scriptGulab Kothari Article Sharir Hi Brahmand 23 july 2022 hybridism flow | वर्णसंकरता का प्रवाह | Patrika News

वर्णसंकरता का प्रवाह

Gulab Kothari Article Sharir Hi Brahmand: शरीर और मन यदि व्याधि ग्रस्त हो, तो कुल कुण्डलिनी शक्ति (पिण्ड) का प्रकाश लुप्त हो जाता है। सारी आध्यात्मिक शक्तियों का पतन हो जाता है। वे क्षीण होते-होते लोप हो जाती हैं... 'शरीर ही ब्रह्माण्ड' श्रृंखला में पढ़िए पत्रिका समूह के प्रधान संपादक गुलाब कोठारी का यह विशेष लेख-

Updated: July 23, 2022 08:35:28 am

Gulab Kothari Article Flow of Hybridism: सभ्यता के साथ कई बार अनजाने में संस्कृति भी बदल जाती है। एक झूठ को सौ बार बोलो तो सत्य बन जाता है। किसी युग का त्याज्य शब्द आज प्रचलन में आ रहा है। क्यों? कोई नहीं जानता। सही पूछो तो गीता की बातें तो सब करते हैं, किन्तु कोई उसका अनुसरण करने की कहां सोचता है। सभ्यता की दृष्टि से आर्य सभ्यता उच्च श्रेणी की प्रमाणित हुई है। कई परम्पराओं की परीक्षा भिन्न-भिन्न देशों के वैज्ञानिक भी करते रहे हैं। उदाहरण के लिए बीसवीं सदी के पूर्वाद्र्ध में पश्चिमी देशों के डॉ. हेस, शिकागो के डॉ. अर्नस्ट अलबर्ट, एलेग जेण्ट वीरेर, डॉ. ओसिलो आदि ने वर्णव्यवस्था की वैज्ञानिक व्याख्या का पूर्ण परीक्षण किया। आसलोग्राफ-ओसलोफोन आदि का निर्माण भी किया।
वर्णसंकरता का प्रवाह
वर्णसंकरता का प्रवाह
इन यन्त्रों से वैज्ञानिकों ने सिद्ध कर दिया कि प्राणीमात्र के रक्त में चार प्रकार के विभाग पाए जाते हैं। जिनको आज ब्लड ग्रुप A-B-AB-O कहा जाता है। इनकी परीक्षा से सभी प्राणियों की (मानव सहित) प्रकृति, रुचि, व्यवहार आदि का पता लगाया जा सकता है। यह भी निश्चय किया जा सकता है कि यह किसकी सन्तान है।

अदालतों में इन यन्त्रों का विशेष उपयोग होता है। निष्कर्ष यह है कि भिन्न-भिन्न रक्तों के सम्मिश्रण से जो एक शरीर पैदा होगा, भारतीय संस्कृति के शब्दों में वह वर्णसंकर होगा। उसमें माता-पिता के सभी दोष होंगे, गुण नहीं होंगे। प्राय: ऐसी संतति उन्मत्त, विक्षिप्त या दुष्ट प्रकृति की होगी। पूर्वकाल में मनु ने लिखा था-

पित्र्यं वा भजते शीलं मातुर्वोभयमेव वा।
न कथंचन दुर्योनि: प्रकृतिं स्वां नियच्छति।। (10.59)
अर्थात्-वर्णसंकर में माता या पिता के या दोनों के दुष्ट स्वभाव की अनुवृत्ति होती है। वह अपनी आदत को नियम में नहीं ला सकता।

यह भी पढ़ें

शरीर ही ब्रह्माण्ड : हर प्राणी का आत्मा ईश्वर समान



उन विद्वानों ने यह भी सिद्ध कर दिया कि रक्त के इन चार भेदों के उपभेद भी बहुत हैं। देशों के अनुसार भी इनके प्रभाव में अन्तर आ जाता है। उन एक ही उपभेद वाले रक्तों का परस्पर सम्बन्ध होने से सन्तति या तो होगी ही नहीं या शीघ्र विच्छिन्न हो जाएगी। सन्तति यदि आगे चली तो विकृत मस्तिष्क की होगी।

विवाह सम्बन्ध से (भारतीय परम्परा से) स्त्री की मन-प्राण आदि की एकता सम्पादित की जाती है। अत: सन्तान गुणवती होती है। इस दृष्टि से हमारी वर्ण व्यवस्था में दोष का स्थान नहीं था। केवल निकृष्ट वर्णसंकर को ही अस्पृश्य माना गया था।

महाभारत युद्ध के दौरान कितने योद्धा-वीर आदि काम आ चुके थे, हजारों हजार! तब देश में लुटेरों ने ही स्त्रियों को शिकार बनाया। वर्णसंकर ही सर्वत्र छा गए। क्या देश की गुलामी का श्रेय इस अवस्था को दिया जाए तो सही नहीं होगा? आज शिक्षा और नौकरी की नई व्यवस्था ने विश्व को पुन: उधर ही धकेलना शुरू कर दिया।

यह भी पढ़ें

शरीर ही ब्रह्माण्ड : आसक्त मन बाहर भागता है



जबकि गीता में इस विषय पर जो कहा है, उसे भी देख लेना अनुचित नहीं होगा-
अधर्माभिभवात्कृष्ण प्रदुष्यन्ति कुलस्त्रिय:।
स्त्रीषु दुष्टासु वाष्र्णेय जायते वर्णसङ्कर:।। (गीता 1.41)
दोषैरेतै: कुलघ्नानां वर्णसङ्करकारकै:।
उत्साद्यन्ते जातिधर्मा: कुलधर्माश्च शाश्वता:।। (गीता 1.43)

वर्णसंकर कारक दोषों से कुलघातियों के सनातन कुलधर्म नष्ट हो जाते हैं। वर्णसंकर का दिया हुआ पिण्ड या जल पितरों को प्राप्त नहीं होता। (1.42) । पं. गिरिधर शर्मा ने गीता व्याख्यान माला में लिखा है कि पुरुष बीज है, स्त्री धरती है। जहां पिता का बीज प्रभावी हो और माता का वर्ण तदनुरूप नहीं हो तो वे 'अनुलोम संकर' कहलाते हैं।

बीज की प्रधानता से उन्हें ज्यादा दूषित नहीं माना जाता। जहां माता का वर्ण प्रभावी हो, पिता का बीज निकृष्ट हो, वे 'प्रतिलोम संकर' कहे जाते हैं। यहां बीज निकृष्ट होने से संतति में विशेष दोष आते हैं। संसर्ग दोष को विज्ञान भी मानता है। रोगी के साथ संसर्ग के लिए डाक्टर भी मना करते हैं। दोनों ही परिस्थितियों में माता-पिता के गुण संतान में नहीं आते।

यह भी पढ़ें

पशु : मानव से अधिक मर्यादित



हमारे ऋषियों ने शरीर दोष के आगे परीक्षण करके अन्त:करण के दोषों का भी संक्रमण माना है। बेमेल अथवा निकृष्ट संसर्ग से उन कुलों को भी कोई लाभ होने वाला नहीं। क्योंकि सन्तति में कोई गुण नहीं आ रहा। उनके अन्त:करण में तामस भाव आ जाएंगे। पूर्वजों के दोष का फल सन्तानें भी भोगती हैं।

कुल क्रमागत (हेरिडिटरी) रोग प्रत्यक्ष देखे जा सकते हैं। स्थूल रोगों का संक्रमण तो प्रत्यक्ष है, एवं सूक्ष्म रजोगुण, तमोगुण का संक्रमण भी प्रकृतिसिद्ध है। रक्तशुद्धि के उद्देश्य से, अपने को अपवित्रता से बचाने को ये उपाय प्रवृत्त हुए। इतिहास साक्षी है कि अर्जुन की ये शंकाएं आगे चलकर बिल्कुल सत्य साबित हुईं।

योगीराज श्यामाचरण लाहिड़ी ने लिखा है कि आध्यात्मिक दृष्टि से हम विषय भोग ही करें या साधन-भजन ही करें, दोनों अवस्थाओं में सप्तदश (सत्रह) अवयवात्मक सूक्ष्म देह यानी दस इन्द्रियां, पांच प्राण, मन और बुद्धि के बिना कुछ होने का नहीं। इन सबकी सामूहिक शक्ति को कुल कहते हैं। मेरुदण्ड कुलवृक्ष है। कुल शक्ति के नष्ट हो जाने पर जीव के प्राण, मन और इन्द्रियां सभी अधर्म के द्वारा अभिभूत (पीडि़त) हो जाते हैं। दुर्बल होकर जिसकी जो भी शक्ति है, वह नष्टप्राय: हो जाती है।

यह भी पढ़ें

शरीर ही ब्रह्माण्ड: मानव योनि में पशु भाव



इन सब असंयमों के फलस्वरूप उनकी सन्तानें भी भ्रष्ट बुद्धि लेकर जन्म ग्रहण करती हैं। उनसे कोई अधर्म किए बिना बाकी नहीं रहता। अत: कुलधर्म की रक्षा अनिवार्य है। लाहिड़ी कहते हैं कि आजकल के समाज में वर्णसंकर को निन्दनीय नहीं समझा जाता। भविष्य में चलन और भी बढ़ सकता है।

नहीं तो कलियुग का पूर्ण प्रादुर्भाव कैसे होगा? आज खानपान की वस्तुओं का मिश्रण इतना दूषित हो गया है कि भयंकर दोष-रोग पैदा हो रहे हैं। तब शरीरादि धातुओं में यह संकरत्व महान अनिष्टकारी होगा ही। आजकल साधन में, वैराग्य में, भक्ति में, ज्ञान में, इस धर्म भ्रष्टकारी संकरत्व के प्रचार को देखकर स्तंभित हो जाते हैं।

शिक्षा के व्यभिचार से स्त्रियां पुरुष भाव वाली तथा पुरुष स्त्री भाव वाले होते जा रहे हैं। धर्मानुष्ठान के प्रति किसी में वैसी श्रद्धा नहीं रही। शरीर और मन यदि व्याधि ग्रस्त हो, तो कुल कुण्डलिनी शक्ति (पिण्ड) का प्रकाश लुप्त हो जाता है। सारी आध्यात्मिक शक्तियों का पतन हो जाता है। वे क्षीण होते-होते लोप हो जाती हैं।

यह भी पढ़ें

शरीर में भी अग्नि-वायु-आदित्य



जैसे संकर बाजरे की तीसरी फसल को 'इरगिट' नष्ट कर देती है। मृत्यु के समय हमारा मातृ देह नष्ट होता है, पितृ देह (पिण्ड) कुछ काल तक रहता है। मरण-मूच्र्छा टूटते ही इसको भूख-प्यास का अनुभव होने लगता है। स्वजनों को देखने की इच्छा करता है। नाना प्रकार के कष्ट भी इस देह को भोगने होते हैं।

अत: इसको शीघ्र नष्ट करने के लिए शास्त्रों में अनेक उपचार भी दिए हैं। पिण्डोदक क्रिया के बिना यह देह नष्ट नहीं होता। कुण्डलिनी शक्ति का नाम ही पिण्ड है। यह क्रिया पुत्र द्वारा ही उपकारी होती है। वर्णसंकर संतान द्वारा नहीं होती। क्योंकि संकरत्व से लोग अपना वैशिष्ट्य खोकर अधम बन जाते हैं।

यह भी पढ़ें

मानवविहीन पशु साम्राज्य : सेरेनगेटी



हम जिसे कुल धर्म मानते हैं वह बाह्य-सामाजिक स्वरूप है। आत्मा में स्थिर स्थिति ही कुल धर्म है। बाहर तो धर्म के अनेक रूप भी हो जाते हैं-संसारधर्म, जीवधर्म, लोकधर्म, समाजधर्म आदि। अत: आध्यात्मिक दृष्टि से तो इनको कुलघातक ही कहा है। केवल योगी को ही कुलीन या कुल समन्वित कहते हैं। योगी प्राणों को सुषुम्ना में स्थिर करके मन को स्थिर कर लेते हैं। यही स्थिर अवस्था है।

अर्जुन ने जो कुलधर्म कहा, वह बाह्य दृष्टि से ही था। अत: उसके संदेह बने रहे थे। प्रकृति में-''चातुर्वण्र्यं मया सृष्टं गुणकर्मविभागश:' (गीता 4.13) - यह श्लोक ईश्वरीय व्यवस्था का संकेत कर रहा है। वर्णव्यवस्था कोई सामाजिक व्यवस्था नहीं है। समानता के पक्षधर इसका खूब मजाक भी उड़ाते देखे जाते हैं। वर्ण तो जड़-चेतन सभी में समान ही रहते हैं।

मनुष्य (जीव) ही कर्मानुसार विभिन्न योनियों में जाता है। वर्ण आत्मा का भाग होने से साथ जाता है। शिक्षा और नौकरी के दबाव में विवाह टलता रहता है, कामना दबती जाती है। जहां इस दबाव की सीमा समाप्त हो जाती है, वहीं वर्ण विस्मृत होकर शरीर आक्रमण कर बैठता है। आत्मा साक्षी बना रहता है।
क्रमश:

यह भी पढ़ें

शरीर ही ब्रह्माण्ड: मैं यज्ञ का परिणाम


सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

श्रीनगर में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़, एक आतंकी को लगी गोली, जवान भी घायल38 साल बाद शहीद लांसनायक चंद्रशेखर का मिला शव, सियाचिन ग्लेशियर की बर्फ में दबकर हो गए थे शहीदराष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू का देश के नाम संबोधन, कहा - '2047 तक हम अपने स्वाधीनता सेनानियों के सपनों को पूरी तरह साकार कर लेंगे'पंजाब में शुरु हुई सेहत क्रांति की शुरुआत, 75 'आम आदमी क्लीनिक' बन कर तैयार, देश के 75वें वर्षगांठ पर हो जाएंगे जनता को समर्पितMaharashtra: सीएम शिंदे की ‘मिनी’ टीम में हुआ विभागों का बंटवारा, फडणवीस को मिला गृह और वित्त, जानें किसे मिली क्या जिम्मेदारीलाखों खर्च कर गुजराती युवक ने तिरंगे के रंग में रंगी कार, PM मोदी व अमित शाह से मिलने की इच्छा लिए पहुंचा दिल्लीशेयर मार्केट के बिगबुल राकेश झुनझुनवाला की मौत ऐसे हुई, डॉक्टर ने बताई वजहBJP ने देश विभाजन पर वीडियो जारी कर जवाहर लाल नेहरू पर साधा निशाना, कांग्रेस ने किया पलटवार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.