scriptखुदाई में चोल युग की ऐतिहासिक दुर्लभ पंचलोहे की मूर्तियां और कलाकृतियां मिली | Patrika News
समाचार

खुदाई में चोल युग की ऐतिहासिक दुर्लभ पंचलोहे की मूर्तियां और कलाकृतियां मिली

Ancient Chozha Murtis of Somaskanda

चेन्नईJun 17, 2024 / 02:35 pm

PURUSHOTTAM REDDY

Ancient Chozha Murtis of Somaskanda

चेन्नई. तंजावुर जिले के पापनाशम के पास कोलिरायनपेट्टै गांव में एक घर निर्माण के दौरान खुदाई में चोल युग की ऐतिहासिक दुर्लभ पंचलोहे की मूर्तियां और कलाकृतियां मिली हैं। इस बारे में भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) के अधिकारियों को तुरंत सूचित किया गया। सूचना मिलते ही वे कलाकृतियों को सुरक्षित और उनका मूल्यांकन करने के लिए साइट पर पहुंचे। यह खोज तमिलनाडु के समृद्ध पुरातात्विक परिदृश्य में इजाफ़ा करती है।

खुदाई में क्या-क्या मिला
खुदाई में मिली मूर्तियों में सोमस्कंदर, चंद्रशेखर और तिरुगनसंबंदर जैसे पूजनीय देवताओं को दर्शाया गया है, जो चोल युग की धार्मिक और सांस्कृतिक प्रथाओं के बारे में बहुमूल्य जानकारी देते हैं। संपत्ति के मालिक मोहम्मद फैजल ने एक घर के निर्माण का काम शुरू किया था, जब श्रमिकों को अप्रत्याशित रूप से ये प्राचीन अवशेष मिले। नियमित खुदाई के दौरान श्रमिकों को धरती के नीचे धातु की आवाज सुनाई दी। आगे की खुदाई में अच्छी तरह से संरक्षित पंचलोहे की मूर्तियां और औपचारिक कलाकृतियां मिलीं, जिनके बारे में माना जाता है कि चोल काल के दौरान पूजा अनुष्ठानों में उनका उपयोग किया जाता था।

सांस्कृतिक प्रथाओं की जानकारी

खुदाई की निगरानी कर रहे एएसआई के एक अधिकारी ने कहा, इन मूर्तियों का महत्व बढ़ा-चढ़ाकर नहीं बताया जा सकता। इनसे चोल वंश की धार्मिक और सांस्कृतिक प्रथाओं के बारे में अमूल्य जानकारी मिलती है, जो कला और वास्तुकला में अपने योगदान के लिए प्रसिद्ध है। जैसे-जैसे खुदाई आगे बढ़ रही है, अधिकारी सावधानी बरतने और साइट के ऐतिहासिक महत्व के प्रति सम्मान के महत्व पर जोर दे रहे हैं। कलाकृतियों की आगे की जांच की जाएगी और आगे की पीढिय़ों के लिए उनकी सुरक्षा सुनिश्चित करने को संरक्षण के प्रयास किए जाएंगे।

और खजाने के उजागर होने का इंतजार

कोलिरायनपेट गांव में चल रही खुदाई से प्राचीन तमिलनाडु की सांस्कृतिक प्रथाओं पर प्रकाश डालने वाली अतिरिक्त कलाकृतियां मिलने की भी संभावना है। प्रारंभिक आकलन से पता चलता है कि ये कलाकृतियां चोल काल की हैं, जो 9वीं से 13वीं शताब्दी ई. तक की है, जिसे अपनी कलात्मक और धार्मिक उन्नति के लिए जाना जाता है। शोधकर्ता और इतिहासकार उत्सुकता से और अधिक खजानों के उजागर होने का इंतजार कर रहे हैं, जो दक्षिण भारत में चोल राजवंश के जीवंत इतिहास और स्थायी विरासत पर प्रकाश डालेगा।

कब-कहां क्या क्या मिला

वर्ष 2017 में तंजावुर जिले के पट्टकोट्टै के पास श्रमिकों को पंचलोहे से तैयार 14 प्राचीन मूर्तियां और 7 आसन मिले थे। इसी तरह 2021 में पेरम्बलूर जिले में नींव की खुदाई के दौरान छह हिंदू मूर्तियां मिली थी।

Ancient Chozha Murtis of Somaskanda

Hindi News/ News Bulletin / खुदाई में चोल युग की ऐतिहासिक दुर्लभ पंचलोहे की मूर्तियां और कलाकृतियां मिली

ट्रेंडिंग वीडियो