16 साल की उम्र में तैयार की खास वेबसाइट, राष्ट्रीय बाल पुरस्कार से सम्मानित, पीएम मोदी ने भी की तारीफ

Highlights

-चिराग नोएडा के सेक्टर-40 में अपने परिवार के साथ रहते हैं

-यह पुरस्कार उन्हें इनोवेशन के क्षेत्र में उत्कृष्ट योगदान के लिए गया

-चिराग ने 11वीं की पढ़ाई के समय चीनी ऐप का विकल्प खोजने के लिए वेबसाइट बनाई

By: Rahul Chauhan

Published: 26 Jan 2021, 10:48 AM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

नोएडा। भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रीय बाल पुरस्कार विजेताओं के साथ सोमवार को बातचीत की। इसमें नोएडा के रहने वाले चिराग भंसाली भी मौजूद थे। चिराग भंसाली को भी राष्ट्रीय बाल पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। पीएम मोदी ने बाल पुरस्कार विजेताओं को बधाई दी है। चिराग ने 12 साल की उम्र में कोडिंग सीखनी शुरू की और 16 साल के उम्र में उन्होंने चीनी ऐप का विकल्प खोजने के लिए ‘स्वदेशी टेक’ नाम से वेबसाइट बनाई है।

यह भी पढ़ें: पुलिस का धन्यवाद करते हुए भाजपा विधायक बाेले मुझे मुकदमाें ने बनाया दिया नेता, देखें वीडियो

दरअसल, चिराग नोएडा के सेक्टर-40 में अपने परिवार के साथ रहते है। उनका चयन राष्ट्रीय बाल पुरस्कार के लिए हुआ है। यह पुरस्कार उन्हें इनोवेशन के क्षेत्र में उत्कृष्ट योगदान के लिए गया। चिराग ने नोएडा के डीपीएस स्कूल में 11वीं के छात्र के समय में चीनी ऐप का विकल्प खोजने के लिए ‘स्वदेशी टेक’ नाम से वेबसाइट बनाई। उन्होंने बताया कि उनको नई तकनीकी में कोई रुचि नहीं है। चीनी ऐप पर प्रतिबंध के बाद उन्होंने 'स्वदेशी टेक' नाम से नई ऐप बनाई है। जो लोगों को प्रतिबंधित ऐप का विकल्प खोजने में मदद करती है। उसने अपने साथियों को चीनी ऐप का उपयोग करते देख और इनोवेटर सोनम वांगचुक के वीडियो से प्रेरित होकर यह वेबसाइट बनाई है।

यह भी देखें: 26 जनवरी पर मेरठ सहित पश्चिम उप्र में अलर्ट

वहीं चिराग के पिता नीरज भंसाली ने बताया कि चिराग ने 12 साल की उम्र में कोडिंग सीखनी शुरू कर दी थी। वह कुछ अन्य वेबसाइटों का निर्माण भी कर चुके हैं। चिराग ने वेबसाइट में ऐप को विभिन्न श्रेणियों में विभाजित किया है। शुरुआत में वेबसाइट पर 56 ऐप के विकल्प थे। जिन्हें लगातार बढ़ाया गया है।

Show More
Rahul Chauhan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned