scriptPatrika Opinion : Employers have to create employment | Patrika Opinion : नियोक्ताओं को खोलने होंगे रोजगार के दरवाजे | Patrika News

Patrika Opinion : नियोक्ताओं को खोलने होंगे रोजगार के दरवाजे

फैलते कोरोना संक्रमण की मौजूदा परिस्थितियों में, खास तौर से शहरी क्षेत्रों में, रोजगार के नए अवसर तैयार करना बड़ी चुनौती के रूप में सरकारों के सामने आने वाली है। जिन राज्यों में बेरोजगारी दर अपेक्षाकृत कम रही है, उनसे राजस्थान और हरियाणा सरीखे प्रदेशों को सबक लेना होगा। जरूरत है कि सरकारें तो रोजगार के अवसर बढ़ाएं ही, निजी क्षेत्र को भी इसके लिए समुचित प्रोत्साहन दें।

नई दिल्ली

Published: January 05, 2022 03:08:40 pm

सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी (सीएमआइई) के बेरोजगारी दर को लेकर जारी किए गए आंकड़े सचमुच चिंताजनक हैं। यह चिंता इसलिए और बढ़ जाती है क्योंकि देश में कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर का प्रसार होता दिख रहा है। पिछले साल के आखिरी माह यानी दिसंबर में बेरोजगारी दर को चार माह के उच्चतम स्तर पर आंका गया है। और, चिंता की बात यह भी कि बेरोजगारी शहरी व ग्रामीण दोनों क्षेत्रों में बढ़ी है। अर्थशास्त्र के जानकार यह दिलासा देने में जरूर जुटे हैं कि मजदूरों के खेतों की ओर लौटने पर गांवों में बेरोजगारी दर कम होगी। लेकिन फैलते कोरोना संक्रमण की मौजूदा परिस्थितियों में, खास तौर से शहरी क्षेत्रों में, रोजगार के नए अवसर तैयार करना बड़ी चुनौती के रूप में सरकारों के सामने आने वाली है।

Employers have to create employment
Employers have to create employment

कोरोना की पिछली दो लहरों के दौर में बड़ी संख्या में लोगों को रोजगार से हाथ धोना पड़ा था, यह तथ्य किसी से छिपा नहीं है। एक बात जरूर है कि जहां रोजगार के अवसरों का सृजन हुआ वहां बेरोजगारी दर कम भी हुई है। ओडिशा, मध्यप्रदेश व छत्तीसगढ़ इसके उदाहरण हैं। इसलिए बेरोजगारी बढऩे के पीछे कोरोना को ही वजह बताना एक बहाना ही कहा जा सकता है।

राजस्थान के पड़ोस में मध्यप्रदेश व गुजरात सरीखे राज्य बेरोजगारी दर कम रखने में कामयाब हुए हैं तो हरियाणा के बाद दूसरे नंबर पर रहते हुए राजस्थान में बेरोजगारी दर में उछाल आया है। यह बताता है कि बेरोजगारी दर बढऩे वाले राज्यों में न केवल सरकारी बल्कि निजी क्षेत्र में भी रोजगार के दरवाजे खोलने में नियोक्ताओं ने कंजूसी ही बरती। डिग्री, हुनर व काबिलियत के बावजूद युवाओं को रोजगार की तलाश में भटकना पड़े तो सरकारी नीतियों की खामी को ही जिम्मेदार ठहराया जा सकता है।

यह भी पढ़ें

Patrika Opinion : भ्रष्टाचार व छुआछूत सबसे बड़ा दंश

बढ़ती आबादी ने शहरी इलाकों में पहले ही रोजगार के अवसर कम किए हैं, वहीं गांवों से भी पलायन नहीं रोक पाना इस समस्या को और बढ़ाने वाला रहा है। चिंता की बात यही है कि राजनीतिक दल अपने चुनाव घोषणा-पत्रों में रोजगार के अवसर बढ़ाने के लम्बे-चौड़े दावे करते हैं लेकिन सत्ता में आने के बाद इन्हें बिसरा देते हैं। सरकारी क्षेत्रों में नौकरी के अवसरों को तो जैसे ग्रहण-सा लग जाता है। प्रतियोगी परीक्षाओं में विलम्ब, अदालती विवादों के चलते सरकारें अपने यहां खाली पदों को भी नहीं भर पातीं। ऐसे में रोजगार के अवसर बढ़ाने की बात कागजी ही साबित होती है।

यह भी पढ़ें

Patrika Opinion : देश हित से जुड़े मसलों पर टकराव उचित नहीं

जिन राज्यों में बेरोजगारी दर अपेक्षाकृत कम रही है, उनसे राजस्थान और हरियाणा सरीखे प्रदेशों को सबक लेना होगा। जरूरत है कि सरकारें तो रोजगार के अवसर बढ़ाएं ही, निजी क्षेत्र को भी इसके लिए समुचित प्रोत्साहन दें।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

हार्दिक पांड्या ने चुनी ऑलटाइम IPL XI, रोहित शर्मा की जगह इसे बनाया कप्तानVIDEO: राजस्थान में 24 घंटे के भीतर बारिश का दौर शुरू, शनिवार को 16 जिलों में बारिश, 5 में ओलावृष्टिName Astrology: अपने लव पार्टनर के लिए बेहद लकी मानी जाती हैंधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजप्रदेश में कल से छाएगा घना कोहरा और शीतलहर-जारी हुआ येलो अलर्टEye Donation- बेटी को जन्म दे, चल बसी मां, लेकिन जाते-जाते दो नेत्रहीनों को दे गई रोशनीयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

क्या सच में बुझा दी गई अमर जवान ज्योति? केंद्र सरकार ने दिया जवाबVideo: बॉम्बे हाई कोर्ट के जज के चैंबर में मिला 5 फीट लंबा सांप, वन विभाग की टीम ने किया रेस्क्यूदिल्ली उपराज्यपाल ने आप सरकार के प्रस्ताव को किया खारिज, वीकेंड कर्फ्यू हाटने और प्रतिबंधों में ढील से इनकारUP Assembly Elections 2022 : एकाएक राजनीति में उतरकर इन महिलाओं ने सबको चौंकाया, बटोरी सुर्खियांभारत के इलेक्ट्रिक वाहन बाजार में Adani Group की हो सकती है धमाकेदार एंट्री, कंपनी ने ट्रेडमार्क किया दायरशहीद हेमू कालाणी: आज भी हैं युवा वर्ग के लिए आदर्शDriving License पर पता बदलने के लिए अब नहीं पड़ेगी RTO के चक्कर लगाने की जरूरत, मिनटों में समझे प्रोसेसइंडिया गेट पर जहां लगेगी सुभाष चंद्र बोस की मूर्ति, जानिए वहां पहले किसकी थी प्रतिमा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.