कमाई का जरिया बना देश का हाईटेक ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस-वे, जाने कैसे चोर लगा रहे सरकार को चूना

Ashutosh Pathak

Publish: Jun, 14 2018 02:43:19 PM (IST)

Noida, Uttar Pradesh, India
कमाई का जरिया बना देश का हाईटेक ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस-वे, जाने कैसे चोर लगा रहे सरकार को चूना

करोड़ों की लागत से बने ईस्टर्न पेरिफेरल पर चोरों की नजर, उद्घाटन को एक महीना भी नहीं हुआ उड़ा ले गए लाइटें

बागपत। भारत को एक उन्नत और साधन संपन्न राष्ट्र बनाने के लिए सरकार तमाम प्रयास कर रही है। जनता की मूलभूत सुविधाओं को ध्यान में रखते हुए पानी बिजली के साथ ही यातायात के लिए आधुनिक तकनीक से लैस ट्रेन से लेकर करोड़ों की लागत से एक्सप्रेस-वे बना रही है। जिससे लोग फर्राटा भरते हुए अपने गंतव्य तक बिना किसी परेशानी के पहुंच सके। लेकिन शायद चोर सरकारी की तमाम योजनाओं पर पलिता लगाने पर तुले हैं। जी हां हम ऐसा इस लिए कह रहे हैं क्योंकि हाल ही में प्रधानमंत्री ने देश के पहले हाईटेक एक्सप्रेस-वे का उद्घाटन किया है जिसे अभी एक महीना भी नहीं हुआ है लेकिन चोरों ने उसे अपनी कमाई का जरिया बना लिया है।

ये भी पढ़ें : ट्रेन में सफर करने वालों के लिए बड़ी खबर, रेलवे ने टिकट बुकिंग के लिए शुरु किया नया मोबाइल एप

कुछ दिनों पहले आधुनिक तकनिक से लैस महामना ट्रेन में टोटी, डस्टबिन चुराने का मामला सामने आया था। जिसके बाद सरकार ने ट्रेन की सुरक्षा और बढ़ा दी। लेकिन इस बार चोरों ने करोड़ों की लागत से पश्चिमी उत्तर प्रदेश में बना ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे को ही अपना निशाना बनाया है। देश का आधुनिक और सबसे सुंदर एक्सप्रेसवे चोरों के लिए मुनाफे का सौदा साबित हो रहा है। जहां आये दिन इस एक्सप्रेसवें से सौलर पैनल सहित लाखों का कीमती सामान चोरी हो रहा है। इसके बाद भी एनएचएआई इस को गंभीरता से नहीं ले रहा है। हालत ये है कि एक्प्रेसवें पर बने देश की धरोवर के प्रचीन कलाकृतियों के माॅडल तक तोड दिये गये हैं।

ये भी पढ़ें : राहुल गांधी की इफ्तार पार्टी में खूब हुर्इ मिशन 2019 पर बातें, भाजपा के खिलाफ एक मंच पर आए दल अब करेंगे ये काम

27 मई को यूपी के बागपत में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने केंद्र सरकार की महत्वकांक्षी योजना यानी ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे का उद्घाटन किया था। लेकिन अभी उसके उद्घाटन को एक महीने भी नहीं बीता की चोरों की नजर उस पर पड़ चुकी है। ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवो के उद्धघाटन को लेकर जितना शोर शराबा सरकार द्वारा किया गया और निर्माण कंपनी ने इसकी देख रेख के लिए जो सपने दिखाए वे धुमिल होते जा रहे हैं। न तो अभी तक एक्प्रेसवे का काम पूरा हो पाया है और न ही इस एक्सप्रेसवे पर सुरक्षा के कोई इंतजाम किये गये हैं। आलम यह है कि प्रतीक चिन्ह से लेकर लाईट तक के कोई इंताजम अभी तक एक्सप्रेसवे पर नहीं है। निर्माण कंपनी द्वारा इतनी लापरवाई बरती जा रही है कि हाईवे पर लगी सोलर लाईटे और उनको आपरेट करे वाले सिस्टम तक चोरी कर लिये गये है।

ये भी पढ़ें : अगर रात में करते हैं ऑटो से सवारी, तो हो जाएं सावधान, इस तरह देते हैं ड्राइवर वारदात को अंजाम

सोलर पैनल के अलावा बैटरी, लोहा और अंडर पास की लाइटें आदि सामान चुराकर ले गए। एनएचएआइ के अधिकारी नुकसान की सूची तैयार कर रहे हैं। डासना से कुंडली तक जगह-जगह सामान चोरी किया गया है। चोरी हुए सामान की कीमत लाखों रुपये होने का अनुमान है। एक्सप्रेस वे से उपकरण चोरी की घटनाएं पुलिस के सिर का दर्द बनती जा रही है।एसपी बागपत जयप्रकाश ने चोरी की घटनाओं को रोकने के आदेश दिये है। वहीं लगातार हो रही चोरी की घटनाओं से सवाल उठता है कि जब एक्सप्रेसवे के सामान ही सुरक्षीत नहीं है तो यात्रियों की सुरक्षा कैसे संभव है।

ये भी पढ़ें : ईद की खरीदारी करने जा रहे हैं, तो जान ले क्या क्या है फैशन में, मॉल और बाजारों में किसकी बढ़ गई है डिमांड

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

Ad Block is Banned