सपा-बसपा छोड़कर भाजपा का दामन थामने वाले बागी नेताओं को भाजपा ने दिया बड़ा तोहफा

इन नेताओं ने भाजपा के मंत्रियों के लिए छोड़ दिए थे अपनी एमएलसी की सीट

By: Iftekhar

Published: 15 Apr 2018, 06:41 PM IST

नोएडा. उत्तर प्रदेश की सरकार के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और उनके दो उप मुख्यमंत्रियों केशव प्रसाद मौर्य और डॉ. दिनेश शर्मा के साथ दो राज्य मंत्रियों की खातिर अपनी विधान परिषद की सदस्यता त्यागने वाले नेताओं को भाजपा ने बड़ा तोहफा दिया है। समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी छोड़कर भाजपा का दामन थामने वाले इन नेताओं के नाम भाजपा ने अपने विधान परिषद सदस्यों के दस प्रत्याशियों के लिए घोषित सूची में शामिल किया है। यानी भाजपा ने अब इन नेताओं को रिटर्न गिफ्ट दिया है। दरअसल, भाजपा सरकार के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जब सीएम बने थे तब वे गोरखपुर से भाजपा के सांसद थे। वहीं, जब उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद फूलपुर से लोकसभा सांसद थे। वहीं, दूसरे उप-मुख्यमंत्री इलाहाबाद के मेयर थे। यानी इन तीनों नाताओं में से किसी के पास भी विधानसभा या विधान परिषद की सदस्यता नहीं थी। इसके अलावा दो मंत्री मोहसिन रजा और महेंद्र सिंह भी सूबे के किसी भी सदन के सदस्य नहीं थे। लिहाजा, इन सभी को 6 महीने के भीतर किसी न किसी सदन का सदस्य बनना जरूरी था। इसलिए बसपा और सपा के नेताओं ने इन मंत्रियों के लिए अपनी पार्टी से बगावत करते हुए उन्हें अपनी सीट दे दी थी। अब भाजपा ने इन सभी नेताओं को रिटर्न गिफ्ट दिया है।

यह भी पढ़ेंः बड़ी खबरः भाजपा ने जारी किए विधान परिषद उम्मीदवारों के नाम, यहां देखें पूरी लिस्ट


अब से करीब छह महीने पहले समाजवादी पार्टी से एमएलसी बुक्कल नवाब ने इस्तीफा देने की शुरुआत की थी। उनके बाद एमएलसी यशवंत सिंह ने इस्तीफा दिया था। फिर बसपा के एमएलसी जयवीर सिंह ने भी अपनी सीट छोड़ दी थी। ये सभी नेता बीजेपी के पाले में आ गए थे। अब मुश्किल वक्त में साथ देने वाले इन नेताओं को भाजपा ने विधान परिषद चुनाव के जरिए सपा और बसपा के बागियों को बड़ा तोहफा देने जा रही हैं।

डॉ. अंबेडकर की 127वीं जयंती पर इस रूप में नजर आए भाजपा सांसद संजीव बालियान

भाजपा ने रविवार को विधान परिषद चुनाव के प्रत्याशियों की जो 10 लोगों की सूची जारी की है। उन दस में से चार नाम सपा और बसपा छोड़कर आए नेताओं के हैं। सपा से भाजपा में पहुंचे बुक्कल नवाब, यशवंत सिंह और सरोजनी अग्रवाल का नाम एमएलसी के लिए जारी सूची में शमिल किया है वहीं, बसपा छोड़कर भाजपा में आए जयवीर सिंह का नाम शामिल किया गया है। गौरतलब है कि ये चारों नेता विधान परिषद के सदस्य थे। इनके इस्तीफा देने से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और डिप्टी सीएम केशव मौर्य और दिनेश शर्मा के साथ मंत्री मोहसिन रजा और महेंद्र सिंह के लिए विधानपरिषद की राह आसान हुई थी।

पुलिस की थर्ड डिग्री से बेहाल युवक को अब अस्पताल ने भी भगाया

मेरठ की डॉ. सरोजिनी अग्रवाल को सपा के कद्दावर मंत्री आजम खां का करीबी माना जाता था। लेकिन पिछले वर्ष उन्होंने सभी को चौंकाते हुए भाजपा का दामन थाम लिया था। राजनीति में ऐसी अटकलें है कि डॉ. सरोजिनी को आजम खां ने ही एमएलसी बनवाया था। हालांकि, अखिलेश सरकार में मंत्री रहे मेरठ के ही शाहिद मंजूर ने डॉ. सरोजनी के एमएलसी बनाए जाने का पुरजोर विरोध किया था, लेकिन आजम खां की जिद पर डॉ. सरोजनी को एमएलसी बनाया गया था।

उत्तर प्रदेश की और ज्यादा खबरों के लिए देखें पत्रिका टीवी

भजपा ने विधान परिषद चुनावों के लिए अपने प्रत्याशियों की लिस्ट जारी कर दी है। इस लिस्ट में 10 प्रत्याशियों को चुनाव मैदान में उतारा है। भाजपा ने ये लिस्ट रविवार को जारी की। इस लिस्ट में बिजनौर से भाजपा के कद्दावर नेता अशोक कटारिया और मेरठ से भाजपा नेत्री सरोजनी अग्रवाल को भी शामिल किया गया है। इनके अलावा भाजपा ने बुक्कल नवाब, यशवंत सिंह, जयवीर सिंह, विद्या सागर सोनकर, विजय बहादुर पाठक और अशोक धवन को अपना प्रत्याशी घोषित किया है।

 

BJP
Show More
Iftekhar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned