scriptPatrika Opinion: corruption and untouchability is the biggest evil | Patrika Opinion : भ्रष्टाचार व छुआछूत सबसे बड़ा दंश | Patrika News

Patrika Opinion : भ्रष्टाचार व छुआछूत सबसे बड़ा दंश

लोकतंत्र के मंदिर में चुनकर जाने वाले जनप्रतिनिधियों के मुंह से लेकर शिक्षा के मंदिर तक में जब भ्रष्टाचार और जात-पात को बढ़ावा देने वाली बातें देखने-सुनने को मिलें तो इससे शर्मनाक क्या हो सकता है। भ्रष्टाचार व छुआछूत सामाजिक दंश बनते जा रहे हैं। शिक्षक हों या नेता, समाज में इन्हें प्रतिष्ठा तब ही मिलती है जब वे चाल, चरित्र और चेहरे को लेकर दोहरा रवैया नहीं रखें।

नई दिल्ली

Updated: December 30, 2021 12:12:22 pm

हम नई पीढ़ी को क्या संदेश देना चाह रहे हैं? लोकतंत्र के मंदिर में चुनकर जाने वाले जनप्रतिनिधियों के मुंह से लेकर शिक्षा के मंदिर तक में जब भ्रष्टाचार और जात-पात को बढ़ावा देने वाली बातें देखने-सुनने को मिलें तो यह सवाल उठना लाजिमी है। पहला उदाहरण मध्यप्रदेश के रीवा से भाजपा सांसद जनार्दन मिश्रा का है जो पंचायतों में पन्द्रह लाख रुपए तक के भ्रष्टाचार को जायज बताते हैं। इतना ही नहीं, वे इसका गणित भी समझाते हैं कि सरपंच चुनाव में सात लाख रुपए खर्च होते हैं। पहले तो सरपंच यह राशि वसूलता है और फिर इतनी ही राशि आगे चुनाव के लिए रखता है। बचे एक लाख अतिरिक्त खर्च के लिए रखता है।

corruption
corruption

इतना ही नहीं, यह कुतर्क देते हुए सांसद महोदय यहां तक कहते हैं कि पन्द्रह लाख तक के भ्रष्टाचार की शिकायत लेकर कोई आता है तो वे साफ कह देते हैं कि इतने में किसी को कुछ नहीं बोलेंगे। यानी एक तरह से वे भ्रष्टाचारियों को खुला प्रमाण पत्र दे रहे हैं। हो सकता है कि जनार्दन मिश्रा की दूसरे नेताओं की तरह यह सफाई भी आ जाए कि यह बात तो उन्होंनेे मजाक में कही थी। लेकिन जिन तक उनका यह संदेश पहुंचा है वे तो समझ ही चुके हैं कि सरपंच से राजनीतिक जीवन की शुरुआत करने वाले मिश्रा भ्रष्टाचार के मामलों को लेकर क्या राय रखते हैं। हमारे नेताओं का ऐसा आचरण ही भ्रष्टाचारियों को प्रश्रय देने के लिए काफी है। यह बनागी तो उन जनप्रतिनिधियों की है जो बेतुके बयानों से भले ही खुद को चर्चा में बनाए रखना पसंद करते हों लेकिन जनता उन्हेे उसी नजरिए से देखती है जैसी उनकी सोच रहती है।

यह भी पढ़ें

नेतृत्व: 'अनंत' खिलाड़ी बनकर खेलें

दूसरा उदाहरण उत्तराखण्ड के ग्रामीण अंचल के सरकारी स्कूल का है जहां पोषाहार कार्यक्रम में पहले सवर्ण बच्चे स्कूल में नियुक्त दलित भोजन माता (पोषाहार पकाने वाली) तथा बाद में दलित बच्चे, सवर्ण भोजन माता के हाथ से बनाया भोजन करने से इनकार कर देते हैं। एक पखवाड़े तक चला यह विवाद अब भले ही निपट गया, पर सवाल यह है कि हमारे शिक्षा के मंदिर भी जात-पात को बढ़ावा देने वाले क्यों बनने लगे हैं। छुआछूत से दूर रहने की सीख देने के बजाए शिक्षण संस्थाओं में बच्चों को यह सीख कौन दे रहा है?

यह भी पढ़ें

Patrika Opinion : खुलने लगी हैं नेताओं की निष्ठा की परतें

जाहिर है ऐसे प्रकरणों में कई बार स्थानीय राजनीति भी हावी होती दिखती है। लेकिन वर्गभेद दूर करने का जो मकसद हमारे शिक्षा मंदिरों में रहता आया है उसे पूरा करने में तो ऐसे उदाहरण बाधक ही बनते हैं। भ्रष्टाचार व छुआछूत सामाजिक दंश बनते जा रहे हैं। शिक्षक हों या नेता, समाज में इन्हें प्रतिष्ठा तब ही मिलती है जब वे चाल, चरित्र और चेहरे को लेकर दोहरा रवैया नहीं रखें।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Numerology: कम उम्र में ही अच्छी सफलता हासिल कर लेते हैं इन 3 तारीखों में जन्मे लोगहो जाइये तैयार! आ रही हैं Tata की ये 3 सस्ती इलेक्ट्रिक कारें, शानदार रेंज के साथ कीमत होगी 10 लाख से कमइन 4 राशि वाले लड़कों की सबसे ज्यादा दीवानी होती हैं लड़कियां, पत्नी के दिल पर करते हैं राजमां लक्ष्मी का रूप मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां, चमका देती हैं ससुराल वालों की किस्मतShani: मिथुन, तुला और धनु वालों को कब मिलेगी शनि के दशा से मुक्ति, जानिए डेटइन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीweather update: राजस्थान के इन जिलों में हुई बारिश, जानें आगे कैसा रहेगा मौसमतत्काल पैसों की जरुरत है? तो जानिए वो 25 बैंक जो दे रहे हैं सबसे सस्ता Personal Loan

बड़ी खबरें

भारत में कम्युनिटी ट्रांसमिशन स्टेज पर पहुंचा ओमिक्रॉन वेरिएंट - केंद्र सरकारUP Assembly Elections 2022 : पलायन और अपराध खत्म अब कानून का राज,चुनाव बदलेगा देश का भाग्य - गृहमंत्री शाहराजपथ पर पहली बार 75 एयरक्राफ्ट और 17 जगुआर का शौर्य प्रदर्शन, देखें फुल ड्रेस रिहर्सल का वीडियोहेट स्पीच को लेकर हिन्दू संगठन पहुंचा सुप्रीम कोर्ट, कहा-मुस्लिम नेताओं की भी हो गिरफ्तारीPriyanka Chopra Surrogacy baby: तस्लीमा ने वेश्यावृत्ति, बुरका से की सरोगेसी की तुलना5 मैच 4 शतक 603 रन फिर भी प्लेइंग XI से बाहर रुतुराज गायकवाड़, केएल राहुल हुए जमकर ट्रोलशिक्षकों ने टूरिस्ट प्लेस सा बना दिया सरकारी स्कूल, फर्राटेदार अंग्रेजी बोलते हैं बच्चेरोज लोगों से मिलने वाले सांसद, पूर्व सांसद, विधायक और भाजपा नेताओं को पुलिस ने कोर्ट में बताया फरार, फिर सुर्खियों में झंडा विवाद
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.