scriptPatrika Opinion: Local languages ​​should not be Neglected | Patrika Opinion: न होने पाए स्थानीय भाषाओं की उपेक्षा | Patrika News

Patrika Opinion: न होने पाए स्थानीय भाषाओं की उपेक्षा

Patrika Opinion: हिंदी और संस्कृत समेत सभी भाषाओं के लिए यथोचित महत्त्व के अनुरूप कदम उठाए जाएं। दक्षिणी राज्यों और महाराष्ट्र को तो सराहना चाहिए कि वे अपनी स्थानीय भाषाओं के प्रति इतने जागरूक हैं। विशेषकर इसलिए कि कई राज्यों में स्थानीय भाषाएं अस्तित्व का संकट झेल रही हैं। इसके लिए जागरूकता पूरे देश में होनी चाहिए, ताकि सभी स्थानीय भाषाएं पल्लवित होती रहें।

Updated: January 22, 2022 02:03:21 pm

Patrika Opinion: अपना देश विविध भाषाओं व विभिन्न संस्कृतियों से मिलकर बना देश है। इसका अर्थ है कि देश के लिए इन सभी भाषाओं व संस्कृतियों के बने रहने के साथ यह भी जरूरी है कि सब भाषाओं को समुचित सम्मान मिले और कहीं भाषाई द्वंद्व की स्थिति न पनपने पाए। द्वंद्व की स्थिति तो नहीं, पर विरोध के कुछ हालात कर्नाटक में उपजे हैं, जहां कन्नड़ संगठनों को लग रहा है कि स्थानीय भाषा कन्नड़ की उपेक्षा की जा रही है। इसके पक्ष में उनके पास प्रमाण भी हैं कि वहां हम्पी स्थित कन्नड़ विश्वविद्यालय लंबे समय से घोर वित्तीय संकट से जूझ रहा है।
न होने पाए स्थानीय भाषाओं की उपेक्षा
न होने पाए स्थानीय भाषाओं की उपेक्षा
सरकार इसे वित्तीय मदद देने से लगातार परहेज कर रही है। इसी तरह कन्नड़ शाीय केंद्र को अपना भवन देने की कन्नड़ संगठनों की मांग भी लगातार दरकिनार हो रही है। दुर्भाग्यजनक परिणाम यह है कि वहां संस्कृत भाषा को तिरछी नजर का सामना करना पड़ रहा है। इस तरह की स्थिति दक्षिण राज्यों में हिंदी को लेकर भी देखी जा चुकी है।

हिंदी और संस्कृत देश की प्रमुख भाषाएं हैं। इन पर पूरा ध्यान दिया जाना चाहिए, लेकिन इसका तरीका ऐसा होना चाहिए कि कहीं यह महसूस न हो कि उनकी अपनी भाषा को कुचलकर या उनकी कीमत पर इन्हें बढ़ावा देने की कोशिश हो रही है। इन्हें बलपूर्वक या दूसरी भाषाओं की जाने-अनजाने उपेक्षा कर लागू करने से हल नहीं निकलेगा। इससे तो उलटे इनका नुकसान होगा और स्थानीय नागरिकों की नजर में बैरी का भाव उपजेगा, जैसा कि कर्नाटक में इस समय हो रहा है।

यह भी पढ़ें

महामारी का वज्रपात और संवेदनहीनता

ऐसे हालात न पनपने पाएं, इसका तरीका यही है कि हिंदी और संस्कृत समेत सभी भाषाओं के लिए यथोचित महत्त्व के अनुरूप कदम उठाए जाएं। दक्षिणी राज्यों और महाराष्ट्र को तो सराहना चाहिए कि वे अपनी स्थानीय भाषाओं के प्रति इतने जागरूक हैं। विशेषकर इसलिए कि कई राज्यों में स्थानीय भाषाएं अस्तित्व का संकट झेल रही हैं। इसके लिए जागरूकता पूरे देश में होनी चाहिए, ताकि सभी स्थानीय भाषाएं पल्लवित होती रहें।

क्या ही अच्छा हो कि सभी, केंद्र और राज्य सरकारें और आगे बढ़कर इन स्थानीय भाषाओं की खूबियों, उनमें निहित साहित्य, साहित्यकारों व अन्य क्षेत्रों की प्रबुद्ध हस्तियों, समृद्धि, जानकारियों व विचारों को अन्य भाषाओं तक पहुंचाने के उपाय भी करें।

सभी राज्यों की भाषाओं में विलक्षणता के ऐसे तत्त्व हैं, जिनकी जानकारी आपस में साझा होने से ज्ञानवर्धन होगा और आपसी भाईचारा व सम्मान बढ़ेगा। कई ऐसे प्रसंग व उदाहरण मिलेंगे, जो दूसरे राज्यों के शैक्षणिक पाठ्यक्रमों का हिस्सा बनकर प्रेरणा के स्रोत बनने में सक्षम होंगे। ऐसी प्रेरणा देश को स्थायी तौर पर एकजुट करने में कारगर होगी।

यह भी पढ़ें

अदालत तक क्यों जाएं सदन के मामले

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

किसी भी महीने की इन तीन तारीखों में जन्मे बच्चे होते हैं बेहद शार्प माइंड, लाइफ में करते हैं बड़ा कामपैदाइशी भाग्यशाली माने जाते हैं इन 3 राशियों के बच्चे, पिता की बदल देते हैं तकदीरइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथ7 दिनों तक मीन राशि में साथ रहेंगे मंगल-शुक्र, इन राशियों के लोगों पर जमकर बरसेगी मां लक्ष्मी की कृपादो माह में शुरू होने वाला है जयपुर में एक और टर्मिनल रेलवे स्टेशन, कई ट्रेनें वहीं से होंगी शुरूपटवारी, गिरदावर और तहसीलदार कान खोलकर सुनले बदमाशी करोगे तो सस्पेंड करके यही टांग कर जाएंगेआम आदमी को राहत, अब सिर्फ कमर्शियल वाहनों को ही देना पड़ेगा टोल15 जून तक इन 3 राशि वालों के लिए बना रहेगा 'राज योग', सूर्य सी चमकेगी किस्मत!

बड़ी खबरें

IPL 2022 LSG vs KKR : डिकॉक-राहुल के तूफान में उड़ा केकेआर, कोलकाता को रोमांचक मुकाबले में 2 रनों से हरायानोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेरपुलिस में मामला दर्ज, नाराज कांग्रेस विधायक का इस्तीफा, जानें क्या है पूरा मामलाडिकॉक-राहुल ने IPL में रचा इतिहास, तोड़ डाला वार्नर और बेयरेस्टो का 4 साल पुराना रिकॉर्डDelhi LG Resigned: दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल ने दिया इस्तीफा, निजी कारणों का दिया हवालाIndia-China Tension: पैंगोंग झील पर बॉर्डर के पास दूसरा पुल बना रहा चीन, सैटेलाइट इमेज से खुलासाWatch: टेक्सास के स्कूल में भारतीय अमेरिकी छात्र का दबाया गला, VIDEO देख भड़की जनताHeavy rain in bangalore: तेज बारिश से दो मजदूरों की मौत, मुख्यमंत्री ने की मुआवजे की घोषणा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.