गाजियाबाद निवासी डॉ. ऋचा भदौरिया बनीं भाजपा किसान मोर्चा की राष्ट्रीय सचिव

गाजियाबाद निवासी डॉ. ऋचा भदौरिया बनीं भाजपा किसान मोर्चा की राष्ट्रीय सचिव

Rahul Chauhan | Publish: Sep, 06 2018 03:55:24 PM (IST) Noida, Uttar Pradesh, India

भाजपा संगठन में मेन बॉडी के अलावा 6 मोर्चा और 44 प्रकोष्ठ हैं। इन सभी के अलग-अलग पदाधिकारी होते हैं।

गाजियाबाद। आगामी लोकसभा चुनाव को लेकर भारतीय जनता पार्टी लगातार अपने संगठन को मजबूत करने में जुटी है। इसके अंतर्गत वह अपने सभी मोर्चा और प्रकोष्ठों की समस्त जिला, प्रदेश व राष्ट्रीय स्तर की कमेटियों में पार्टी के सक्रिय पदाधिकारियों को जिम्मदारी दे रही है। इसी के तहत भाजपा किसान मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष व सांसद वीरेंद्र सिंह मस्त की संस्तुति पर गाजियाबाद निवासी डॉ. ऋचा भदौरिया को भाजपा किसान मोर्चा का राष्ट्रीय सचिव मनोनीत किया गया है। इससे पहले वे किसान मोर्चा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की सदस्य थीं। इसके साथ ही किसान मोर्चा ने अपनी राष्ट्रीय टीम में ऋचा सहित 6 महिलाओं को पदाधिकारी बनाया है।

यह भी पढ़ें-मोदी सरकार के खिलाफ सड़कों पर उतरे इस समाज ने दी परिणाम भुगतने की चेतावनी

सूत्रों के मुताबिक ऋचा को यह जिम्मेदारी उनकी सक्रियता और पार्टी संगठन के लिए लगातार कार्य करने के बाद दी गई है। वे लंबे समय से भाजपा में काम कर रही हैं। प्राप्त जानकारी के मुताबिक भाजपा संगठन में 6 मोर्चा और 44 प्रकोष्ठ हैं। इन सभी के अलग-अलग पदाधिकारी होते हैं। इनमें से किसान मोर्चा, महिला मोर्चा, युवा मोर्चा, मजदूर मोर्चा, अल्पसंख्यक मोर्चा, अनुसूचित मोर्चा, समाज कल्याण प्रकोष्ठ, प्रबुद्ध प्रकोष्ठ, एनजीओ प्रकोष्ठ आदि प्रमुख हैं। इस समय भाजपा में सभी मोर्चा व प्रकोष्ठों की राष्ट्रीय स्तर से लेकर जिला स्तर तक के अध्यक्षों, संयोजकों व प्रभारियों की नियुक्ति का काम तेजी से चल रहा है।

यह भी पढ़ें-भारत बंद को लेकर सवर्णो ने दी अब यह चेतावनी, केंद्र सरकार की बढ़ सकती है मुश्किलें

dr. richa bhadauriya bjp leader

यह भी देखें-सवर्ण समाज के लोगों ने SC/ST एक्ट का किया विरोध

पार्टी सूत्रों का कहना है कि लोकसभा चुनाव को लेकर संगठन को मजबूत करने पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। साथ ही 10 सितंबर तक सभी बूथों की बूथ कमेटियों के गठन का भी लक्ष्य कार्यकर्ताओं को दिया गया है। इसके अलावा नए मतादाताओं के वोट बढ़वाने का काम भी पार्टी के कार्यकर्ता कर रहे हैं। भारत निर्वाचन आयोग द्वारा 30 सितंबर तक मतदाता सूचियों के पुनरीक्षण का कार्य किया जा रहा है। जिसके अंतर्गत नए वोट बनाने, मतदाता पहचान पत्र बनाने, मतदाता सूची में नाम मेें गड़बड़ी होने पर संशोधन कराने का कार्य किया जा रहा है।

Ad Block is Banned