scriptपौधरोपण पर हर साल 21 करोड़ रुपए खर्च कर रहा वन मंडल, इसके बाद भी घट गई हरियाली | Patrika News
समाचार

पौधरोपण पर हर साल 21 करोड़ रुपए खर्च कर रहा वन मंडल, इसके बाद भी घट गई हरियाली

– इस साल संभाग में 70 लाख पौधों का रोपण करने का लक्ष्य, 75 प्रतिशत रोप भी चुके सागर. वन विभाग में पौधरोपण के नाम पर खेल चल रहा है। सागर संभाग में विभाग हर साल बारिश के दौरान हरियाली बढ़ाने के लिए करोड़ों रुपए खर्च कर पौधरोपण तो करा रहा है, लेकिन वन क्षेत्र […]

सागरJul 11, 2024 / 07:36 pm

प्रवेंद्र तोमर

30 लाख की लगात जमीन का होगा समतलीकरण

30 लाख की लगात जमीन का होगा समतलीकरण

– इस साल संभाग में 70 लाख पौधों का रोपण करने का लक्ष्य, 75 प्रतिशत रोप भी चुके

सागर. वन विभाग में पौधरोपण के नाम पर खेल चल रहा है। सागर संभाग में विभाग हर साल बारिश के दौरान हरियाली बढ़ाने के लिए करोड़ों रुपए खर्च कर पौधरोपण तो करा रहा है, लेकिन वन क्षेत्र बढ़ने की जगह घट रहे हैं। यह हम नहीं बल्कि फॉरेस्ट सर्वे ऑफ इंडिया की हर दो साल में जारी होने वाली रिपोर्ट बताया जाता है। इस साल की बात करें तो संभाग के छह जिलों में वन विभाग ने 70 लाख के आसपास पौधों को रोपने का लक्ष्य रखा है, जिसमें 21.70 करोड़ रुपए के आसपास खर्चा होने का अनुमान लगाया जा रहा है। इतना ही नहीं विभाग के अधिकारियों का कहना है कि इस साल के लक्ष्य में से 75 प्रतिशत पौधरोपण अब तक कर चुके हैं। यानी विभाग लगभग 52 लाख नए पौधे इस साल रोप चुका है।
– ऐसे समझें खर्चे का गणित

वानिकी को विभाग की ओर से एक पौधा तैयार करने के लिए 13 रुपए मिलता है। इस हिसाब से 70 लाख पौधों को तैयार करने पर विभाग ने 9.10 करोड़ रुपए खर्च किया। इसके बाद पौधरोपण के लिए गड्ढा खोदने आकार के हिसाब से रुपए तय हैं, लेकिन सबसे छोटे गड्ढे के लिए भी 4 रुपए तय हैं तो 70 लाख गड्ढे तैयार कराने पर 2.20 करोड़ रुपए के आसपास खर्च आया। इसके अलावा रखरखाव, परिवहन, रोपण आदि को मिलाकर अनुमानित 12 रुपए प्रति पौधा भी खर्च जोड़ा जाए तो 70 लाख पौधों पर होने वाला खर्च 8.40 करोड़ रुपए होता है। यानी कुल-मिलाकर वन विभाग इस साल पौधरोपण पर लगभग 21.70 करोड़ रुपए खर्च कर रहा है।
– नए बांध और अतिक्रमण भी हरियाली घटने की वजह

संभाग मेंं वनक्षेत्र कम होने के पीछे पौधरोपण के नाम पर हर साल हो रहा फर्जीवाड़ा तो है ही, इसके अलावा नए बांधों के निर्माण में भी वनक्षेत्र का बड़ा भूभाग डूब क्षेत्र में आया है। इसके अलावा अधिकारियों की अनदेखी के कारण वनभूमियों पर अतिक्रमण भी हो रहा है। सूत्रों की माने तो सागर सर्किल में ही हजारों हेक्टेयर वनभूमि अतिक्रमणकारियों के कब्जे में है, लेकिन अधिकारी इस भूमि को अतिक्रमणमुक्त कराना तो दूर, इस बात को सार्वजनिक करने से भी बचते आ रहे हैं।
– आधी बात सुनकर ही काटा फोन

सागर सर्किल को लेकर जब सीसीएफ अनिल सिंह से बात की तो उन्होंने आधी-अधूरी बात करके ही फोन काट दिया। उनके अनुसार सर्किल में 28 लाख पौधरोपण का लक्ष्य था, जिसमें से 21 लाख पौधे अब तक रोपे जा चुके हैं। यह कहां रोपे गए हैं ? पिछले सालों की क्या स्थिति रही? इसको लेकर कोई जवाब नहीं दे पाए।
– फैक्ट फाइल

02 सर्किल सागर संभाग में

70 लाख पौधों को रोपने का लक्ष्य

32 लाख के करीब सागर सर्किल का लक्ष्य

31 लाख के करीब छतरपुर सर्किल का लक्ष्य
20 प्रतिशत पूर्व के पौधरोपण की भरपाई

13 रुपए में तैयार होता है एक पौधा

05 रुपए एक गड्ढे की खुदाई पर खर्चा

12 रुपए प्रति पौधा रखरखाव व अन्य खर्चे
…………….

13 रुपए में तैयार होता है एक पौधा

हमें सागर व छतरपुर सर्किल में आने वन मंडलों से करीब 70 लाख पौधों की डिमांड मिली थी। इसके अलावा भी नर्सी में अतिरिक्त पौधे तैयार किए जाते हैं। विभाग एक पौधा तैयार करने के लिए 13 रुपए वानिकी को देता है।
– संजीव झा, प्रभारी सीसीएफ, वानिकी

Hindi News/ News Bulletin / पौधरोपण पर हर साल 21 करोड़ रुपए खर्च कर रहा वन मंडल, इसके बाद भी घट गई हरियाली

ट्रेंडिंग वीडियो