NOIDA: 8 साल से नहीं भरी सूनी गोद तो दंपति ने कर लिया 6 साल के मासूम का अपहरण, छह माह पहले ही कर ली थी प्लानिंग

NOIDA: 8 साल से नहीं भरी सूनी गोद तो दंपति ने कर लिया 6 साल के मासूम का अपहरण, छह माह पहले ही कर ली थी प्लानिंग

Nitin Sharma | Publish: Jul, 14 2019 07:51:05 PM (IST) Noida, Gautam Budh Nagar, Uttar Pradesh, India

मुख्य बातें

  • छह माह से नाम बदलकर पड़ोस में किराये पर रह रहे थे दंपति
  • बच्ची का अपहरण करते समय सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई थी फुटेज
  • पुलिस ने दंपति समेत बच्चे के अपहरण में मदद करने वाले को भी लखनऊ से किया गिरफ्तार

नोएडा। हाईटेक सिटी के सेक्टर 53 स्थित गिझोड़ से 9 जुलाई को अगवा हुए छह वर्षीय बच्चे को पांच दिन बाद नोएडा पुलिस ने लखनऊ से सकुशल बरामद कर लिया। इसके साथ ही पुलिस ने इस वारदात को अंजाम देने वाले दंपति समेत तीन लोगों को गिरफ्तार किया है। इसमें पुलिस ने खुलासा किया कि आरोपियों ने यह बच्चा फिरौती के लिए नहीं बल्कि अपनी सूनी गोद भरने के लिए अपहरण की वारदात को अंजाम दिया था।

 

nn

घर के बाहर खेलते समय बच्चे का दंपति ने कर लिया था अपहरण

जानकारी के अनुसार, सेक्टर-53 स्थित गिझौड़ गांव के शिव दुर्गा मंदिर के पास नरेंद्र अपनी पत्नी और छह वर्षीय बेटे उत्कर्ष के साथ किराये पर रहते है। वह एक प्राइवेट कंपनी में नौकरी करते है। 9 जुलाई दिन मंगलवार को नरेंद्र का बेटा उत्कर्ष घर के बाहर खेल रहा था, लेकिन यहां से कुछ देर बाद ही वह लापता (MISSING) हो गया। उसके कुछ पता न लगने पर नरेंद्र ने मामले की शिकायत कोतवाली सेक्टर-24 पुलिस को दी। पुलिस बच्चे की गुमशुदगी दर्ज (MISSING CASE) कर जांच में जुट गई। इसी दौरान पुलिस को एक सीसीटीवी फुटेज (CCTV FOOTAGE) मिली। इसमें देखा गया कि एक महिला और पुरुष उत्कर्ष को उठाकर ले जा रहे है। उसके बाद पुलिस ने मामले को अपहरण (KIDNAPPING CASE) की धाराओं में दर्ज कर बच्चे की तलाश शुरू कर दी।

kidnapping case

पुलिस ने लखनऊ (LUCKNOW) से बच्चा बरामद कर आरोपी दंपित समेत तीन को दबोचा

पुलिस फुटेज मिलते ही जांच तेज की तो पता चला कि बच्चे का अपहरण (KIDNAPPING) किसी पड़ोसी दंपति (COUPLE) ने किया है। जो यहां नाम बदलकर रह रहे थे। पुलिस टीम ने सर्विलांस की मदद से रविवार को बच्चे को लखनऊ से बरामद कर आरोपी दंपति समेत तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस पूछताछ में आरोपी दंपति की पहचान की प्रदीप दुबे और पिंकी दुबे के रूप में हुई। जबकि संदीप दुबे इनके जानकार हैं। जिन्होंने बच्चे को अपहरण (KIDNAPPING) करने के बाद संदीप के घर रखा था।

nn

दंपति ने बच्चे की अपहरण (KIDNAPPING) की बताई चौंकाने वाली वजह

इस मामले का खुलासा करते हुए एसएससी ने बताया कि प्रदीप और पिंकी पति - पत्नी है। इनकी शादी लगभग 8 साल पूर्व हुई थी । शादी के बाद से अब तक कोई संतान नहीं है। जिसके कारण गांव के लोग दोनों को तरह-तरह के ताने देते थे। तानों से परेशान होकर दोनों ने लगभग 2 वर्ष गांव के लोगों को झूठी सूचना दे दी कि पिंकी को बच्चा होने वाला है। इस योजना के अनुसार दोनों लगभग 6 माह पूर्व गिझोड गांव में मूलचंद के यहां नाम बदलकर किराये पर कमरा लेकर रहने लगे। 9 तारीख की शाम को दोनों बच्चे का अपहरण कर किराये का कमरा छोड़कर लखनऊ चले गए थे। यहां वह संदीप दुबे के मकान में रुके थे और पुलिस इलेक्ट्रॉनिक्स सर्विलांस और मुखबिरी के माध्यम से पुलिस को बच्चे के लखनऊ में होने कि जानकारी मिली। जिसके आधार पर थाना 24 की टीम ने लखनऊ रवाना हो गई और रविवार सुबह सफलतापूर्वक अपहरणकर्ताओं को गिरफ्तार कर बच्चे को सकुशल बरामद कर लिया।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned