में छापने लगे नकली नोट, पकड़े न जाएं इसलिए हर नोट की सीरीज होती थी अलग | Patrika News
समाचार

लखपति बनने के चक्कर में छापने लगे नकली नोट, पकड़े न जाएं इसलिए हर नोट की सीरीज होती थी अलग

पुलिस सरगना से कर रही पूछताछ: सौ और दो सौ के नोट ही छापते थे, ताकि बाजार में आसानी से खप जाएं, लेकिन एक साथ कई नोट खपा दिए, इससे आ गए पकड़ में गांव के क्षेत्रों की दुकानें रहती थीं निशाने पर, 20 हजार के नोट और गांव के क्षेत्रों की दुकानें रहती थीं […]

टीकमगढ़May 14, 2024 / 07:13 pm

हामिद खान

टीकमगढ़. पुलिस गिरफ्त में नकली नोट छापने वाले आरोपी।

टीकमगढ़. पुलिस गिरफ्त में नकली नोट छापने वाले आरोपी।

पुलिस सरगना से कर रही पूछताछ: सौ और दो सौ के नोट ही छापते थे, ताकि बाजार में आसानी से खप जाएं, लेकिन एक साथ कई नोट खपा दिए, इससे आ गए पकड़ में

गांव के क्षेत्रों की दुकानें रहती थीं निशाने पर, 20 हजार के नोट और

गांव के क्षेत्रों की दुकानें रहती थीं निशाने पर, 20 हजार के नोट और प्रिंटर सहित मशीन जब्त

टीकमगढ़/बम्हौरीकलां. लखपति बनने के चक्कर में कियोस्क संचालक नकली नोट छापने के धंधे में उतर गया। आसानी से पकड़ में न आएं इसलिए वह हर नकली नोट की सीरीज और नंबर भी बदल देता था। इस तरह से उसने गांव, देहात के क्षेत्र में काफी नकली नोट खपा दिए। एक साथ कई नोट चलाने पर पूरे मामले का खुलासा हो गया। पुलिस सरगना से पूछताछ कर रही है कि उसने कहां-कहां और कितने नोट खपाए हैं। उसकी गैंग में कितने सदस्य और हैं। पुलिस ने आरोपियों के पास से 22 हजार 100 रुपए के नकली नोट के साथ रंगीन प्रिंटर भी जब्त किया है।
1100 रुपए देकर खरीदा किराना

बम्हौरीकलां थाना क्षेत्र के ग्राम भगवंतपुरा निवासी गौरी शंकर अहिरवार ने थाने में शिकायत दर्ज कराई थी कि उसकी किराने की दुकान पर दो लोग नकली नोट देकर सामान ले गए। 1100 के नकली नोट उसे गांव के ही देवेंद्र कुशवाहा और रूपेंद्र अहिरवार द्वारा दिए गए हैं। मामले को गंभीरता से लेते हुए पुलिस ने दोनों युवकों को पकड़कर पूछताछ शुरू की।
आरोपियों ने बताया कि यह लोग कमीशन पर दूसरे से रुपए लेकर आते थे। ऐसे में एसपी रोहित काशवानी ने इस पूरे गिरोह का पर्दाफाश करने के निर्देश दिए।

50 प्रतिशत पर देता था रुपए
सोमवार को मामले का खुलासा करते हुए जतारा एसडीओपी अभिषेक गौतम ने बताया कि गिरफ्तार किए गए आरोपी देवेंद्र कुशवाहा एवं रुपेंद्र को गिरफ्तार करने पर इन्होंने अपना जुर्म कुबूल कर लिया। साथ ही बताया कि यह दोनों ग्राम लुहरगुवां थाना जेरोन निवासी राकेश कुशवाहा से रुपए लेते थे। राकेश नकली नोट छापता है। यह इन लोगों को आधी कीमत पर यह रुपए देता है। पुलिस ने लुहरगुवांसेआरोपी राकेश कुशवाहा को भी गिरफ्तार कर लिया। जिनसे पूछताछ करने पर उन्होंने अपना जुर्म कुबूल करते हुए पूरे सरगना का खुलासा किया। उन्होंने बताया कि नकली नोट 50 प्रतिशत के कमीशन पर लेकर बाजार में चलाते थे। अ​धिकतर वह ग्रामीण क्षेत्रों में इन नोटों को चलाया करते थे। जिससे लोग कम ही ध्यान दे पाते हैं।
नोट से मिलता-जुलता कागज भी जुगाड़ कर लिया था

एसडीओपी गौतम ने बताया कि आरोपी राकेश कुशवाहा पूर्व में कियोस्क बैंङ्क्षकग एवम फोटोकॉपी का काम करता था। यहीं से उसके मन में यह आइडिया आया। इसके बाद उसने बैंक से आने वाले नई करंसी नोटों की अच्छी फोटोकॉपी करनी शुरू कर दी। इसके लिए उसने नोट से मिलता-जुलता कागज भी जुगाड़ कर लिया था। इन नोटों को खुद चलाने के बाद उसने कमीशन पर कुछ लोगों को तैयार किया था। जो यह रुपए बाजार में खपाते थे। पुलिस ने तीनों आरोपियों से कुल 22100 रुपए के नकली नोट एवं ङ्क्षप्रटर जब्त किया है। मुख्य सरगना राकेश से पूछताछ कर रही है। इस कार्रवाई में बम्हौरीकलां थाना प्रभारी नीतेश जैन के साथ ही साइबर सेल प्रभारी मयंक नगायच, कनेरा चौकी प्रभारी आकाश रूसिया, साइबर सेल के प्रधान आरक्षक रहमान खान, अमर प्रताप के साथ ही पृथ्वीपुर थाना पुलिस साथ रही।

Hindi News/ News Bulletin / लखपति बनने के चक्कर में छापने लगे नकली नोट, पकड़े न जाएं इसलिए हर नोट की सीरीज होती थी अलग

ट्रेंडिंग वीडियो